हजारों शिशु विभिन्न प्रतियोगिताओं में दिखाएंगे प्रतिभा के जौहर! 

जालन्धर: सर्वहितकारी की स्वर्ण जयंती को समर्पित माँ सरस्वती के पावन दिवस पर पंजाब प्रांत की ओर से 16 फरवरी को 16 ऑनलाइन शिशु संगम आयोजित किए जा रहे हैं। पंजाब प्रांत में एक ही दिन, एक ही समय 16 स्थानों पर शिशुओं का ऑन लाइन शिशु संगम नया व अभिनव प्रयोग है। माना जाता है कि शिशु में ज्ञान की इच्छा माता सरस्वती के आशीर्वाद के बिना पूर्ण नहीं होती। गूगल मीट के माध्यम से हो रहे इन शिशु संगमों में सर्वहितकारी शिक्षा समिति के


अधिकारियों के साथ अनेक शिशु शिक्षा विशेषज्ञ आचार्य व अभिभावकों का मार्गदर्शन करेंगे। शिशु संगम में शिशु विभिन्न प्रतियोगिताओं में अपनी प्रतिभा दिखाएंगे।  उल्लेखनीय है कि विद्या भारती की प्रांतीय ईकाई सर्वहितकारी शिक्षा समिति पंजाब में 125 शिशु वाटिकाओं का संचालन कर रही है। विद्या भारती भारतीय दर्शन व शिशु मनोविज्ञान को आधार बना कर गत 7 दशकों से अधिक से शिशु शिक्षा पर प्रत्यक्ष अनुभव के आधार पर शोध कर शिशु शिक्षा प्रदान कर रही है। विद्या भारती में आचार्य/दीदियों के अतिरिक्त  हजारों  शिक्षाप्रेमी  शिक्षा को समाज सेवा का पवित्र माध्यम मान कर अवैतनिक रूप से अपनी शक्ति व ऊर्जा लगा रहे हैं। प्रसन्नता का विषय है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में शिशु शिक्षा में शिशु वाटिका में सफलतापूर्वक चल रही अनेक पद्धतियों को सुझाया है।सरस्वती दिवस पर हो रहे शिशु संगमों का  उद्देश्य शिशुओं में आत्मविश्वास पैदा कर, अपनी संस्कृति से जोड़ने के साथ-साथ उनमें उत्साह व नई उमंग भरना है। सब जानते हैं कि रंगमंचीय गतिविधियों से बच्चों में उत्साह पैदा होता है। इन शिशु संगमों को सफल बनाने के लिए सभी आचार्य दीदियों में भारी उत्साह देखा जा रहा है।

Tags ,

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.