Type Here to Get Search Results !

मुख्यमंत्री चन्नी ने विधान सभा में अकालियों को आड़े हाथों लिया

 अकालियों ने भाजपा के साथ मिलकर देश के संघीय ढांचे को तहस-नहस किया: चन्नी

मुख्यमंत्री चन्नी ने विधान सभा में अकालियों को आड़े हाथों लिया

चंडीगढ़, 11 नवंबर:

अकाली दल पर निशाना साधते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने आज कहा कि शिरोमणि अकाली दल ने राज्यों को और अधिक अधिकार देने, चण्डीगढ़ को पंजाब के हवाले करने के अलावा श्री आनन्दपुर साहिब के प्रस्ताव जैसे पंजाब के अहम मुद्दों को हमेशा राजनीति के संकुचित नज़रिए से देखा है।
15वीं पंजाब विधान सभा के 16वें सत्र के मौके पर अपने भाषण के दौरान मुख्यमंत्री ने अकालियों पर बरसते हुए कहा कि वह एक ज़रिया हैं जिसके द्वारा आर.एस.एस., जो हमेशा ही पंजाब के हितों के साथ खेलता रहा है, राज्य में अपनी पकड़ बनाने में कामयाब हुआ। चन्नी ने पंजाब पर ऐसे फ़ैसले थोपने के लिए अकालियों को जि़म्मेदार ठहराते हुए कहा, ‘‘जब आर.एस.एस. और इसके राजनैतिक विंग भाजपा ने धारा 370 को रद्द करके देश के संघीय ढांचे को चोट पहुँचाई तो अकालियों ने ना सिफऱ् भाजपा का पक्ष लिया, बल्कि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल भी इस कदम के हक में बोला और यहाँ तक कि इस ग़ैर-लोकतांत्रिक कदम के खि़लाफ़ वोट भी नहीं डाली।’’ 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को मिलने पर उनके प्रति की गई आलोचना का करारा जवाब देते हुए चन्नी ने बताया कि दोनों शख़्िसयतों के साथ उनकी मुलाकात एक शिष्टाचार मुलाकात थी। ‘‘शायद अकाली इस बात को भूल गए हैं कि मैं केंद्र सरकार को पत्र लिखकर श्री करतारपुर साहिब गलियारा फिर खोलने पर ज़ोर दिया है और इसके साथ-साथ तीन काले कृषि कानूनों, जो कृषि आर्थिकता की रीढ़ की हड्डी वाले कृषि क्षेत्र को चोट पहुँचा रहे हैं, को वापस लेने के लिए बार-बार विनती की है।’’
मुख्यमंत्री ने सदन को आगे बताया कि सुरक्षा मुद्दों पर केंद्र सरकार के साथ बैठकों के दौरान उन्होंने हमेशा यह एकसुर में स्टैंड लिया है कि अंतरराष्ट्रीय सरहदों को सील किया जाना चाहिए, जिससे नशा पंजाब में दाखि़ल ना हो सके। मैंने कभी भी उनको राज्य में बीएसएफ का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने के लिए नहीं कहा, जिसके बारे में मेरे ऊपर झूठे दोष लगाए जा रहे हैं। मैं भारत सरकार के इस कदम का सख़्त विरोध करता हूँ।
उन्होंने अकालियों को सत्ता के भूखे लोग करार दिया जो लोगों के मसलों के नाम पर कोलाहल मचाते रहते हैं, परन्तु सत्ता में आने पर हमेशा आँखें बंद कर लेते हैं। अकाली दल को इस्तेमाल कर फेंकने की नीति अपनाने वाली पार्टी बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अकालियों ने सत्ता में आने के लिए बसपा के साथ हाथ मिलाया और केंद्र में भाजपा के सत्ता में आने पर बसपा को छोड़ दिया।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.