मुख्य सचिव द्वारा लुधियाना में इस महीने के अंत तक सी.ई.टी.पीज़ को कार्यशील करने के निर्देश
सभी नालों में बायोरेमेडिएशन शुरू करने की हिदायत


चंडीगढ़, 22 जुलाईः राज्य को साफ़ -सुथरा, हरा-भरा और प्रदूषण मुक्त बनाने सम्बन्धी मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार की वचनबद्धता को दोहराते हुये मुख्य सचिव श्रीमती विनी महाजन ने आज सम्बन्धित विभागों को हिदायत की कि वह पानी और हवा प्रदूषण का हल करने के साथ साथ ठोस और प्लास्टिक कूड़े के प्रबंधन को यकीनी बनाने के लिए ज़रुरी प्रयास करें। वातावरण कार्य योजना की प्रगति का जायज़ा लेने के लिए राज्य उच्च कमेटी की 15वीं मीटिंग की अध्यक्षता करते हुये मुख्य सचिव ने स्थानीय निकाय विभाग को जल सप्लाई और सैनीटेशन विभाग और पी.एस.आई.ई.सी. की तरफ से चलाए जा रहे सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एस.टी.पीज़.) को 31 जुलाई तक अपने अधीन लेने की हिदायत की। उन्होंने विभाग को उन्होंने सभी ड्रेनों, जहां एस.टी.पीज़. की स्थापना में समय लग रहा है, में जल्द से जल्द बायोरेमेडिएशन का काम शुरू करने के लिए कहा जिससे राज्य निवासियों को प्रदूषण से तुरंत राहत दी जा सके। मुख्य तौर पर लुधियाना के सिवरेज और नालों के निकास के कारण सतलुज दरिया में बढ़ रहे जल प्रदूषण की समीक्षा करते हुये श्रीमती महाजन ने जल स्रोत विभाग को हिदायत की कि इस महीने के अंत तक सरहिन्द नहर से बूड्डे नाले 200 क्यूसिक ताज़ा पानी छोड़ने सम्बन्धी प्रोजैक्ट को मुकम्मल किया जाये। उन्होंने 31 जुलाई, 2021 तक लुधियाना में 40 एम.एल.डी. और 50 एम.एल.डी. के सी.ई.टी.पीज़ को कार्यशील करने के लिए भी कहा। इससे सतलुज दरिया में प्रदूषण का मुख्य स्रोत बन चुके बूड्डे नाले को साफ़ करने में भी सहायता मिलेगी।ग्रामीण विकास एवं पंचायतें विभाग के प्रमुख सचिव श्री रमेश गंटा ने मुख्य सचिव को बताया कि 628 गाँवों में छप्पड़ों के नवीनीकरण का काम मुकम्मल हो चुका है और 644 गाँवों में यह काम जारी है। मुख्य सचिव ने विभाग को बाकी गाँवों में छप्पड़ों के नवीनीकरण के काम को जल्द से जल्द अमल में लाने के लिए कहा जिससे राज्य में भूजल के स्तर को बढ़ाने में भी सहायता मिलेगी। स्थानीय निकाय विभाग के प्रमुख सचिव अजोए कुमार सिन्हा ने बताया कि राज्य ने घर-घर जाकर कूड़ा-कर्कट इकट्ठा करने और इसको अलग करने के मामले में महत्वपूर्ण प्रगति की है। सभी शहरी स्थानीय इकाईयों की तरफ से भी कूड़े के वैज्ञानिक ढंग से निपटारे के लिए यत्न किये जा रहे हैं। मुख्य सचिव ने विभाग को अवशेष के प्रबंधन के लिए प्रयास तेज करने और पंजाब को साफ़-सुथरा और सेहतमंद बनाने के लिए जल्द से जल्द शहरी स्थानीय इकाईयों में कूड़े के निपटारे सम्बन्धी प्रयास तेज करने के निर्देश भी दिए।मीटिंग में अन्यों के अलावा अतिरिक्त मुख्य सचिव-कम-सीएमडी पी.एस.पी.सी.एल. ए. वेनू प्रसाद, प्रमुख सचिव सरवजीत सिंह (आवास निर्माण और शहरी विकास), अनुराग वर्मा (विज्ञान प्रौद्यौगिकी और वातावरण), आलोक शेखर (उद्योग और वाणिज्य) और पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के मैंबर सचिव करुनेश गर्ग भी मौजूद थे।

Post a Comment

bttnews

{picture#https://1.bp.blogspot.com/-oirJNfu95cM/YOK4900dj6I/AAAAAAAAJls/7h_PHzP6O0cJXoVL9h4xvnL7LJ7EzOr3gCLcBGAsYHQ/s971/bttlogo.jpg} BASED ON TRUTH TELECAST {facebook#https://www.facebook.com/bttnewsonline} {linkedin#https://www.linkedin.com/company/bttnews} {youtube#https://www.youtube.com/channel/UCy13f3egtdAPzARVj1RKlHA}

For Ads

For Ads Click Hare

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.