Type Here to Get Search Results !

परमात्मा का हमेशा करो शुक्र, नहीं रहेगा कोई फिर्क

 

परमात्मा का हमेशा करो शुक्र, नहीं रहेगा कोई फिर्क
सत्संग दौरान डेरे में मौजूद श्रद्धालू बाऊ जी के प्रवचनों का आनंद मानते हुए।

श्री मुक्तसर साहिब, 30 दिसंबर-

 श्रद्धा और आस्था के प्रतीक पूरे इलाके में जाने जाते स्थानीय डेरा संत बाबा बग्गू भगत, सांझा दरबार संत मंदिर में आज वीरवार को साल का अंतिम सप्ताहिक सत्संग आयोजित किया गया। डेरे की सेवा संभाल करने वाली कमेटी के प्रधान और डेरा गद्दी नशीन परम पूजनीय भक्त शम्मी चावला बाऊ जी की देख रेख और अगुवाई में हुए इस सत्संग दौरान बाऊ जी के सपुत्र गगनदीप चावला समेत बड़ी संख्या में डेरा श्रद्धालू मर्द और महिलाओं ने भाग लिया। सबसे पहले बाऊ जी द्वारा बृहम लीन संत बाबा बग्गू भगत जी की पवित्र मूर्ति की चरन वंदना में अरदास करके सत्संग की शुरूआत की गई। उप्रांत बाऊ जी ने पूर्ण विधि विधान से संगत को वीरवार की कथा सरवण करवाई और इस पर चलने की प्रेरना दी। बाद में बाऊ जी ने अपने मुखारबिंद से प्रवचनों की अमृत वर्षा करते हुए फरमाया की हम सभी को परमात्मा पास सभी का भला मांगना चाहिए। जो व्यक्ति पूरी मानवता के भले के लिए सोचता है, ऐसे व्यक्तियों को परमात्मा किसी प्रकार की कोई कमी नहीं रहने देता। सभी को आपसी भाईचारा और प्रेम परम फर्ज के तौर पर निभाना चाहिए। हम सभी को परमात्मा का शुक्र अदा करना चाहिए। ऐसा करने वाले व्यक्तियों को कभी कोई चिंता यां फिर्क नहीं रहता। गुजर रहे वर्ष दौरान किसान आंदोलन, कोरोना और अन्य कारणों करके संसार को अलविदा कह गए व्यक्तियों को बाऊ जी द्वारा श्रद्धांजली भेंट की गई और उनकी आत्मा की शांति के लिए अरदास की गई। अपने प्रवचनों दौरान बाऊ जी ने आगे फरमाया कि नव वर्ष में हम सभी को पिछले गिले शिकवे भुला कर नये सिरे से जीवन शुरू करना चाहिए। जानकारी देते हुए डेरा कमेटी के चीफ आरगेनाइजर जगदीश राय ढोसीवाल ने बताया है कि बाऊ जी के आदेश अनुसार डेरे में अगामी पहली जनवरी शनिवार को नव वर्ष का स्वागत करने के लिए सुबह 9:00 बजे से 10:00 बजे तक जाप किया जाएगा। उप्रांत चाय का लंगर वितरित किया जाएगा। ढोसीवाल ने आगे बताया है कि आज के सत्संग के अंत में बाऊ जी ने इलाके की सुख शांति और सभी के भले के लिए अरदास की। सत्संग की समाप्ति उप्रांत पूरी संगत को सेवादारों द्वारा पूरी श्रद्धा और प्रेम से संत बाबा बग्गू भगत का भंडारा (लंगर) वितरित किया। 

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.