Type Here to Get Search Results !

कोरोना: मास्क और भ्रम

  वैक्सीन के बावजूद कोरोना से बचाव में सावधानियां बेहद जरूरी मानी जा रही हैं।  एक्सपर्ट्स की सलाह है कि भले ही आपने वैक्सीन की दोनों डोज ले ली हों, लेकिन कोरोना के नियमों का पालन करना बेहद जरूरी है।  अगर बात करें कोरोना के नियमों की तो इस लिहाज से मास्क का इस्तेमाल काफी अहम माना जाता है.  हालांकि मास्क को लेकर हमारे समाज में कई तरह की धारणाएं बनने लगी हैं। 

कोरोना: मास्क और भ्रम

सोशल प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध वीडियो में तरह-तरह की बातें की जा रही हैं.  कुछ का कहना है कि मास्क पहनने से कई तरह की परेशानी होती है।  वहीं, कोई मास्क के ज्यादा इस्तेमाल से शरीर में जरूरी ऑक्सीजन की कमी होने की बात करता है।  वहीं किसी का कहना है कि मास्क के इस्तेमाल से वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाती है.  हालांकि, कोई भी इन चीजों के लिए कोई तथ्यात्मक या वैज्ञानिक आधार नहीं देता है।  ऐसे में ऐसी गलत सूचना आम लोगों के लिए काफी भ्रमित करने वाली हो जाती है.  लोगों को समझ नहीं आ रहा है कि मास्क लगाएं या नहीं।  वैसे विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की ओर से मास्क पहनने की गाइडलाइंस जारी कर दी गई है।  दुनिया के वैज्ञानिक समूह का मानना ​​है कि मास्क कोरोना से बचाव के लिए एक मजबूत निवारक का काम करता है।  मास्क हवाई बूंदों को किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से रोककर संक्रमण फैलने के जोखिम को कम करते हैं।  मास्क की इस उपयोगिता के कारण, इसे न केवल दुनिया भर की सरकारों ने स्वीकार किया है, बल्कि सार्वजनिक स्थानों पर भी इसके उपयोग को अनिवार्य कर दिया है।  अब बात करते हैं मास्क पहनकर वातावरण में CO2 यानी कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ाने की।  इस ग़लतफ़हमी को लेकर विशेषज्ञ समूह ने कहा है कि मास्क पहनने से वातावरण में किसी भी तरह के कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर नहीं बढ़ता है.  समूह का कहना है कि जब आप मास्क पहनते हैं और बात करते हैं, तो मास्क के माध्यम से कार्बन डाइऑक्साइड हवा में छोड़ी जाती है।  जबकि वायरस ले जाने वाली श्वसन की बूंदें कार्बन डाइऑक्साइड से काफी बड़ी होती हैं और मास्क में प्रवेश नहीं कर सकती हैं।  वैसे मास्क किस चीज से बेहतर बनता है इसे लेकर हमारे मन में कई तरह की भ्रांतियां होती हैं।  मास्क को लेकर विशेषज्ञों की स्पष्ट राय है।  उनका कहना है कि हर तरह का मास्क संक्रमण को रोकने में सक्षम है।  लेकिन मास्क के स्वीकृत मानक का उपयोग करना बेहतर है।  विशेषज्ञ सर्जिकल या एन-95 मास्क को कोरोना से बचाव में कारगर मानते हैं।  वैसे लोग कपड़े से बने मास्क का भी खूब इस्तेमाल करते हैं।  कपड़े से बने मास्क को लेकर विशेषज्ञों का मानना ​​है कि कोरोना के नए संस्करण के लिए कपड़े के मास्क उतने कारगर नहीं हैं जितने सर्जिकल या एन-95 मास्क हो सकते हैं।  दरअसल, शोध के मुताबिक एन-95 संक्रमण को रोकने में 95 फीसदी कारगर होता है, जबकि सर्जिकल वाले में 80 फीसदी इंजेक्षन होता है।  वहीं कपड़े से बना मास्क 60-70 प्रतिशत कोरोना से बचाव में उपयोगी होता है।  खैर, मास्क की बात जो भी हो, लेकिन हमें इसके वैज्ञानिक आधार को स्वीकार करने पर जोर देना चाहिए।  क्योंकि इस विषय पर काफी मेहनत और शोध के बाद वैज्ञानिक सामने आए तथ्यों के आधार पर सलाह देते हैं.  ऐसे में हमें केवल वैज्ञानिक समूह की सलाह पर ही ध्यान देना चाहिए।  हमें इस मामले में किसी भी तरह के भ्रम में नहीं पड़ना चाहिए।  हालांकि, कोरोना से बचाव में मास्क बहुत जरूरी है, इसे हमें सबसे जरूरी समझना चाहिए।  इस समय कोरोना के नए वेरियंट ओमाइक्रोन की वजह से भारत में भी हर दिन लाखों नए मामले सामने आ रहे हैं।  ऐसे में हमें कोरोना के नियमों का गंभीरता से पालन करने पर अतिरिक्त ध्यान देना चाहिए।  बचाव के सामूहिक प्रयासों को अपनाकर हम खुद को कोरोना के खिलाफ एक मजबूत निवारक के रूप में स्थापित करने में सफल हो सकते हैं।



 विजय गर्ग

 सेवानिवृत्त प्राचार्य 

मलोट

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.