आज लगभग 40 दिनों के बाद लाकडाऊन के दौरान कुछ छुट लोगों को दी गई। कुछ समय दुकानें खोली गई ताकि लोग अपनी जरूरतों के सामान की खरीददारी कर सके। ऐसे समय में एक तस्वीर देखने को मिली जिसमें एक बच्चा गुबारे लेकर सडक़ के किनारे बेचने के लिए जा रहा था, जिसके मन में शायद यही आवाज सुनाई दे रही थी कि हमें नहीं पता कोरोना क्या होता है, हमें तो सिर्फ रोटी चाहिए।
फोटो व विवरण

मनप्रीत सिंह
होशियारपुर।

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.