Type Here to Get Search Results !

यूथ अकाली दल ने भगवंत मान के आवास के सामने किया धरना प्रदर्शन

पंजाब में खेती और औद्योगिक क्षेत्रों को बर्बाद करने  वाली  आप पार्टी के तौर पर  मान की निंदा की
सरदार परमबंस सिंह रोमाणा ने पंजाब के चार थर्मल प्लांटों को बंद करने के लिए आप की  मिलीभगत का सबूत पेश किया

 संगरूर/13 जुलाई:शिरोमणी अकाली दल के कार्यकर्ताओं ने आज आम आदमी पार्टी (आपके पंजाब के संयोजक भगवंत मान के निवास कि पास ‘धरना’ दियाताकि मान और आप की पूरी पंजाब इकाई राज्य में कृषि तथा औद्योगिक क्षेत्रों को नष्ट करने वाली पार्टी बन गई हैइसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।कार्यकर्ताओं ने भगवंत मान के आवास पर भी मार्च किया तथा शीर्ष अदालत में याचिका के साथ साथ दिल्ली के पर्यावरण मंत्री द्वारा केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय को लिखे गए पत्रों के साथ साथ केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को पंजाब के थर्मल प्लांटों को बंद करने के लिए पर्यावरण सरंक्षण अधिनियम की धारा पांच को रदद करने की मांग करते हुए मांग करते हुएसात दिनों के भीतर पंजाब के थर्मल प्लांटों को बंद करने की आप की योजना का सबूत भी सौंपा। उन्होने कहा कि आप पंजाब विरोधी गतिविधि में लिप्त है। हालांकि प्रदूषण बोर्ड ने कहा है कि दिल्ली में प्रदूषण मुख्य रूप से उद्योेग के साथ साथ बड़ी संख्या में वाहनों और अवैध निर्माण के कारण था।


 

इससे पहले यहां विशाल धरने में बोलते हुए यूथ अकाली दल के अध्यक्ष सरदार परमबंस सिंह रोमाणा ने कहा कि ‘आज हम भगवंत मामन के घर सबूत लेकर आए हैंताकि उन्हे दिल्ली सरकार किए दावे के लिए झूठ बोलने का अवसर  मिले , क्योंकि उन्होने  कहा था कि उनकी पार्टी पंजाब में थर्मल प्लांटस को अपग्रेड करना चाहती हैबंद नही  करना चाहती’ उन्होने मान को  इस विषय पर खुली बहस करने की भी चुनौती दी।

 

सरदार परमबंस सिंह रोमाणा ने कहा कि सच्चाई यह है कि आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल पंजाब के लोगों को मूर्ख बनाने के उददेश्य से झूठ बोल रहे थे। ‘‘भगवंत मान जैसे लोगों ने पार्टी मे अपनी जगह बनाए रखने के लिए इन झूठों को बेचने की जिम्मेदारी ली है। वे असली ‘गदद्ार हैंजिन्हे पंजाबी कभी माफ नही करेंगे’’

 

यूथ अकाली दल अध्यक्ष ने केजरीवाल  द्वारा पेश किए जा रहे माॅडल का भी पर्दाफाश किया। उन्होने कहा कि दिल्ली में किसानों को टयूबवैल चलाने के लिए 4.46 रूपये प्रति यूनिट , जिसमें तय चार्ज 125 रूपये प्रति किलोवाट प्रति महीना देने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। उन्होने कहा कि इसी तरह कार्मशिअल टैरिफ देश में सबसे अधिक

11.34 प्रति यूनिट थायहां तक कि औद्योगिक उपभोक्ताओं से 9.80 रूपये प्रति यूनिट शुल्क लिया गया  उन्होने पूछाक्या आप पार्टी इस  माॅडल को पंजाब में लागू करना चाहती है।

 

यह दावा करते हुए कि यह पहली बार नही है कि आप ने पंजाब विरोधी एजेंडे को आगे बढ़ाया हैसरदार रोमाणा ने कहा कि पहले भी सतलुज यमुना लिंक (एसवाईएलनहर के मुददे पर ऐसा किया था कि केजरीवाल ने पंजाब के किसानों का समर्थन करने की नौटंकी की , लेकिन एक अदालत में हलफनामा दायर कियाजिसमें कहा गया था कि दिल्ली और हरियाणा को भी एसवाईएल के पानी का अधिकार हैऔर नहर का निर्माण किया जाना चाहिए। ‘ केजरीवाल ने अदालत में हलफनामा दायर कर मांग की थी कि धान की पराली जलाने वाले किसानों के खिलाफ आपराधिक मामला  दर्ज किया जाना चाहिएभले ही उन्होने पंजाब के किसानों के साथ सहानुभूति व्यक्त करने का दावा किया था’’

 

निजी थर्मल प्लांटों के साथ पूर्ववर्ती शिरोमणी अकाली दल की अगुवाई वाली सरकार द्वारा किए गए पीपीए पर आप नेतृत्व के हालिया ब्यान के बारे में बोलते हुए सरदार रोमाणा ने कहा कि ऐसा लग रहा है कि आप भी थर्मल प्लांट प्रबंधनों को उसी तरह ब्लैकमेल करना चाहती हैजैसा कि कांग्रेस पार्टी ने पहले किया था। उन्होने कहा कि पंजाब में निजी कंपनियों के साथ किया गया पीपीए देश मे ंक्रमशः 2.86 प्रति यूनिट तथा 2.89 प्रति यूनिट सबसे कम था। उन्होने कहा कि इसके खिलाफ हाल ही में मध्यप्रदेश सरकार ने 4.75 रूपये प्रति यूनिट की दर से पीपीए किया था।

 

इस अवसर पर अन्य लोगों में प्रकाश चंद गर्गविन्नरजीत सिंह गोल्डीभीम वड़ैचसिमरनप्रताप सिंह बरनालातरनजीत सिंह दुग्गल तथा प्रगठ सिंह झलूर भी उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.