Type Here to Get Search Results !

डीएपी की कमी जल्द पूरी होगी, केंद्र सरकार द्वारा प्रति दिन सात रेक देने का भरोसा: रणदीप नाभा

 चण्डीगढ़, 15 नवंबरः

पंजाब के कृषि मंत्री रणदीप सिंह नाभा के अथक यत्नों स्वरूप केंद्र सरकार ने आज से डाई-अमोनियम फॉस्फेट (डी.ए.पी.) के सात रेक प्रति दिन देने का भरोसा दिया है।
डीएपी की कमी जल्द पूरी होगी, केंद्र सरकार द्वारा प्रति दिन सात रेक देने का भरोसा: रणदीप नाभा

इस संबंधी जानकारी देते हुए कैबिनेट मंत्री श्री रणदीप नाभा ने बताया कि इस खेप के साथ हम एक हफ़्ते के अंदर ही मौजूदा स्थिति से निपटने में सक्षम हो गए हैं क्योंकि भारत सरकार द्वारा आज से रोज़ाना सात रेक देने का वादा किया गया है। उन्होंने बताया कि अब तक सभी जिलों के कुल 42 रेक बकाया हैं। यदि हर रोज़ सात रेक आते हैं, तो हम एक हफ़्ते में सारी कमी पूरी कर लेंगे।

कृषि मंत्री ने आगे कहा कि उन्होंने आज पंजाब को डीएपी की सप्लाई के सम्बन्ध में भारत सरकार के सचिव के साथ बात की और उनके द्वारा इस अलॉटमेंट का भरोसा दिया गया। इसके उपरांत मंत्री ने आज राज्य के कृषि विभाग के समस्त अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की, जिसमें उन्होंने फील्ड स्टाफ को जमाखोरी /कालाबाज़ारी और अधिक कीमत के विरुद्ध सख़्त कार्रवाई करने के लिए बधाई दी। उन्होंने फील्ड स्टाफ को किसान यूनियनों के संपर्क में रहने और भारत सरकार द्वारा डीएपी की नवीनतम अलॉटमेंट योजना बारे अवगत करवाने के लिए भी कहा जिससे कोई विरोध न हो। उन्होंने अधिकारियों को कहा कि वह अपने डिप्टी कमिश्नरों के साथ तालमेल करके रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षित उतराई को यकीनी बनाएं।
डी.ए.पी की कमी की समस्या को दूर करने के लिए माईक्रो प्लानिंग बारे बात करते हुए श्री नाभा ने कहा कि नियमित स्टॉक की जांच करने के लिए उनके द्वारा राज्य के समस्त मुख्य कृषि अफ़सरों के साथ एक वर्चुअल मीटिंग की जा रही है। उन्हांने बताया कि विभिन्न डीएपी सप्लायर कंपनियों द्वारा 15 से 20 नवंबर तक के 32 डीएपी रेक की माँग की गई है और जिसको भारत सरकार द्वारा स्वीकार कर लिया गया है और संबंधित डीएपी सप्लायरों को माँग पत्र देने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने आगे कहा कि कुल 2.56 लाख मीट्रिक टन के आवंटन के मुकाबले, अब तक 32 रेक (87744 मीट्रिक टन) प्राप्त हो चुके हैं तथा 6 और रेक (18095 मीट्रिक टन) आ रहे हैं और जिनके जल्द ही प्राप्त होने की उम्मीद है। इसके अलावा अलग-अलग कंपनियों द्वारा 14 और रेकों (41514 मीट्रिक टन) की माँग की गई है।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.