चंडीगढ़, 19 जनवरी: गाँवों के सर्वपक्षीय विकास को यकीनी बनाने के लिए स्मार्ट विलेज मुुहिम (एस.वी.सी.) के दूसरे चरण के अंतर्गत पंजाब सरकार ने राज्य भर के सभी 22 जिलों की 13,265 पंचायतों को 3445.14 करोड़ रुपये के फंड जारी किये हैं। इसमें से एस.वी.सी. के अंतर्गत 1603.83 करोड़ रुपए जारी किये गए हैं जबकि 14वें वित्त आयोग के अधीन 1539.91 करोड़ रुपये अलॉट किये गए हैं और 15वें वित्त आयोग के अंतर्गत 301.4 करोड़ रुपये का वितरण किया गया है।जिक्रयोग्य है कि ग्रामीण क्षेत्रों के सर्वपक्षीय विकास को यकीनी बनाने के मकसद से मौजूदा ढांचे की अपग्रेडेशन के लिए एस.वी.सी. के दूसरे चरण के दौरान 2775 करोड़ रुपये की लागत से 48,910 के विकास कार्य शुरू किये जा रहे हैं।जिला स्तर पर फंडों के वितरण सम्बन्धी जानकारी देते हुये सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि सबसे अधिक (1405) पंचायतों वाले होशियारपुर जिले को 246.01 करोड़ रुपये और 1279 पंचायतों वाले गुरदासपुर जिले को 435.88 करोड़ रुपये के फंड जारी किये गए हैं। इसी तरह 1038 पंचायतों वाले पटियाला जिले को 150.39 करोड़ रुपये और 941 पंचायतों वाले लुुधियाना जिले को 231.58 करोड़ रुपये अलाट किये गए हैं। इसी तरह जालंधर ( 898 पंचायतों) को 172.94 करोड़ रुपये जबकि कुल 860 पंचायतों वाले अमृतसर जिले को 191.24 करोड़ रुपये रखे गए हैं।इसी तरह फिरोजपुुर जिले में पड़ती 838 पंचायतों के लिए 134.8 करोड़ रुपये मुुहैया करवाए गए हैं जबकि रूपनगर की 611 पंचायतों में बुनियादी ढांचे के विकास के लिए 100.71 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसके इलावा अलग-अलग विकास कामों के लिए जिला संगरूर की 600 पंचायतों के लिए 204.36 करोड़ रुपये रखे गए हैं, तरन तारन की 573 पंचायतों के लिए 200.85 करोड़ की राशि जारी की गई है। इसी तरह कपूरथला (546 पंचायतों) को विकास प्रोजेक्टों के लिए 95.66 करोड़ रुपये, एस.बी.एस. नगर में 466 पंचायतों के लिए 126.88 करोड़ रुपये, फाजिल्का की 434 पंचायतों को 138.86 करोड़ रुपये, पठानकोट (421 पंचायतों) को 89.55 करोड़, फतेहगढ़ साहिब पंचायतों) के लिए 74.15 करोड़ रुपये, एस.ए.एस. नगर में 341 पंचायतों के विकास के लिए 120.63 करोड़ रुपये, मोगा (340 पंचायतों) के लिए 140.27 करोड़ रुपये और 314 पंचायतों वाले बठिंडा जिले के लिए 182.86 करोड़ रुपये के फंड मुुहैया करवाए गए हैं।प्रवक्ता ने और जानकारी देते हुये बताया कि श्री मुुक्तसर साहिब की 269 पंचायतों के विकास के लिए  131.65 करोड़ रुपए, मानसा में 245 पंचायतों के अलग अलग विकास प्रोजेक्टों/योजना के लिए 112.3 करोड़ रुपये अलाट किये गए हैं। इसी तरह फरीदकोट की 243 पंचायतों के लिए 95.56 करोड़ रुपये उपलब्ध करवाए गए हैं जबकि बरनाला जिले के अधिकार क्षेत्र में पड़ती 175 पंचायतों में 68.01 करोड़ रुपये की लागत से विकास कार्य करवाए जाएंगे।बताने योग्य है कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की तरफ से पहले चरण के सफलतापूर्वक लागू होने के बाद 17 अक्तूबर, 2020 को एस.वी.सी. के दूसरे चरण की शुरूआत की गई थी, जोकि साल 2019 में कुल 835 करोड़ रुपये की लागत वाले 19,132 कामों के लिए चलाई गई थी। स्मार्ट विलेज मुहिम के पहले चरण में तलाबों का नवीनीकरन, स्ट्रीट लाईटों, पार्क, जिमनेजियम, कम्युनिटी हाल, पीने वाले साफ पानी की सप्लाई, मॉडल आंगणवाड़ी केंद्र, स्मार्ट स्कूल और सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट आदि शामिल हैं। इसी तरह सुखद माहौल मुहैया करवा के पंजाब के गाँवों को आत्म-निर्भर बनाया जा सकेगा।



Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.