श्री मुक्तसर साहिब : शिक्षा विभाग की अफसरशाही पर मिशन शतप्रतिशत का भूत इस कद्र सवार है कि विभाग के अधिकारियों ने पहले तो उक्त मिशन की प्राप्ति के लिए प्रत्येक अध्यापक को बोर्ड की कक्षाओं में कम - कम 5 बच्चे गोद लेने को कहा गया अब नया फरमान जारी किया गया है कि हर अध्यापक सुबह होने से पहले बच्चों को सोते हुए जगा कर पढने के लिए प्रेरित करेगा और किये गए फोन का रिकार्ड गूगल शीट में भी दर्ज करेगा। इन आदेशों के पालन के लिए स्कूल मुखियों द्वारा भी फुर्ती दिखाते हुए इस संदेश को अपने अधीन स्कूल अध्यापकों के पास भेज दिया गया है। अध्यापकों के प्रतिनिधि संगठन डेमोेक्रेटिक टीचर्ज फ्रंट ने उक्त नादरशाही आदेशों का तीव्र विरोध करते हुए बताया कि विभाग की अफसरशाही अध्यापकों के साथ बंधुआ मज़दूरों की तरह व्यवहार कर रही है। संगठन के जिला प्रधान लखवीर सिंह हरीके और जिला सचिव राम स्वर्ण लक्खेवाली ने कहा कि साल भर विभाग की तरफ से केवल परीक्षा लेने की कवायद ही जारी रखी गई है या फिर जूम मीटिंग कर के पुरानी दाल को बार -बार नया तडका लगा कर पेश किया जा रहा है। अध्यापक स्कूल में उपस्थित होने के बावजूद भी अपनी इच्छा के अनुसार बच्चों को पढाई नहीं करा सकते। अध्यापक नेताओं ने बताया कि स्कूल पूरी तरह खुले होने के बावजूद भी आन लाईन शिक्षा पर ज़ोर देकर विभाग सीखने की प्रक्रि या में अध्यापक की भूमिका को घटाता जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि विभाग के मंत्री और शिक्षा सचिव की तरफ से संगठन के साथ डैपूटेशन दौरान अध्यापकों की जायज मांगें मानने के बावजूद कोई फैसला लागू नहीं किया जा रहा। इस बार तबादला नीति में अनेकों मिडिल और हाई स्कूलों के खाली स्टेशनों को दिखाया नहीं गया जिस कारण अनेकों जरूरतमंद अध्यापक तबादले के हक से वंचित रहेंगे। अध्यापक वर्ग में इस तरह की धक्केशाहियों के खिलाफ सख्त रोश है। नेताओं ने फरवरी की पुरानी पैंशन प्राप्ति रैली में पटियाला में डी. टी. एफ. की प्रांतीय कमेटी की तरफ से किये फैसले अनुसार बडी संख्या में शामिल होने का फैसला किया है। इस मौके जिला वित्त सचिव मनोज बेदी,लम्बी ब्लाक के प्रधान कुलदीप शर्मा, मलोट के प्रधान वरिन्दर बहल, गिद्दडबाहा के प्रधान राजविन्दर सिंह प्योरी, मुक्तसर 1 के प्रधान नरिन्दर बेदी, मुक्तसर 2 के प्रधान बूटा सिंह वाकिफ, दोदा के प्रधान परिमन्दर खोखर, जिला कमेटी मैंबर हरबंस लाल सुखना, परिमन्दर हरीके, सुरिन्दर सेतिया, गुरजीत सोढी, जगदीप बिट्टू, वरिन्दर जीत बिट्टा, बलविन्दर दौला, तरसेम बनवाला, राजेश कामरा व नीरज बजाज भी मौजूद थे।



Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.