[post ads]

सभी वरिष्ठ नागरिकों को लगाया जाएगा टीका

सह-रोगों से पीडि़त 45 से 60 साल तक की उम्र के व्यक्ति भी लगवा सकेंगे टीका

पहलें रजिस्ट्रेशन करवाना ज़रूरी नहीं; प्री-रजिस्टर करवाओ या सीधे अस्पताल पहुंचें 

सरकारी अस्पतालों में मुफ़्त लगाया जाएगा टीका; प्राईवेट अस्पताल टीके की प्रति ख़ुराक के लिए 250 रुपए तक वसूल सकेंगे

चंडीगढ़, 28 फरवरी: स्वास्थ्य मंत्री स. बलबीर सिंह सिद्धू ने आज यहाँ बताया कि कोविड-19 टीकाकरण का तीसरा पड़ाव राज्य भर में 1 मार्च से शुरू हो रहा है।इस पड़ाव में 60 साल से अधिक उम्र के बुज़ुर्गों और सरकार द्वारा दिए गए निर्देश के अनुसार सह-रोगों से पीडि़त 45 से 59 साल तक की उम्र के व्यक्तियों का टीकाकरण किया जाएगा। उनको सह-रोगों संबंधी रजिस्टर्ड मैडीकल प्रैक्टिशनर से प्रमाण देना ज़रूरी होगा।टीकाकरण के इस पड़ाव में टीकाकरण के लिए पहले रजिस्ट्रेशन करवाना लाजि़मी नहीं है और टीका लगवाने के इच्छुक व्यक्ति इसके लिए प्री-रजिस्टर कर सकते हैं या टीकाकरण के लिए सीधे पहुंच कर सकते हैं। हालाँकि यह सलाह दी जाती है कि वरिष्ठ नागरिक टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य संस्था में इन्तज़ार के समय से बचने के लिए पहले रजिस्टर करवा सकते हैं। उन्होंने कहा कि सरकारी अस्पतालों में टीका मुफ़्त लगाया जाएगा जबकि प्राईवेट अस्पतालों को टीके की प्रति ख़ुराक के लिए 150 रुपए वसूल करने के लिए अधिकृत किया गया है और वह सेवा प्रबंधन खर्च के तौर पर 100 रुपए अतिरिक्त वसूल सकते हैं। इस दौरान, स्वास्थ्य कर्मचारियों और फ्रंटलाईन कर्मचारियों के लिए टीकाकरण इस दौर के साथ-साथ जारी रहेगा चाहे कि वह पहले रजिस्टर्ड नहीं हुए फिर भी वह इन टीकाकरण स्थान पर जाकर टीका लगवा सकते हैं।  


चंडीगढ़, 26 फरवरी: राजस्व पटवारी,  (नहरी पटवारी) और जि़लेदार के 1152 पदों के लिए उम्मीदवारों से ऑनलाईल अजिऱ्यों की माँग की गई थी। अब बोर्ड द्वारा इन पदों के लिए 02 मई 2021 दिन रविवार को लिखित परीक्षा ली जाएगी। उक्त जानकारी आज यहाँ एस.एस.एस. बोर्ड के चेयरमैन रमन बहल ने दी।बहल ने बताया कि इन पदों के लिए लगभग दो लाख चौंतिस हज़ार (2,34,000) उम्मीदवारों द्वारा अप्लाई किया गया है। यह भर्ती प्रक्रिया दो परीक्षा पड़ावों में मुकम्मल होगी। उन्होंने बताया कि पहली परीक्षा में कैटागरी वाईज़ पदों की संख्या के ऊपरी मेरिट में आने वाले 10 गुना उम्मीदवारों की दूसरे चरण की परीक्षा ली जाएगी।बहल ने बताया कि माननीय मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की सरकार की निष्पक्ष, पारदर्शिता और घर-घर रोजग़ार की नीति पर पहरा देते हुए बोर्ड द्वारा भर्ती में आधुनिक तकनीक जैसे जैमर, बायोमैट्रिक, वीडियोग्राफी आदि की मदद से परीक्षाओं को पारदर्शिता के साथ पूरा किया जाएगा और भर्ती केवल मैरिट के आधार पर ही की जाएगी। उन्होंने उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा में सफल होने के लिए सख़्त मेहनत करने का सुझाव देते हुए उनकी सफलता की कामना की है। लिखित परीक्षा का समय, परीक्षा केंद्र, लिखित परीक्षा में उपस्थित होने के लिए अपेक्षित ऐडमिट कार्ड/रोल नंबर, परीक्षा के नियम/शर्तें/हिदायतें और अन्य जानकारी बाद में सिफऱ् बोर्ड की वैबसाईट पर उपलब्ध करवाई जाएगी।



श्री मुक्तसर साहिब : शिक्षा विभाग की अफसरशाही पर मिशन शतप्रतिशत का भूत इस कद्र सवार है कि विभाग के अधिकारियों ने पहले तो उक्त मिशन की प्राप्ति के लिए प्रत्येक अध्यापक को बोर्ड की कक्षाओं में कम - कम 5 बच्चे गोद लेने को कहा गया अब नया फरमान जारी किया गया है कि हर अध्यापक सुबह होने से पहले बच्चों को सोते हुए जगा कर पढने के लिए प्रेरित करेगा और किये गए फोन का रिकार्ड गूगल शीट में भी दर्ज करेगा। इन आदेशों के पालन के लिए स्कूल मुखियों द्वारा भी फुर्ती दिखाते हुए इस संदेश को अपने अधीन स्कूल अध्यापकों के पास भेज दिया गया है। अध्यापकों के प्रतिनिधि संगठन डेमोेक्रेटिक टीचर्ज फ्रंट ने उक्त नादरशाही आदेशों का तीव्र विरोध करते हुए बताया कि विभाग की अफसरशाही अध्यापकों के साथ बंधुआ मज़दूरों की तरह व्यवहार कर रही है। संगठन के जिला प्रधान लखवीर सिंह हरीके और जिला सचिव राम स्वर्ण लक्खेवाली ने कहा कि साल भर विभाग की तरफ से केवल परीक्षा लेने की कवायद ही जारी रखी गई है या फिर जूम मीटिंग कर के पुरानी दाल को बार -बार नया तडका लगा कर पेश किया जा रहा है। अध्यापक स्कूल में उपस्थित होने के बावजूद भी अपनी इच्छा के अनुसार बच्चों को पढाई नहीं करा सकते। अध्यापक नेताओं ने बताया कि स्कूल पूरी तरह खुले होने के बावजूद भी आन लाईन शिक्षा पर ज़ोर देकर विभाग सीखने की प्रक्रि या में अध्यापक की भूमिका को घटाता जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि विभाग के मंत्री और शिक्षा सचिव की तरफ से संगठन के साथ डैपूटेशन दौरान अध्यापकों की जायज मांगें मानने के बावजूद कोई फैसला लागू नहीं किया जा रहा। इस बार तबादला नीति में अनेकों मिडिल और हाई स्कूलों के खाली स्टेशनों को दिखाया नहीं गया जिस कारण अनेकों जरूरतमंद अध्यापक तबादले के हक से वंचित रहेंगे। अध्यापक वर्ग में इस तरह की धक्केशाहियों के खिलाफ सख्त रोश है। नेताओं ने फरवरी की पुरानी पैंशन प्राप्ति रैली में पटियाला में डी. टी. एफ. की प्रांतीय कमेटी की तरफ से किये फैसले अनुसार बडी संख्या में शामिल होने का फैसला किया है। इस मौके जिला वित्त सचिव मनोज बेदी,लम्बी ब्लाक के प्रधान कुलदीप शर्मा, मलोट के प्रधान वरिन्दर बहल, गिद्दडबाहा के प्रधान राजविन्दर सिंह प्योरी, मुक्तसर 1 के प्रधान नरिन्दर बेदी, मुक्तसर 2 के प्रधान बूटा सिंह वाकिफ, दोदा के प्रधान परिमन्दर खोखर, जिला कमेटी मैंबर हरबंस लाल सुखना, परिमन्दर हरीके, सुरिन्दर सेतिया, गुरजीत सोढी, जगदीप बिट्टू, वरिन्दर जीत बिट्टा, बलविन्दर दौला, तरसेम बनवाला, राजेश कामरा व नीरज बजाज भी मौजूद थे।



चंडीगढ़, 25 फरवरीपंजाब के जल संसाधन विभाग द्वारा रबी की फसलों के लिए 26 फरवरी से 5 मार्च, 2021 तक नहरों में पानी छोडऩे का प्रोग्राम जारी किया गया है। सरहिन्द कैनाल सिस्टम की नहरों जैसे पटियाला फीडर, अबोहर ब्रांच, बठिंडा ब्रांच, बिस्त दोआब नहर और सिद्धवां ब्रांच क्रमवार पहली, दूसरी, तीसरी, चौथी और पाँचवी प्राथमिकता के आधार पर चलेंगी।इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए जल संसाधन विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि घग्गर लिंक और इसमें से निकलने वाली नहरें जैसे कि घग्गर ब्रांच और पटियाला माइनर, जो ग्रुप ‘बी’ में हैं को पहली प्राथमिकता के आधार पर पूरा पानी दिया जाएगा, जबकि भाखड़ा मेन लाईन (बी.एम.एल.) की सीधी नहरें जो ग्रुप ‘ए’ में हैं, को दूसरी प्राथमिकता के आधार पर बाकी बचे पानी की सप्लाई दी जाएगी।प्रवक्ता ने आगे बताया कि हरीके सिस्टम के ग्रुप ‘बी’ की नहरों को पहली प्राथमिकता के आधार पर पूरा पानी मिलेगा और ग्रुप ‘ए’ की नहरों को दूसरी प्राथमिकता के आधार पर बाकी बचता पानी मिलेगा।उन्होंने आगे बताया कि अप्पर बारी दोआब कैनाल में से निकलने वाली मेन ब्रांच लोअर और इसमें से निकलने वाले रजबाहों को पहल के आधार पर पूरा पानी दिया जाएगा, जबकि लाहौर ब्रांच, सभराओं ब्रांच और कसूर ब्रांच लोअर और इनके रजबाहों को क्रमवार बाकी बचता पानी मिलेगा।



चंडीगढ़, 25 फरवरी:अमृतसर की रहने वाली एक घरेलू गृहिणी द्वारा $खरीदी गई पंजाब सरकार की 100 रुपए की लॉटरी टिकट ने उसकी किस्मत बदल दी है। रेनू चौहान ने पंजाब स्टेट डियर 100+ लॉटरी का एक करोड़ रुपए का पहला इनाम जीता है। इस हर महीने निकलने वाली लॉटरी की ख़ुशनसीब विजेता रेनू ने आज यहाँ पंजाब राज्य लॉटरीज़ विभाग के अधिकारियों के पास टिकट और अन्य ज़रुरी दस्तावेज़ जमा करवा दिए हैं। पहला इनाम जीतने के बाद बहुत खुश नजऱ आ रही रेनू ने कहा कि यह इनाम उसके मध्यवर्गीय परिवार के लिए वित्तीय राहत देने वाला है। उन्होंने कहा कि उसका पति अमृतसर में कपड़े की दुकान चलाता है और यह इनामी राशि उनकी जि़ंदगी को आर्थिक पक्ष से और अधिक सुविधाजनक बनाएगी। पंजाब राज्य लॉटरीज़ विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि पंजाब स्टेट डियर 100+ लॉटरी का ड्रा 11 फरवरी, 2021 को निकाला गया था और पहला इनाम टिकट नं. डी-12228 पर निकला था। उन्होंने बताया कि रेनू ने इनामी राशि के लिए आज दस्तावेज़ जमा करवा दिए हैं और जल्द ही इनामी राशि उनके खाते में डाल दी जाएगी।



828 सूचीबद्ध अस्पतालों में 1579 ट्रीटमेंट पैकेजिस के लिए दूसरे और तीसरे दर्जे की इलाज सेवाएं प्रदान की जा रहीं
योग्य लाभपात्रियों को 650 करोड़ रुपए की लागत के साथ 5.71 लाख नकद-रहित इलाज सेवाएं मुहैया करवाई

चंडीगढ़, 22 फरवरीः पंजाब के सभी जिलों में समूह लाभपात्रियों को सरबत स्वास्थ्यबीमा योजना (एस.एस.बी.वाई.) के अंतर्गत ई-कार्ड जारी करने के उद्देश्य से स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने आज यहाँ 22 फरवरी से 28 फरवरी तक हफ्ता भर चलने वाली मुहिम की शुरुआत की। यहाँ जारी एक प्रैस बयान में इस सम्बन्धी जानकारी देते हुये स. सिद्धू ने बताया कि एक निश्चित समय-सीमा के अंदर सभी लाभपात्रियों को ई-कार्ड जारी करने का उद्देश्य तभी पूरा हो सकता है अगर हम ई-कार्ड बनाने की गतिविधियों की रफ्तार में तेजी लाने के लिए सभी संभव ढंगों की जांच करते हैं और सभी प्लेटफार्मों का प्रयोग करते हैं। उन्होंने कहा ई-कार्ड बनाने के कार्य में तेजी लाने को यकीनी बनाने के लिए सिवल सर्जन और सीनियर मैडीकल अफसरों की निगरानी अधीन गाँव और ब्लाक स्तर पर व्यापक ई-कार्ड जनरेशन कैंप लगाए गए हैं।सरबत सेहत बीमा योजना की मौजूदा स्थिति पर रौशनी डालते हुये स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि इस स्कीम के अधीन 828 सूचीबद्ध अस्पतालों (सरकारी 208, प्राईवेट 587 और भारत सरकार 33) में 1579 ट्रीटमेंट पैकेजिस के लिए दूसरे और तीसरे दर्जे (मल्टी स्पैशलिस्ट अस्पतालों में मिलने वाली इलाज सेवाओं) की इलाज सेवाएं मुहैया करवाई जा रही हैं। इस योजना के अधीन अब तक 23 लाख परिवारों के 49,26,863 ई-कार्ड बनाऐ गए हैं और ई-कार्ड बनाने की मुहिम में तेजी लाने के लिए जिला प्रशासन के साथ तालमेल के जरिये एक अभ्यास चलाया जा रहा है।उन्होंने आगे बताया कि इस स्कीम के योग्य लाभपात्रियों को 650 करोड़ रुपए की लागत के साथ 5,71,924 नकद रहत इलाज सेवाएं प्रदान की गई हैं।स. सिद्धू ने कहा कि योग्य लाभपात्री अपना ई-कार्ड बनवाने के लिए उचित पहचान दस्तावेजों के साथ अपने नजदीकी कामन सर्विस सैंटर (सी.ऐस.सी.) या सेवा केन्द्रों या मार्केट कमेटियों तक पहंच करें जिससे उनको 5 लाख रुपए तक की नकद रहित इलाज सेवाओं का लाभ मिल सके।जिन लाभपात्रियों के पास पारिवारिक दस्तावेज नहीं हैं, को राहत प्रदान करते हुये स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वह सरपंच/नगर काऊंसलर के द्वारा तस्दीक किया हुआ पारिवारिक घोषणा पत्र सी.एस.सीज, सेवा केन्द्रों या मार्केट कमेटियों में देना होगा। उन्होंने कहा कि इसलिए फार्म वैबसाईट  www.sha.punjab.gov.in.  पर उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि इस योजना के अधीन पंजाब के 39.57 लाख परिवारों को प्रति परिवार सालाना 5 लाख रुपए का सेहत बीमा कवर मुहैया करवाया जा रहा है। लाभपात्री परिवारों में स्मार्ट राशन कार्ड धारक, एस.ई.सी.सी. परिवार, जे-फार्म धारक किसान, रजिस्टर्ड निर्माण श्रमिक, छोटे व्यापारी और मान्यता प्राप्त और पीले कार्ड धारक पत्रकार शामिल हैं।
उपरोक्त केन्द्रों की सूची देखने और अपनी योग्यता की जांच के लिए कोई भी व्यक्ति अधिकारत www.sha.punjab.gov.in.  पर जा सकता है।

ਕੋਰੋਨਾ ਦੇ ਵਧਦੇ ਮਾਮਲਿਆਂ ਨੂੰ ਦੇਖ ਦੇ ਹੋਏ ਐਸ.ਐਸ.ਪੀ ਡੀ.ਸੁਡਰਵਿਲੀ ਸ੍ਰੀ ਮੁਕਤਸਰ ਸਾਹਿਬ ਨੇ ਕੀਤੀ ਸਖਤੀ 

ਸ੍ਰੀ ਮੁਕਤਸਰ ਸਾਹਿਬ 23 ਫ਼ਰਵਰੀ : ਪੰਜਾਬ ਵਿੱਚ ਕਰੋਨਾ ਵਾਇਰਸ ਬਿਮਾਰੀ ਦੇ ਫਿਰ ਤੋਂ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਵਧਦੇ ਦੇਖਦੇ ਹੋਏ ਡੀ.ਸੁਡਰਵਿਲੀ ਆਈ.ਪੀ.ਐਸ. ਐਸ.ਐਸ.ਪੀ ਸ੍ਰੀ ਮੁਕਤਸਰ ਸਾਹਿਬ ਵੱਲੋਂ ਸਖਤੀ ਕਰਨ ਦੇ ਆਦੇਸ਼ ਜਾਰੀ ਕੀਤੇ ਹਨ। ਐਸ.ਐਸ.ਪੀ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਜਿਲ੍ਹਾਂ ਅੰਦਰ ਕਰੋਨਾ ਵਾਇਰਸ ਬਿਮਾਰੀ ਦੇ ਵੱਧਦੇ ਮੱਦੇਨਜ਼ਰ ਕੋਰੋਨਾ ਦੇ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦੇ ਗਿਣਤੀ ਤੇਜ਼ੀ ਨਾਲ ਵੱਧ ਰਹੀ ਹੈ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਇਸ ਗੱਲ ਨੂੰ ਗਭੀਰਤਾ ਨਾਲ ਲੈਦੇ ਹੋਏ ਜੇਕਰ ਕੋਈ ਵਿਅਕਤੀ ਘਰ ਤੋਂ ਬਾਹਰ ਬਿਨ੍ਹਾਂ ਮਾਸਕ ਪਾਏ ਨਿਕਲੇਗਾ ਤਾਂ ਉਸ ਤੇ ਮਾਸਕ ਦੇ ਚਲਾਨ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ ਬਣਦੀ ਕਾਨੂੰਨੀ ਕਾਰਵਾਈ ਕੀਤੀ ਜਾਵੇਗੀ।ਉਨ੍ਹਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਪੁਲਿਸ ਵੱਲੋਂ ਬਿਨ੍ਹਾਂ ਮਾਸਕ ਪਾਏ ਘੁੰਮਣ ਵਾਲਿਆ ਤੇ ਤਿੱਖੀ ਨਜ਼ਰ ਰੱਖੀ ਜਾ ਰਹੀ ਹੈ। ਐਸ.ਐਸ.ਪੀ ਨੇ ਦੱਸਿਆਂ ਹੈ ਕਿ ਸਾਡੇ ਵੱਲੋਂ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਕਰੋਨਾ ਵਾਇਰਸ ਬਿਮਾਰੀ ਤੋਂ ਬਚਾਉਣ ਲਈ ਪੁਲਿਸ ਟੀਮਾਂ ਗਠਿਤ ਕੀਤੀਆਂ ਗਈਆਂ ਹਨ, ਜੋ ਪਿੰਡਾਂ ਸ਼ਹਿਰਾਂ ਅਤੇ ਸਕੂਲਾਂ/ਕਾਲਜ਼ਾ ਵਿੱਚ ਜਗਰੂਕ ਕਰ ਰਹੀਆ ਹਨ ਅਤੇ ਮੁਫਤ ਵਿੱਚ ਮਾਸਕ ਵੰਡ ਰਹੀਆ ਹਨ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਕਰੋਨਾ ਵਾਇਰਸ ਬਿਮਾਰੀ ਤੋਂ ਬਚਣ ਲਈ ਸਭ ਨੂੰ ਮਾਸਕ ਜਰੂਰ ਪਾ ਕੇ ਰੱਖਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਆਪਸੀ ਦੂਰੀ ਬਣਾ ਕੇ ਰੱਖਣੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ। 

ਸਬਜ਼ੀ ਮੰਡੀ ਵਿੱਚ 2 ਗਜ਼ ਦੀ ਦੂਰੀ ਅਤੇ ਮਾਸਕ ਪਹਿਨਣਾ ਜਰੂਰੀ 

ਐਸ.ਐਸ.ਪੀ ਜੀ ਨੇ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਅਪੀਲ ਕੀਤੀ ਹੈ ਕਿ ਸਬਜ਼ੀ ਮੰਡੀ ਅੰਦਰ ਦੁਕਾਨਦਾਰ ਸਾਫ ਸਫਾਈ ਰੱਖਣ ਅਤੇ ਖਰੀਰਦਾਰ ਹਮੇਸ਼ਾ 2 ਗਜ ਦੀ ਦੂਰੀ ਬਣਾ ਕੇ ਰੱਖਣ। ਉਨਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਬਿਨ੍ਹਾਂ ਜਰੂਰਤ ਦੇ ਸਮਾਨ ਨੂੰ ਨਾ ਛੂਹੋ ਅਤੇ ਖਰੀਰਦਾਰੀ ਕਰਨ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਸਬਜ਼ੀ ਨੂੰ ਚੰਗੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਪਾਣੀ ਨਾਲ ਸਾਫ ਕਰੋ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭੀੜ ਵਾਲੀਆ ਥਾਂਵਾ ਤੇ ਨਾ ਜਾਓ ਅਤੇ ਪਬਲਿਕ ਥਾਵਾਂ ਨੂੰ ਨਾ ਛੂਹੋ, ਉਨ੍ਹਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਸਾਵਧਾਨੀ ਵਰਤੋਂਗੇ ਤੇ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਰਹੋਗੇ। 

ਵਿਆਹ ਸਮਾਗਮ ਅਤੇ ਹੋਰ ਸਮਾਗਮਾਂ ਵਿੱਚ ਵਰਤੋਂ ਸਾਵਧਾਨੀਆਂ

ਐਸ.ਐਸ.ਪੀ ਜੀ ਨੇ ਲੋਕਾ ਨੂੰ ਅਪੀਲ ਕੀਤੀ ਹੈ ਕਿ ਵਿਆਹ ਅਤੇ ਕੋਈ ਹੋਰ ਸਮਾਗਮਾ ਦੌਰਾਨ ਕਰੋਨਾ ਵਾਇਰਸ ਬਿਮਾਰੀ ਤੋਂ ਬਚਾਅ ਲਈ ਸਾਵਧਾਨੀਆ ਜਰੂਰ ਵਰਤੋਂ ਉਨ੍ਹਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਸਮਾਗਮਾ ਅੰਦਰ ਜਿਆਦਾ ਇਕੱਠ ਨਾ ਕਰੋ ਅਤੇ ਆਪਸੀ ਦੂਰੀ ਬਣਾ ਕੇ ਰੱਖੋ ਅਤੇ ਮਾਸਕ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਜਰੂਰ ਕਰੋ।ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੱਸਿਆਂ ਕਿ ਕਰੋਨਾ ਵਾਇਰਸ ਬਿਮਾਰੀ ਤੋਂ ਸਾਵਧਾਨੀ ਵਰਤ ਕਿ ਹੀ ਬਚਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਕਿਹਾ ਕੇ ਜੇਕਰ ਕਿਸੇ ਵਿਅਕਤੀ ਨੂੰ ਕੋਈ ਖੰਘ, ਜੁਕਾਮ ਜਾਂ ਬੁਖਾਰ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਉਹ ਬਿਨਾਂ ਡਰੇ ਆਪਣੇ ਨਜ਼ਦੀਕ ਦੇ ਹਸਪਾਲ ਵਿੱਚੋਂ ਜਾ ਕੇ ਆਪਣੇ ਟੈਸਟ ਜਰੂਰ ਕਰਵਾਉਣ। ਐਸ.ਐਸ.ਪੀ ਜੀ ਨੇ ਦੱਸਿਆਂ ਕਿ ਜੇਕਰ ਤੁਸੀ ਕੋਈ ਸਾਡੇ ਨਾਲ ਕੋਈ ਜਾਣਕਾਰ ਸਾਂਝੀ ਕਰਨਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ ਤਾਂ ਤੁਸੀ ਸਾਡੇ ਵਟਸ ਐਪ 80549-42100 ਤੇ ਮੈਸਿਜ ਕਰਕੇ ਜਾਂ ਕਾਲ ਕਰਕੇ ਦੇ ਸਕਦੇ ਹੋ ਜਾਣਕਾਰੀ ਦੇਣ ਵਾਲੇ ਦਾ ਨਾਮ ਗੁਪਤ ਰੱਖਿਆ ਜਾਵੇਗਾ।

चंडीगढ़, 23 फरवरी: विधानसभा के प्रवक्ता ने बताया है कि पंजाब के राज्यपाल द्वारा 15वीं पंजाब विधानसभा को इसके 14वें सत्र (बजट) के लिए 1 मार्च को सुबह 11 बजे पंजाब विधानसभा हॉल, विधान भवन, चंडीगढ़ में बुलाया गया है।



चंडीगढ़, 22 फरवरीः पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान सुनील जाखड़ ने आज कहा कि साल 2022 के विधान सभा मतदान में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह पार्टी का नेतृत्व करेंगे क्योंकि हाल ही में हुये म्यूंसिपल मतदान में राज्य के लोगों ने कांग्रेस पार्टी के समर्थन में स्पष्ट फतवा देकर मुख्यमंत्री की लीडरशिप में विश्वास प्रकट किया है। मुख्यमंत्री की तरफ से स्मार्ट सिटी और अमरुत स्कीमों के अंतर्गत 1087 करोड़ रुपए के विकास प्रोजेक्टों की शुरुआत किये जाने के लिए हुए एक समागम के दौरान श्री जाखड़ ने कहा, ‘‘म्यूंसिपल मतदान में कांग्रेस की समपूर्ण जीत से वोटरों ने न सिर्फ राज्य में कैप्टन अमरिन्दर सिंह की लीडरशिप को फिर प्रवानित किया है बल्कि उनकी भावी नेतृत्व में भी पंजाबियों नेे भरोसा जाहिर किया है।’’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी मिशन ‘2022 के लिए कैप्टन’ की शुरुआत पहले ही कर चुकी है और अगले मतदान भी उनके नेतृत्व में ही लड़ेगी। मुख्यमंत्री की सराहना करते हुये श्री जाखड़ ने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने बहुत ही कठिन समय में कांग्रेस का नेतृत्व किया है और पंजाब के लोग राज्य के प्रति उनके योगदान को भली-भाँति जानते हैं। उन्होंन कहा, ‘‘पंजाब शायद इस समय पर बहुत बुरे संकट में से गुजर रहा है, चाहे कोविड की बात हो, काले खेती कानूनों के कारण किसानों में बेचेनी की बात हो या फिर केंद्र सरकार के राज्य के प्रति बेरुखी वाले व्यवहार की, सिर्फ कैप्टन अमरिन्दर सिंह की दूरअन्देशी और लीडरशिप वाली पहुँच ही राज्य को इससे बाहर निकालने के समर्थ है। पंजाब के साथ किये जा रहे सौतेली माँ वाले सलूक ने केंद्र सरकार पर बरसते हुये श्री जाखड़ ने कहा कि किसानी संघर्ष का समर्थन करने के एवज में राज्य को सजा देने के लिए केंद्र सरकार ने आर्थिक नाकाबंदी समेत हर तरह का हथियार इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के अधीन मुल्क का संघीय ढांचा खतरे अधीन है। उन्होंने हाल ही में पाकिस्तान में ननकाना साहिब के दर्शनों के लिए जाने वाले जत्थे को इजाजत देने से इन्कार करने वाले केंद्र सरकार के फैसले पर सवाल उठाये और दोष लगाया कि केंद्र राज्य के विरुद्ध पक्षपाती रवैया अपना रहा है। शहरी इलाकों में विकास के उद्देश्य के साथ अलग-अलग प्रोजेक्टों की शुरुआत करने के लिए मुख्यमंत्री को बधाई देते हुये श्री जाखड़ को कहा कि यह गलत धारणा पाई जा रही थी कि उनकी सरकार सिर्फ ग्रामीण इलाकों के लिए काम कर रही है। उन्होंने कहा कि चाहे पंजाब एक खेती अर्थव्यवस्था वाला राज्य है और शहरी इलाकों में व्यापक स्तर पर शुरू किये गए विकास कामों के साथ यह धारणा भी दूर होगी। जाखड़ ने मुख्यमंत्री से अपील की कि वह यह यकीनी बनाये कि साल 2022 के लिए कांग्रेस के मैनीफैस्टो में अमृतसर-‘गुरू की नगरी’ को सर्वोत्तम शहर बनाने का वायदा किया जाये। उन्होंने कहा, ‘‘अमृतसर को वैटिकन सिटी की तर्ज पर दुनिया के सर्वोत्तम शहरों में से एक बनाया जाना चाहिए।’’ पंजाब यूथ कांग्रेस प्रधान बरिन्दर सिंह ढिल्लों ने म्युंसिपल चुनाव में जीत के बाद इन प्रोजेक्टों के आगाज़ को शानदार शुरुआत बताया। उन्होंने कहा कि शानदार जीत यह दर्शाती है कि पंजाब के लोगों का मुख्यमंत्री की लीडरशिप में बहुत ज्यादा भरोसा है। उन्होंने कहा कि सिर्फ कैप्टन अमरिन्दर सिंह राज्य को आगे ले जा सकते हैं और सामाजिक और सांप्रदायिक सदभावना कायम रख सकते हैं। बरिन्दर सिंह ढिल्लों ने कहा, ‘‘आपको 2022 के विधान सभा मतदान लड़ने होंगे क्योंकि पंजाब को आपके नेतृत्व की जरूरत है।’’


दिल्ली गुरूद्वारा कमेटी के कार्यों की बदौलत दुनिया भर के सिखों में मान-सम्मान और अधिक बढ़ा: मोंटी

संगत की सेवा जारी रखेंगे: सिरसा, कालका
नई दिल्ली, 22 फरवरी: दिल्ली सिख गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष स. मनजिंदर सिंह सिरसा व महासचिव हरमीत सिंह कालका द्वारा सिख पंथ की चढ़दीकला और मानवता की सेवा के लिए किये गये कार्यों को देखते हुए विकासपुरी की संगत व दिल्ली कमेटी के पूर्व सदस्य इंद्रजीत सिंह मोंटी द्वारा इन्हें आवाज़-ए-कौम अवार्ड से सम्मानित किया गया। इस मौके पर इंद्रजीत सिंह मोंटी व जसबीर सिंह काका ने शिरोमणि अकाली दल में अपने साथियों सहित शामिल होने का ऐलान किया। सिरसा व कालका द्वारा सभी का पार्टी में शामिल होने पर स्वागत किया गया।यहां रखे गए इस सम्मान कार्यक्रम में इंद्रजीत सिंह मोंटी ने कहा कि स. सिरसा व स. कालका द्वारा पिछले दो वर्षों के दौरान जिस तरह दिल्ली गुरूद्वारा कमेटी का कार्य संभालते हुए संगत खास तौर पर मानवता की सेवा के लिए जो कार्य किया गया उससे दुनिया भर में सिखों का मान-सम्मान व आदर और अधिक बढ़ा है। उन्होंने कहा कि कमेटी ने ना केवल कोरोना लाकडाउन के दौरान 2 लाख लोगों के लिए लंगर लगाया बल्कि दिल्ली के कोने-कोने में यह लंगर पहुंचाया। यही नहीं कोरोना मरीज़ों के लिए मुफ्त एंबुलेंस भी प्रदान की और फिर बाला प्रीतम दवाखाने खोले साथ ही अब दुनिया का सब से बड़ा डायलिसिस अस्पताल भी खोला जा रहा है जो कि बाला प्रीतम अस्पताल में खुल रहा है।इस सम्मान के लिए स. मोंटी व विकासपुरी की संगत का आभार व्यक्त करते हुए स. सिरसा व स. कालका ने कहा कि यह संगत द्वारा दिए प्यार, सतिकार व आर्शीवाद से ही संभव है कि वह बढ़ चढ़ कर कौम की सेवा कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे। उन्होंने बताया कि जहां 7 मार्च को कमेटी द्वारा दुनिया का सब से बड़ा डायलिसिस सेंटर खोला जा रहा है वहीं 11 मार्च को अतिआधुनिक सेंटर भी खोला जा रहा है जिसमें अतिआधुनिक मशीनों के माध्यम से एम.आर.आई, सी.टी स्कैन, एक्स-रे व अन्य टेस्ट नामात्र फीस पर किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि इन सभी सुविधाओं का दिल्ली ही नहीं बल्कि देश की संगत को बड़ा लाभ मिलेगा।इस मौके पर स्त्री अकाली दल दिल्ली इकाई की अध्यक्ष बीबी रणजीत कौर, दिल्ली गुरूद्वारा कमेटी सदस्य विक्रम सिंह रोहिणी, आत्मा सिंह लुबाणा, निशान सिंह मान, गुरमीत सिंह भाटिया, दलजीत सिंह सरना, जसप्रीत सिंह विक्की मान आदि भी मौजूद रहे।

  


SAYS IT WAS NOT HIS PERSONAL SUGGESTION BUT IN CONTEXT OF INPUTS FROM FARMER LEADERS
 
REJECTING NITI AAYOG VC’S CLAIM TO THE CONTRARY, CITES HIS SPEECH HIGHLIGHTING FARM LAWS ISSUE

 

Chandigarh, February 21: Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh on Sunday rejected as `misinterpretation’ the media statement quoting him on extension of the proposed suspension of the Farm Laws, saying it was mischievously taken out of context to give the wrong impression on his stance. The message sought to be communicated from his interview was totally incorrect, as was evident from the rest of his statement on the issue, said the Chief Minister, allaying the apprehensions of some Kisan leaders that he was trying to interfere in their agitation.Even as he categorically ruled out any interference, or even direct mediation unless sought by both sides, Captain Amarinder said he had categorically stated in the said interview that “From what I understand is that some of the farmers are agreeable to the laws being put on hold for 18 months but may go up to 24 months.” He was also on record as stating in the same interview that an extended period for putting the laws on hold continued to be in active discussions (between the government and Kisan Unions), he added.The Chief Minister said his statement was clearly in reference to the feedback/inputs received on the issue from certain Farmer Unions, which was taken out of context and presented as his personal suggestion for a compromise. Instead of being put in the context of his full statement, this particular point (on 24 months’ suspension of the Farm Laws) was played up as a separate communication, he said, terming it as factually incorrect.While he maintained that an early resolution was critical to the safety of Punjab, which had witnessed a surge in smuggling of weapons into the state from across the border in the past 5-6 months, the Chief Minister asserted that he, and his government, continues to stand with the farmers on the issue. He pointed out that even in his speech submitted to Niti Aayog for circulation at Saturday’s meeting had categorically underscored the need for “urgent resolution” of the current agitation “to the satisfaction of the protesting farmers by addressing all their grievances.” It is the farmers who have to decide what is in their interest and to what extent they are willing to compromise, if at all, on their demand for repeal of the Farm Laws, said the Chief Minister. He reiterated his stand that the Central Government should not stand on prestige on the issue and should be willing to revoke the legislations to find an effective, long-term solution to the problem. Captain Amarinder expressed surprise at Niti Aayog Vice-Chairman Rajiv Kumar’s claim that no one spoke about the farm laws in the sixth governing council meeting held yesterday. Though he could not personally attend the virtual conference owing to ill-health, his speech, which was submitted to the Niti Aayog on Thursday, had clearly highlighted the issue. Not only had he reiterated his government’s stand that Agriculture is a State subject and law-making on it should be left to the States in the true spirit of “cooperative federalism”, he had further underscored, in black and white, the need to resolve the farmers’ issues on urgent basis, Captain Amarinder noted, categorically and unequivocally rejecting the claim of the Niti Aayog VC as false and baseless. The Chief Minister asserted that his, and his government’s, stand on the Farm Laws had been consistent all through, at every forum, and the state amendment Bills, passed in the Vidhan Sabha, were an endorsement of the same. It was unfortunate that the Governor was sitting over these Bills instead of forwarding them to the President for assent, he said.


श्री मुक्तसर साहिब, 20 फरवरी 

नगर कौंसिल चुनाव में पार्टी की शर्मनाक हार की जिम्मेदारी लेते हुए भाजपा के मंडल प्रधान तरसेम गोयल ने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया है। सिटी होटल में हुई भाजपा की मीटिंग में चुनावों में भाजपा की हुई हार के कारणों को लेकर समीक्षा की गई। जिसके बाद तरसेम गोयल ने जिला प्रधान राजेश पठेला के नाम संबोधित अपना त्यागपत्र जीवन शर्मा और संदीप गिरधर को सौंप दिया। दोनों नेताओं ने त्यागपत्र प्रधान तक पहुंचान की बात कही। बैठक में अश्वनी गिरधर, सतीश भटेजा, रविंदर कटारिया, अनूराग राहुल शर्मा, राजकुमार मेलू, भंवर लाल, विशाल कमरा, नीतू कौशिक, तरसेम सोनी, जीवन शर्मा, उर्मिला रानी, अशोक तायल, मोती लाल वर्मा, इंद्रजीत, मुकेश सत्संगी, विक्र ांत गिरधर समेत अन्य भाजपा नेता भी मौजूद थे, जबकि जिला प्रधान राजेश पठेला गोरा बैठक में मौजूद थे।


चंडीगढ़, 19 फरवरी: पंजाब के शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने शुक्रवार को कहा कि शिक्षा विभाग द्वारा राज्य के सरकारी, सहायता प्राप्त और प्राईवेट स्कूलों का समय बदला गया है जोकि 22 फरवरी, 2021 से लागू होगा। सिंगला ने बताया कि सोमवार से प्राईमरी स्कूलों का समय सुबह 9 बजे से शाम 3 बजे तक होगा जबकि मिडल / हाई / सीनियर सेकंडरी स्कूल सुबह 9 बजे 3:20 तक खुलेंगे। 

कैबिनेट मंत्री ने बताया कि अभिभावकों ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार के फिर से स्कूल खोलने के फ़ैसले का समर्थन किया क्योंकि उनकी सरकार ने महामारी के दौरान सुरक्षा उपायों का पूर्ण पालन करते हुए विद्यार्थियों की सुरक्षा को यकीनी बनाया था। उन्होंने कहा कि यह वार्षिक परीक्षाओं से पहले फाईनल रिवीज़न का समय है और इसलिए अभिभावक और अध्यापकों द्वारा लगातार की जा रही माँग को स्वीकार करते हुए विभाग ने स्कूलों के समय को बदलने का फ़ैसला किया है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि फिर से स्कूल खालने से पहले विभिन्न मध्यमों द्वारा ऑनलाइन पढ़ाई करवाई जा रही थी और कोविड महामारी के कारण अध्यापकों और विद्यार्थियों को शारीरिक रूप में एक दूसरे के सामने आने का मौका बहुत कम मिला। स्कूलों में प्री-बोर्ड परीक्षाएं करवाई जा रही हैं और विद्यार्थियों की कारगुज़ारी का जायज़ा लेने के उपरांत विद्यार्थियों पर विशेष ध्यान दिया जायेगा। सिंगला ने कहा कि स्कूलों के समय में तबदीली होने से विद्यार्थियों और अध्यापकों को फाईनल रिवीज़न के लिए और ज्यादा समय मिलेगा जोकि उनको परीक्षाओं में बेहतर कारगुज़ारी के लिए मददगार सिद्ध होगा।

दुर्घटना वाले संभावी स्थानों का सभ्यक प्रबंधन सडक़ सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण: रजि़या सुलताना

चंडीगढ़, 17 फरवरी: पंजाब की ट्रांसपोर्ट मंत्री रजि़या सुलताना ने सम्बन्धित अधिकारियों को हिदायत की है कि राज्य में दुर्घटना वाली सभी संभावी स्थानों (ब्लैक स्पॉट) को सभ्यक ढंग से सुधारने की ज़रूरत है क्योंकि सडक़ हादसों के दौरान कीमती मानव जीवन को बचाने के लिए इन ब्लैक स्पॉट्स का प्रबंधन बहुत ज़रूरी है। उन्होंने ज़ोर देते हुए कहा कि सभी सम्बन्धित विभागों को इस सम्बन्धी ठोस यत्न करने चाहिएं जिससे संयुक्त राष्ट्र द्वारा सडक़ सुरक्षा के लिए 2021-2030 दौरान सडक़ हादसों में 50 फीदसी की कटौती करने के लक्ष्य को प्राप्त किया जा सके।आज यहाँ पंजाब भवन में राष्ट्रीय सडक़ सुरक्षा माह (18 जनवरी से 17 फरवरी, 2021) के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए ट्रांसपोर्ट मंत्री ने कहा कि बड़े वाहनों के लिए एक अलग डैडीकेटिड लेन निर्धारित की जाये और टिप्पर, ट्रेलर और ढुलाई वाले अन्य भारी वाहनों को सडक़ के किनारे खड़े न होने दिया जाये जिससे सडक़ हादसों को टाला जा सके। उन्होंने ट्रैफिक़ पुलिस को भारी वाहन चालकों के ड्राइविंग लाइसैंसों की जांच के लिए विशेष मुहिम शुरू करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी को सडक़ पर लापरवाही वाले व्यवहार से परहेज़ करने की ज़रूरत है और सडक़ सुरक्षा मुहिम को सिफऱ् एक महीने तक सीमित नहीं किया जाना चाहिए बल्कि जागरूकता संबंधी गतिविधियों को आगे भी पूरे जोश के साथ जारी रखा जाना चाहिए। ट्रैफिक़ विभाग के सलाहकार डॉ. नवदीप असीजा ने बताया कि अगले छह महीनों में पंजाब में नये ब्लैक स्पॉट्स की पहचान मुकम्मल कर ली जायेगी। उन्होंने बताया कि पंजाब के 12 जिलों में कुल 391 ब्लैक स्पॉट्स हैं। इन 391 ब्लैक स्पॉट्स में से 264 राष्ट्रीय राजमार्गों पर, 64 राज्य राजमार्गों /ओ.डी.आर /एम.डी.आर. पर, 6 ब्लैक स्पॉट्स संपर्क सडक़ों पर, 54 नगर पालिका की सडक़ों पर हैं और 3 अन्य सडक़ों पर मौजूद हैं। प्रत्येक पुलिस जि़ले में साईंटिफिक स्टडी के द्वारा पंजाब के विभिन्न राज मार्गों /सडक़ों पर ‘‘एक्सीडेंट ब्लैक स्पॉट  आईडैंटीफिकेशन एंड रेक्टीफिकेशन प्रोग्राम’’ के अंतर्गत क्रमवार पहले, दूसरे, तीसरे, चौथे और पाँचवी प्राथमिकता वाले ब्लैक स्पॉट्स की पहचान की गई है। इसमें से राष्ट्रीय राजमार्गों के 100 ब्लैक स्पॉट्स को सुधारा जा चुका है और 32 राज मार्गों के ब्लैक स्पॉट्स का सुधार किया जा रहा है। उत्तरी क्षेत्र में इस स्तर पर ऐसा कार्य पूरा करने वाला पंजाब पहला राज्य है। पंजाब में सडक़ सुरक्षा माह 2021 संबंधी स्टेटस रिपोर्ट पेश करते हुए ट्रांसपोर्ट विभाग के प्रमुख सचिव के. सिवा प्रसाद ने बताया कि राज्य के अलग-अलग हिस्सों में कई सडक़ सुरक्षा सैमीनार, वर्कशॉप और जागरूकता कैंप लगाए गए। उन्होंने कहा कि आवारा पशूओं के कारण हो रहे हादसों के खतरे को टालने के लिए सिविल, पुलिस और अन्य सम्बन्धित विभागों के सहयोग से एक प्रोटोकॉल तय किया गया है। सभी सम्बन्धित पक्षों द्वारा सार्वजनिक भागीदारी के द्वारा ऐसे हादसों की संख्या को घटाने के लिए काम किये जा रहे हैं। उन्होंने पंजाब पुलिस, सभी एन.जी.ओज़, अन्य विभागों, डी.सीज़ और शिक्षा विभाग का इस प्रोग्राम को सफल बनाने के लिए धन्यवाद किया। लीड एजेंसी रोड सेफ्टी पंजाब के डायरैक्टर जनरल आर. वेंकट रत्नम् ने कहा कि सडक़ सुरक्षा कोई मासिक गतिविधि नहीं है बल्कि विभाग की तरफ से साल भर नियमित रूप में सडक़ सुरक्षा पर काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य के लिए 33.78 करोड़ रुपए की राशि का प्रस्ताव है जिसमें ब्लैक स्पॉट्स का सुधार, स्पीड गन, सी.सी.टी.वी. कैमरे लगाना, जि़ला सडक़ सुरक्षा समितियों के लिए फंड, क्रेश इन्वेस्टिगेशन के लिए फंड आदि जैसे अहम मुद्दे शामिल हैं। उन्होंने बताया कि यह सारा खर्चा निर्विघ्न ग़ैर-मियादी रोड सेफ्टी फंड के द्वारा किया जायेगा।इस दौरान रोड सेफ्टी कौंसिल की मीटिंगों के दौरान राज्य में सडक़ सुरक्षा के समूचे कायाकल्प सम्बन्धी बड़े फ़ैसले लिए गए हैं। एन.एच.ए.आई. के सलाहकार काहन सिंह पन्नू और एन.एच.ए.आई के क्षेत्रीय अधिकारी आर.पी. सिंह ने ट्रांसपोर्ट मंत्री को भरोसा दिया कि राज्य के राष्ट्रीय राजमार्गों पर मौजूद सभी ब्लैक स्पॉट्स को साल के अंत तक दुरुस्त कर दिया जायेगा।एडिशनल डायरैक्टर जनरल ऑफ पुलिस डॉ. शरद सत्य चौहान ने बताया कि साल 2020 दौरान राज्य में कुल 5194 सडक़ दुर्घटना के केस दर्ज हुए, जिनमें 3866 लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी और 2934 गंभीर रूप से ज़ख्मी हुए। साल 2019 के मुकाबले सडक़ हादसों में 18 प्रतिशत की कमी आई है और सडक़ हादसों के दौरान होने वाली मौतें भी 15 प्रतिशत कम हुई हैं।  

पंजाब पुलिस राज्य की सडक़ों को सुरक्षित बनाने के लिए वचनबद्ध: डी.जी.पी. दिनकर गुप्ता

चंडीगढ़, 16 फरवरी: पंजाब में वर्ष 2019 के मुकाबले वर्ष 2020 के दौरान सडक़ हादसों में मरने वालों की संख्या में 15 प्रतिशत और सडक़ हादसों में 18 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है, जोकि सडक़ सुरक्षा के नज़रिए से एक बड़ी उपलब्धि है।विवरणों के मुताबिक वर्ष 2020 के दौरान कुल 5194 सडक़ हादसे दर्ज किए गए, जबकि सडक़ हादसों में 3866 लोगों की जान गई। डायरैक्टर जनरल ऑफ पुलिस (डीजीपी), पंजाब दिनकर गुप्ता ने बताया कि चल रहे सडक़ सुरक्षा माह (18 जनवरी से 17 फरवरी, 2021) के दौरान पंजाब पुलिस द्वारा 521 सडक़ सुरक्षा कैंप और 542 सडक़ सुरक्षा सैमीनार करवाए गए हैं और इसके अलावा राज्य भर में 152 जागरूकता रैलियाँ की गई हैं, जिसके अंतर्गत स्कूल और कॉलेज के लगभग 1.33 लाख विद्यार्थी और 1.28 लाख नागरिकों को सडक़ सुरक्षा और ट्रैफिक़ नियमों के बारे में जागरूक किया गया है।उन्होंने कहा कि सडक़ सुरक्षा को बड़ी चिंता मानते हुए पंजाब पुलिस राज्य की सडक़ों को यात्रियों के लिए सुरक्षित बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है।डीजीपी गुप्ता ने आगे बताया कि सडक़ सुरक्षा को संंस्थागत बनाने के लिए पटियाला जि़ले में एक पायलट प्रोजैक्ट ‘एक्सीडेंट रेज़ोल्यूशन टीम-एआरटी’ शुरू किया गया है, जिसके अंतर्गत स्टेशन हाऊस अफ़सर (एसएचओ) के नेतृत्व में टीमें अपने-अपने अधिकार क्षेत्रों में ब्लैक स्पॉट्स का दौरा और निरीक्षण करती हैं। पटियाला पुलिस द्वारा ऐसी 25 ए.आर.टी. तैयार की गई हैं और विशेष तौर पर पटियाला-सरहिन्द रोड पर अधिक से अधिक 20 सुधारवादी कदम उठाए गए हैं, जिससे हादसों की दर में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। डीजीपी ने बताया कि आवारा पशुओं के कारण होने वाली मौतों की रोकथाम के लिए पंजाब पुलिस द्वारा एक स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजऱ (एसओपी) तैयार किया गया है और पशुओं के कारण होने वाली दुर्घटनाओं वाले ब्लैक स्पॉट्स की पहचान की जा रही है। डीजीपी ने कहा कि मालवा पट्टी में ऐसे 25 ब्लैक स्पॉट्स की पहचान की गई है और हादसों को रोकने के लिए आवारा पशुओं की गर्दन पर रिफलैकटिव पट्टियाँ बाँधी जाती हैं।डी.जी.पी. ने बताया कि साल 2011 से 2020 जो कि सडक़ सुरक्षा का एक दशक घोषित किया गया था, के दौरान पंजाब में सडक़ हादसों में होने वाली मौतों में 22 प्रतिशत की गिरावट आई है, जोकि पंजाब पुलिस के लिए गर्व वाली बात है। जि़क्रयोग्य है कि इसी समय के दौरान राष्ट्रीय स्तर पर सडक़ हादसों में होने वाली मौतों में कुल 10 प्रतिशत वृद्धि हुई है। ट्रैफिक़ सलाहकार नवदीप असीजा ने बताया कि रोड एक्सीडेंट डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम का विश्लेषण करने के बाद पंजाब में 391 ब्लैक स्पॉट्स की पहचान की गई है, जिनमें से 100 ब्लैक स्पॉट्स को नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) द्वारा पहले ही दुरुस्त कर दिया गया है, जबकि लोक निर्माण विभाग (पी.डब्ल्यू.डी.) द्वारा 31 ब्लैक स्पॉट्स को दुरुस्त किया जा रहा है।एडीजीपी ट्रैफिक़ शरद सत्य चौहान ने बताया कि ट्रैफिक़ विंग ने मोहाली में अपनी किस्म का पहला रोड सेफ्टी एंड ट्रैफिक़ रिसर्च सैंटर स्थापित किया है, जो राज्य में सडक़ हादसों में होने वाली मौतों पर काबू पाने के लिए उचित हल ढूँढने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजैंस और मशीन लर्निंग जैसे साईंटिफिक टूल्ज़ का प्रयोग करता है। उन्होंने कहा कि सडक़ हादसों की वैज्ञानिक जांच को मज़बूत करने के लिए पंजाब पुलिस द्वारा इस केंद्र में एक ‘‘क्रैश इन्वेस्टिगेशन व्हीकल’’ भी तैयार किया गया है।  


चंडीगढ़, 15 फरवरी: राज्य चुनाव आयोग द्वारा आज पटियाला के नगर परिषद, पातड़ां और समाना के 3 बूथों पर दोबारा मतदान करवाने के आदेश दिए हैं। इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए राज्य चुनाव आयोग के प्रवक्ता ने बताया कि पटियाला जि़ले के पातड़ां के रिटर्निंग अफ़सर द्वारा वार्ड नं. 8 के बूथ नं. 11 में मतदान के दौरान ई.वी.एम. को नुकसान पहुँचाने सम्बन्धी सूचना भेजी गई थी। इसी तरह पटियाला जि़ले के समाना हलके के रिटर्निंग अफ़सर द्वारा भी समाना के वार्ड नं. 11 के बूथ नं. 22 और 23 में ई.वी.एम. को नुकसान पहुँचाने सम्बन्धी सूचना भेजी गई थी। प्रवक्ता ने बताया कि इस पर तुरंत कार्यवाही करते हुए आयोग द्वारा इन तीनों बूथों और स्टेट इलैकशन कमिशन एक्ट, 1994 की धारा 59(2)(ए) के अधीन इन तीनों बूथों पर पहले डाली गईं वोटों को रद्द करते हुए यहाँ नए सिरे से मतदान करवाने के आदेश दिए गए हैं। प्रवक्ता ने बताया कि इन तीनों बूथों पर अब तारीख़ 16 फरवरी, 2021 को प्रात:काल 8:00 बजे से 4:00 बजे तक फिर से वोटें डाली जाएंगी और गिनती 17 फरवरी, 2021 को होगी।


 हजारों शिशु विभिन्न प्रतियोगिताओं में दिखाएंगे प्रतिभा के जौहर! 

जालन्धर: सर्वहितकारी की स्वर्ण जयंती को समर्पित माँ सरस्वती के पावन दिवस पर पंजाब प्रांत की ओर से 16 फरवरी को 16 ऑनलाइन शिशु संगम आयोजित किए जा रहे हैं। पंजाब प्रांत में एक ही दिन, एक ही समय 16 स्थानों पर शिशुओं का ऑन लाइन शिशु संगम नया व अभिनव प्रयोग है। माना जाता है कि शिशु में ज्ञान की इच्छा माता सरस्वती के आशीर्वाद के बिना पूर्ण नहीं होती। गूगल मीट के माध्यम से हो रहे इन शिशु संगमों में सर्वहितकारी शिक्षा समिति के


अधिकारियों के साथ अनेक शिशु शिक्षा विशेषज्ञ आचार्य व अभिभावकों का मार्गदर्शन करेंगे। शिशु संगम में शिशु विभिन्न प्रतियोगिताओं में अपनी प्रतिभा दिखाएंगे।  उल्लेखनीय है कि विद्या भारती की प्रांतीय ईकाई सर्वहितकारी शिक्षा समिति पंजाब में 125 शिशु वाटिकाओं का संचालन कर रही है। विद्या भारती भारतीय दर्शन व शिशु मनोविज्ञान को आधार बना कर गत 7 दशकों से अधिक से शिशु शिक्षा पर प्रत्यक्ष अनुभव के आधार पर शोध कर शिशु शिक्षा प्रदान कर रही है। विद्या भारती में आचार्य/दीदियों के अतिरिक्त  हजारों  शिक्षाप्रेमी  शिक्षा को समाज सेवा का पवित्र माध्यम मान कर अवैतनिक रूप से अपनी शक्ति व ऊर्जा लगा रहे हैं। प्रसन्नता का विषय है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में शिशु शिक्षा में शिशु वाटिका में सफलतापूर्वक चल रही अनेक पद्धतियों को सुझाया है।सरस्वती दिवस पर हो रहे शिशु संगमों का  उद्देश्य शिशुओं में आत्मविश्वास पैदा कर, अपनी संस्कृति से जोड़ने के साथ-साथ उनमें उत्साह व नई उमंग भरना है। सब जानते हैं कि रंगमंचीय गतिविधियों से बच्चों में उत्साह पैदा होता है। इन शिशु संगमों को सफल बनाने के लिए सभी आचार्य दीदियों में भारी उत्साह देखा जा रहा है।

एन.आर.आई. दूल्हों की ठगी से देश की लड़कियों को बचाने के लिए नया कानून बनाने की भी की माँग

चंडीगढ़/नई दिल्ली, 14 फरवरी:  पंजाब राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन श्रीमती मनीषा गुलाटी ने करनाल जेल में बंद पंजाब राज्य की श्रमिक कार्यकर्ता नौदीप कौर की रिहाई के लिए भारत के गृह मंत्री अमित शाह के साथ मुलाकात की।  इस मुलाकात सम्बन्धी जानकारी देते हुए श्रीमती गुलाटी ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्री को नौदीप कौर के मामले से पूरी तरह अवगत करवाया और विनती की गई कि नौदीप कौर के संवैधानिक हकों की रक्षा को सुनिश्चित बनाया जाए।  इस मौके पर उन्होंने भारतीय मूल के विदेशी दूल्हों द्वारा देश की लड़कियों के साथ विवाह के नाम पर मारी जा रही ठगी पर नकेल कसने के लिए नया कानून बनाने की भी विनती की। अमित शाह ने जल्द इन मामलों में कार्यवाही करने का भरोसा दिया।

 वोटें डालने के कार्य के लिए 20,510 मुलाजि़मों के अलावा लगभग 19,000 पुलिस मुलाजि़म तैनात

चंडीगढ़, 13 फरवरी:  पंजाब राज्य की 8 नगर निगमों और 109 नगर परिषदों और नगर पंचायतों की आम और उप चुनाव के लिए तारीख़ 14 फरवरी को प्रात:काल 08.00 बजे से शाम के 04:00 बजे तक वोटें डाली जाएंगी, जिस सम्बन्धी प्रशासन के द्वारा मुकम्मल तैयारियाँ की जा चुकी हैं। राज्य चुनाव आयोग, पंजाब के प्रवक्ता ने बताया कि मतदान को निष्पक्ष और अमन-सुरक्षा के साथ पूरा करने के लिए कुल 30 आई.ए.एस./पी.सी.एस अफ़सर बतौर ऑब्ज़र्वर नियुक्त किए गए हैं। इनके अलावा पंजाब पुलिस के आई.जी./डी.आई.जी. रैंक के पुलिस ऑब्ज़र्वर भी तैनात किए गए हैं, जिनमें मोहाली, रोपड़ और फतेहगढ़ साहिब के लिए श्री मुखविन्दर सिंह छीना, आई.पी.एस., अमृतसर, तरन तारन, गुरदासपुर और पठानकोट के लिए श्री सुरजीत सिंह, आई.पी.एस., बठिंडा, मानसा, फऱीदकोट के लिए श्री बलजोत सिंह राठौर, आई.पी.एस, होशियारपुर, जालंधर, कपूरथला, नवांशहर के लिए श्री सुरिन्दर कुमार कालिया, आई.पी.एस., फिऱोज़पुर, श्री मुक्तसर साहिब, मोगा और फ़ाजि़ल्का के लिए श्री हरबाज सिंह, आई.पी.एस., और पटियाला, लुधियाना, बरनाला और संगरूर के लिए श्री गुरिन्दर ंिसंघ ढिल्लों, आई.पी.एस. को नियुक्त किया गया है। वोटें डालने का कार्य वोटिंग मशीनों के द्वारा होगा, जिसके लिए 7000 वोटिंग मशीनों का प्रबंध किया गया है। वोटों के कार्य निर्विघ्न रूप से पूरे करने के लिए 20510 मुलाजि़म तैनात किए गए हैं। इसके अलावा लगभग 19,000 पुलिस मुलाजि़म तैनात किए गए हैं। राज्य चुनाव आयोग के प्रवक्ता ने इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए बताया कि नगरपालिका चुनाव के लिए कुल 2302 वॉर्डों के लिए 9222 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। राज्य में कुल 4102 पोलिंग बूथ स्थापित किए गए हैं, जिनमें से 1708 सैंस्टिव बूथ और 861 हाइपर-सैंस्टिव बूथ हैं। प्रवक्ता ने स्पष्ट किया कि जो वोटर शाम 04:00 बजे तक अपने-अपने पोलिंग बूथों में दाखि़ल हो जाएंगे उनको वोट डालने का मौका दिया जाएगा। इसी तरह तारीख़ 14 फरवरी, 2021 और 17 फरवरी, 2021 को ड्राई-डे घोषित किए गए हैं। वोटों की गिनती 17 फऱवरी, 2021 को प्रात:काल 09:00 बजे आरंभ होगी।



पटियाला: 12 फ़रवरी, 2021 को शिशु वाटिका विभाग की ऑनलाइन प्रबोधन कार्यशाला संपन्न हुई। कार्यशाला में मुख्य अतिथि दिल्ली से प्रसिद्ध शिशु शिक्षा विशेषज्ञ मेघा शर्मा रहीं। जिन्होंने शिशु 'रिसोर्स रूम' विषय पर आचार्य दीदियों के साथ विस्तार पूर्वक चर्चा की। मेघा शर्मा ने चर्चा में दीदियों का सहभाग कराया। मेघा शर्मा ने विद्या भारती की शिशु वाटिका में पहले से चल रहे प्रयोगों को लेकर प्रसन्नता व सन्तोष व्यक्त किया। इसके बाद जालन्धर से शिक्षविद व विद्या भारती की जालन्धर ईकाई की जिला अध्यक्षा डा. रेखा भारद्वाज ने आशीर्वचन वचन रखे। गूगल मीट के माध्यम से हुई इस कार्यशाला की शुरुआत वंदना से हुई जिसके पश्चात  कसुम शिशु वाटिका प्रान्त प्रमुख द्वारा पंजाब में चल रही शिशु वाटिकाओं व इनके विकास के लिए किए जा रहे कार्यों के सन्धर्व में जानकारी दी गयी। कार्यशाला में आचार्य संख्या लगभग 65 रही। कार्यशाला दीदी संगीता, सह प्रान्त प्रमुख, कामिनी चंडीगढ़, नरेश चंडीगढ़, सुमन मोरिंडा, अंजना सुनाम इत्यादि के सहयोग से संपूर्ण हुई। शांति पाठ से कार्यशाला सम्पूर्ण हुई।



चंडीगढ़, 12 फरवरी: करनाल जेल में बंद नौदीप कौर से पंजाब राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन श्रीमती मनीषा गुलाटी 15 फऱवरी, 2021 को दोपहर 12 बजे मुलाकात करेंगी। इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए आयोग के प्रवक्ता ने बताया कि पंजाब राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन द्वारा यह मामला हरियाणा राज्य की समकक्ष के समक्ष उठाया था और उनको इस मामले में दख़ल देने की अपील की थी। इस पर तुरंत कार्यवाही करते हुए हरियाणा राज्य महिला आयोग द्वारा हरियाणा के जेल विभाग के डायरैक्टर जनरल श्री के. सेल्वाराज को पत्र लिखकर हिदायत की गई कि हरियाणा राज्य महिला आयोग एक्ट की धारा 3(10), (1)(एफ)(के) के अनुसार पंजाब राज्य के मुक्तसर जि़ले के गाँव गियादड़ की निवासी नौदीप कौर को कानूनी सहायता मुहैया करवाने को सुनिश्चित बनाने के साथ-साथ हवालाती की सुरक्षा को भी यकीनी बनाया जाए। प्रवक्ता ने आगे बताया कि इसके अलावा हरियाणा महिला आयोग की चेयरपर्सन द्वारा पंजाब राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन, नौदीप कौर के साथ होने वाली मुलाकात के लिए डायरैक्टर जनरल जेल को सभी ज़रुरी प्रबंध करने की हिदायत करते हुए एक्शन टेकन रिपोर्ट पेश करने के लिए भी कहा गया है।


चंडीगढ़, 11 फरवरी : किसान आंदोलन के दौरान गिरफ़्तार की गई कामगारों के हकों के लिए लडऩे वाली नेता नौदीप कौर की रिहाई के लिए सामाजिक सुरक्षा, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अरुणा चौधरी द्वारा राष्ट्रीय महिला आयोग से अपील किए जाने के बाद, पंजाब राज्य महिला आयोग ने आज नौदीप कौर के मामले का सख़्त नोटिस लेते हुए वरिष्ठ पुलिस कप्तान सोनीपत से 15 फरवरी, 2021 तक पड़ताल रिपोर्ट तलब कर ली है। इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए पंजाब राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन श्रीमती मनीषा गुलाटी ने बताया कि जि़ला श्री मुक्तसर साहिब के गाँव गियादड़ की नौदीप कौर को कुंडली बॉर्डर से गिरफ़्तार किया गया था, जिस सम्बन्धी सोनीपत के एस.एस.पी. को पत्र लिखकर आदेश दिए गए हैं कि वह नौदीप कौर के मामले की जाँच किसी वरिष्ठ अधिकारी से करवाएं। उन्होंने कहा कि एस.एस.पी. को जाँच सम्बन्धी विस्तृत रिपोर्ट पाँच दिनों के अंदर-अंदर (15 फरवरी तक) पेश करने के लिए कहा गया है। श्रीमती गुलाटी ने कहा कि पुलिस रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद पंजाब राज्य महिला आयोग द्वारा अगली कार्यवाही तुरंत अमल में लाई जाएगी।


Chandigarh, February 9: The Punjab Vigilance Bureau today arrested Senior Intelligence Assistant of Intelligence wing of Punjab Police presently posted at CID Unit, Ludhiana for taking bribe of Rs. 3,00,000 for stalling the Vigilance enquiry. Disclosing this here today, DGP-cum-Chief Director Vigilance Bureau B.K.Uppal said that Senior Intelligence Assistant Satpal, posted at Intelligence Wing, Jalandhar (No. 2736/INT) has been arrested by the Vigilance team for accepting bribe of Rs.3,00,000 from the partners of J.S.K. Logistics after the arrest of Kailash Chand Sharma for stalling the vigilance enquiry. Giving details of this case he further informed that three partners are running the J.S.K. Logistics company at Jalandhar.  Vigilance team raided the J.S.K. Logistics for arresting the Kailash Chand Sharma in some case. In this case, Senior Intelligence Assistant Satpal has very smartly pretended to be a Vigilance official and having links with senior officers of VB has demanded Rs. 3,00,000 from the other partner Sandeep Sharma of J.S.K. Logistics for helping and stalling this vigilance enquiry. He further revealed that fearing from the VB enquiry, partner of J.S.K. Logistics has given Rs. 3,00,000 as bribe to Senior Intelligence Assistant Satpal in the presence of his worker Rajender Luthara at the gate of transport Nagar, Jalandhar. He added that the accused Senior Intelligence Assistant was known to this enquiry and needed to carry out further investigation of this case.  Taking the advantage, Satpal has accepted Rs. 3,00,000 in the presence of witness Rajender Luthara. In this way, Senior Intelligence Assistant Satpal misused his official position and falsely pretended as VB official which has been established. He informed that a case under Prevention of Corruption Act, and Section 419 of IPC has been registered against the accused Intelligence Assistant at VB Police station, Jalandhar and further investigation was under progress.



ਅੰਦੋਲਨਜੀਵੀ ਬਨਾਮ ਘੁਮੰਡਜੀਵੀ

ਪਿਛਲੇ ਦਿਨੀਂ ਬਜ਼ਟ ਸੈਸ਼ਨ ਵਿੱਚ ਰਾਸ਼ਟਰਪਤੀ ਸ੍ਰੀ ਰਾਮ ਨਾਥ ਕੋਵਿੰਦ ਦੇ ਭਾਸ਼ਣ ਦੇ ਧੰਨਵਾਦ ਮਤੇ ਤੇ ਬੋਲਦਿਆਂ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨਰਿੰਦਰ ਮੋਦੀ ਨੇ ਸੰਘਰਸ਼ਸ਼ੀਲ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਨਵਾਂ ਨਾਮ ਅੰਦੋਲਨਜੀਵੀ' ਦਿੱਤਾ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਨਵੀਂ ਜਮਾਤ ਅੰਦੋਲਨਜੀਵੀ ਪੈਦਾ ਹੋ ਗਈ ਹੈ ਜੋ ਪ੍ਰਦਰਸ਼ਨ ਕੀਤੇ ਬਿਨਾਂ ਨਹੀਂ ਰਹਿ ਸਕਦੀ।  ਉਨ੍ਹਾਂ ਤਿੰਨ ਕਨੂੰਨ ਰੱਦ ਕਰਵਾਉਣ ਲਈ ਲੰਬੇ ਸਮੇਂ ਤੋਂ ਦਿੱਲੀ ਦੀਆਂ ਸੜਕਾਂ ਤੇ ਬੈਠੇ ਜੂਝਾਰੂ ਕਿਸਾਨਾਂ ਲਈ ਇਹ ਗੱਲ ਕਹੀ ਜੋਂ ਕਿ ਇੱਕ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਮੁੱਖੀ ਹੋਣ ਦੇ ਨਾਮ ਤੇ ਬਹੁਤ ਹੀ ਸ਼ਰਮਨਾਕ ਬਿਆਨ ਹੈ। ਉਹ ਹੱਸ ਹੱਸ ਕੇ ਇਹ ਗੱਲਾਂ ਆਖ ਰਹੇ ਸਨ ਅਤੇ ਉਨ੍ਹਾਂ ਵਿੱਚ ਪੋਹ ਮਾਘ ਦੀ ਠੰਢ ਵਿੱਚ ਸੜਕਾਂ ਤੇ ਰੁਲਦੇ ਅੰਨਦਾਤੇ ਪ੍ਰਤੀ ਕੋਈ ਦਰਦ ਦਿਖਾਈ ਨਹੀਂ ਦੇ ਰਿਹਾ ਸੀ। ਕੀ ਇਹ ਕਿਸਾਨ ਕਿਸੇ ਚਾਅ ਨਾਲ ਇਹ ਅੰਦੋਲਨ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ? ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨਰਿੰਦਰ ਮੋਦੀ ਨੇ ਆਪਣੇ ਇਸ ਬਿਆਨ ਵਿੱਚ ਆਪਣੇ ਨਾਲ ਅਸਹਿਮਤ ਆਵਾਜ਼ਾਂ, ਇਨਸਾਫ਼  ਲਈ ਲੜਨ ਵਾਲੇ ਨਾਗਰਿਕਾਂ, ਅਧਿਕਾਰਾਂ ਅਤੇ ਸਵਿਧਾਨਕ ਸੁਤੰਤਰਤਾ ਦੇ ਲਈ ਲੜਨ ਵਾਲੇ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਨਿਸ਼ਾਨਾ ਬਣਾਇਆ ਹੈ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੇ ਬਿਆਨ ਦਾ ਮਤਲਬ ਹੈ ਕਿ ਸਿਰਫ ਮੈਂ ਹੀ ਸਹੀ ਹਾਂ ਮੇਰੇ ਨਾਲ ਅਸਹਿਮਤ ਹੋਣ ਵਾਲੇ ਸਭ ਗ਼ਲਤ ਹਨ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਸੋਚ ਦਾ ਇਹ ਤਰੀਕਾ ਤਾਨਾਸ਼ਾਹ ਸੱਤਾ ਦਾ ਸਟੀਕ ਉਧਾਹਰਣ ਹੈ ਉਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਦੱਸਣਾ ਬਣਦਾ ਹੈ ਕਿ ਅੰਦੋਲਨਜੀਵੀ ਤਾਂ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਹਮੇਸ਼ਾ ਤੋਂ ਸਨ ਅਤੇ ਰਹਿਣਗੇ ਪਰ ਹੁਣ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਹੋਰ ਨਵੀਂ ਜਮਾਤ ਜ਼ਰੂਰ ਪੈਂਦਾ ਹੋਈ ਹੈ ਜਿਸ ਦਾ ਨਾਮ ਘੁਮੰਡਜੀਵੀ' ਹੈ। ਜੋ ਜਨਤਾ ਨੂੰ ਵੱਡੇ-ਵੱਡੇ ਸੁਪਨੇ ਵਿਖਾ ਕੇ ਵੋਟਾਂ ਮੰਗਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਸਤਾ ਵਿੱਚ ਆ ਕੇ ਘੁਮੰਡੀ ਬਣ ਲੋਕ ਮਾਰੂ ਫੈਸਲੇ ਕਰਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਜਨਤਾ ਦੀ ਹਾਲ ਦੁਹਾਈ ਤੇ ਵੀ ਅੱਖਾਂ ਮੀਟ ਕੇ ਬੈਠੀ ਰਹਿੰਦੀ ਹੈ। ਜੇਕਰ ਲੋਕ ਆਪਣੇ ਹੱਕਾਂ ਲਈ ਸੰਘਰਸ਼ ਕਰਦੇ ਹਨ ਤਾਂ ਉਹ ਸੜਕਾਂ ਵਿੱਚ ਟੋਏ ਤੱਕ ਪੁੱਟਵਾ ਦਿੰਦੀ ਹੈ। ਇਹ ਜਮਾਤ ਉਂਝ ਤਾਂ ਲੋਕਾਂ ਦੀ, ਲੋਕਾਂ ਦੁਆਰਾ ਅਤੇ ਲੋਕਾਂ ਲਈ ਅਖਵਾਉਂਦੀ ਹੈ ਪਰ ਤਲਵੇ ਕਾਰਪੋਰੇਟਰਾਂ ਦੇ ਚਟਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੇ ਹੀ ਕਹਿਣੇ ਵਿੱਚ ਚਲਦੀ ਹੈ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਪਤਾ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਕਿ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਹੁਣ ਤੱਕ ਨਾਮ ਜਾਂ ਨੋਟ ਹੀ ਤਾਂ ਬਦਲੇ ਹਨ ਹੋਰ ਕੀਤਾ ਹੀ ਕੀ ਹੈ। ਧਿਆਨ ਦੇਣ ਯੋਗ ਹੈ ਕਿ ਕਰੋਨਾ ਕਾਲ ਵਿੱਚ ਜਦੋਂ ਸਭ ਕੰਮ ਠੱਪ ਹੋਣ ਕਾਰਨ ਦੇਸ਼ ਦੀ ਜੀ ਡੀ ਪੀ ਹੇਠਾਂ ਡਿੱਗ ਰਹੀ ਸੀ ਤਾਂ ਸਿਰਫ਼ ਕਿਸਾਨੀ ਨੇ ਹੀ ਲਾਜ ਰੱਖੀ ਸੀ। ਹਾਂ ਜੇਕਰ ਇਹ ਅੰਦੋਲਨਜੀਵੀ ਜਮਾਤ ਨਾ ਹੁੰਦੀ ਤਾਂ ਸਾਡਾ ਦੇਸ਼ ਆਜ਼ਾਦ ਨਾ ਹੁੰਦਾ, ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੇ ਹੱਕ ਨਾ ਮਿਲਦੇ ਅਤੇ ਤੁਹਾਡੇ ਵਰਗੇ ਅਖੌਤੀ ਚੋਕੀਦਾਰ ਕਦੋਂ ਦਾ ਦੇਸ਼ ਨੂੰ  ਵੇਚ ਕੇ ਜ਼ਰੂਰ ਖਾ ਜਾਂਦੇ।ਬਾਕੀ ਕਿਸਾਨ ਅੰਦੋਲਨ ਨੂੰ ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਦੇ ਬਿਆਨਾਂ ਨਾਲ ਕੋਈ ਫ਼ਰਕ ਨਹੀਂ ਪੈਣ ਲੱਗਾ ਕਿਉਂਕਿ ਪਹਿਲਾਂ ਵੀ ਇਹ ਗੋਦੀ ਮੀਡੀਆ ਦੀ ਮਦਦ ਨਾਲ ਸੰਘਰਸ਼ ਕਰ ਰਹੇ ਕਿਸਾਨਾਂ ਨੂੰ ਅਤਵਾਦੀ, ਵੱਖਵਾਦੀ, ਖਾਲਿਸਤਾਨੀ ਆਦਿ ਅਨੇਕਾਂ ਨਾਮ ਦੇ ਚੁੱਕੇ ਹਨ। ਚਾਹੇ ਜਿਨੇਂ ਮਰਜ਼ੀ ਨਾਮ ਦੇਵੋ ਪਰ ਸੱਚ ਤਾਂ ਇਹ ਹੈ ਕਿ ਕਿਸਾਨੀ ਮੁੱਦੇ ਤੇ ਕੁਝ ਕੁ ਅੰਧਭਗਤਾਂ ਨੂੰ ਛੱਡ ਕੇ ਪੂਰਾ ਦੇਸ਼ ਦਿਲੋਂ ਕਿਸਾਨਾਂ ਦੇ ਨਾਲ ਖੜਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹ ਸੰਘਰਸ਼ ਪੂਰੀ ਦੁਨੀਆਂ ਦੀ ਹਮਾਇਤ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ।

ਚਾਨਣ ਦੀਪ ਸਿੰਘ ਔਲਖ
ਪਿੰਡ ਗੁਰਨੇ ਖੁਰਦ (ਮਾਨਸਾ)
ਸੰਪਰਕ
9876888177

 

 

bttnews

{picture#https://1.bp.blogspot.com/-pWIjABmZ2eY/YQAE-l-tgqI/AAAAAAAAJpI/bkcBvxgyMoQDtl4fpBeK3YcGmDhRgWflwCLcBGAsYHQ/s971/bttlogo.jpg} BASED ON TRUTH TELECAST {facebook#https://www.facebook.com/bttnewsonline/} {twitter#https://twitter.com/bttnewsonline} {youtube#https://www.youtube.com/c/BttNews} {linkedin#https://www.linkedin.com/company/bttnews}
Powered by Blogger.