चंडीगढ़, 11 मार्च:
 सिमरनजीत कौर ओलंपिक खेल के लिए क्वालीफ़ाई होने वाली पहली पंजाबी महिला मुक्केबाज़ बन गई है। पंजाब से वह एकमात्र मुक्केबाज़ थी जो भारतीय टीम में चुनी गई थी। वह अब टोकियो ओलंपिक खेल-2020 में भारत का प्रतिनिधित्व करेगी।
पंजाब के खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी और सामाजिक सुरक्षा, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अरुणा चौधरी ने मुक्केबाज़ सिमरनजीत कौर को ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए मुबारकबाद दी है।यहाँ जारी बयान में राणा सोढी ने कहा कि सिमरनजीत कौर बाठ ने भारतीय मुक्केबाज़ी में पंजाबियों का गौरव बढ़ाया है। उसने क्वार्टर फ़ाईनल में विश्व की नंबर दो मुक्केबाज़ मंगोलिया की नमोनखोर को 5-0 अंकों से हराकर टोकियो की ओलंपिक खेल के लिए टिकट पक्की कर ली है। इसके बाद उसने सेमीफाइनल मुकाबला भी जीत लिया। राणा सोढी ने सिमर को ओलंपिक खेल की तैयारी के लिए शुभकामनाएँ देते हुए आशा अभिव्यक्त की कि टोकियो ओलम्पिक्स में भी वह राज्य और देश का नाम रौशन करेगी।इसी दौरान अरुणा चौधरी ने सिमर चकर को ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए मुबारकबाद दी है। उन्होंने कहा कि सिमर ने पंजाबी महिलाओं का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चमकाया है जिस पर पूरे राज्य को गर्व है। उन्होंने कहा कि यह पंजाबियों और ख़ासकर महिलाओं के लिए गर्व वाली बात है।
सिमर चकर के नाम से जानी जाती यह 24 साल की मुक्केबाज़ लुधियाना जि़ले के गाँव चकर की रहने वाली है। 2008 से उसने चकर की शेरे पंजाब स्पोर्टस अकैडमी से मुक्केबाज़ी सीखनी शुरू की थी। सिमर ने 2018 में विश्व बॉक्सिंग चैंपियनशिप दिल्ली में से काँस्य पदक जीतकर अपने गाँव चकर को चर्चा में लाया था।
---------

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.