Type Here to Get Search Results !

हज़ारो करोड़ के इसीएसएच घोटाले की सीबीआई जांच की मांग

 हाईकोर्ट के आदेशो का भी पंजाब पुलिस पर असर नही

कई बड़े असपतालो की साजिश

हज़ारो करोड़ के इसीएसएच घोटाले की सीबीआई जांच की मांग


चंडीगढ़ 11 जनवरी, 2022 : केनरा बैंक और व्यवसाइयों के बीच सांठगांठ से 400 करोड़ के गबन को सार्वजानिक कर आरोपियों को सलाखों के पार पहुंचाने वाले मानव अधिकार व आरटीआई कार्यकर्ता गुरमीत सिंह  ने इस बार पंजाब में 10000 करोड़ का एक्स सर्विसमैन हेल्थ स्कीम (इसीएसएच ) घोटाले का पर्दाफाश किया है | गुरमीत सिंह बबलू की ओर से एकत्रित किये गए सबूतों ओर ब्रिगेडियर स्तर के सैन्य अधिकारी की शिकायत पर अमृतसर ओर पठानकोट में अलग अलग एफआईआर दर्ज हुई थी जिसके बाद कई डॉक्टर और अन्य स्टाफ सहित अस्पताल  का सीए भी गिरफ्तार हुआ था ।मामले में कुल 25 आरोपी बनाए गए थे जिनमें 18 डॉक्टर  व 7 अस्पतालों के नाम शामिल थे ।मामले की जांच एडीसीपी  2 अमृतसर संदीप मालिक ने की ।गुरमीत सिंह ने आरोप लगाए है कि संदीप मालिक ने पिक एंड चूज करते हुए अमृतसर में 2 अक्टूबर 2020 को दर्ज एफआईआर से मुख्य आरोपियों के नाम क्लीनचिट देते हुए निकल दिए जबकि उन असपतालो को भी क्लीनचिट देदी जिनके उक्त योजना  प्रदान करने वाले मान्यता प्राप्त असपतालो की सूची से निकल दिया गया था ।

इस संबंध में गुरमीत सिंह बबलू ने पंजाब के डीजीपी को पत्र भेजकर मामले की री इन्वेस्टिगेशन किसी आला अफसर से करवाने की मांग की थी जोकि अभी तक नही हुई ।गुरमीत सिंह ने बताया कि अमृतसर में दर्ज एफसीआर में नसमजड अमनदीप अस्पताल के मालिक ने खुद बचने के लिए अपने अस्पताल के दो कर्मियों पैसे का लालच देकर इल्जाम अपने ऊपर लेने के लिए मनाया ओर उनपर एफसीआर दर्ज करवा दी ।नरिंदर व एक अन्य कर्मी जमानत के लिए पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट गए जहां उन्होंने कोर्ट को सच बताया जिसके बाद कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए पुलिस प्रमुख को इस घोटाले में दर्ज मामलो की नए सिरे से जांच करवाने के आदेश पारित किए थे ।पठानकोट में दर्ज एफआईआर की जांच डीआईजी प्रमोद कुमार ने दोबारा की ओर 6 आरोपी डॉक्टरों सहित अस्पताल के सीए को भी गिरफ्तार किया जा चुका है लेकिन राजनीतिक दबाव के चलते अमृतसर में दर्ज हुई एफसीआर कि पुनः जांच नही हो रही जिसकी मांग गुरमीत सिंह कर रहे है ताकि 7 बड़े असपतालो की ओर से कियर गाहे बाज़ारो करोड़ के गबन को सार्वजनिक किया जा सके ।


ऐसे होता था घपला .....

,एक्स सर्विस मैन हेल्थ स्किम के तहत इलाज के लिए कई असपतालो को मान्यता मिली हुई है जहाँ इलाज करवाने वसले पूर्व फौजियो व उनके परिवार का सारा खर्च अस्पताल केंद्र से क्लेम करता है ।दर्ज एफआईआर में बताया गया है कि अस्पताल चलाने वाले पूर्व फौजियो से संपर्क कर उनसे उनके इसीएसएच कार्ड का सौदा कर उनका कार्ड लेते थे और उस कार्ड के आधार पर फर्जी इलाज दिखाकर बिल बनाये जाते थे जिनमें फर्जी स्टैम्प व हस्ताक्षर कर लाखो का क्लेम अस्पताल  ले रहे थे ।इस सारे घोटाले में कई एजेंट भी शामिल है ।


ग्रह मंत्री व सीबीआई को भी भेजी शिकायत ....

गुरमीत सिंह ने इस सम्बन्ध में गृह मंत्री अमित शाह ,सीबीआई प्रमुख व पंजाब के डीजीपी को भी शिकायते भेजी जिसके साथ आरटीआई से मिली तमान जानकारिया भी सबूतों के लिए भेजी लेकिन कुछ नहीं हुआ ।गुरमीत सिनवः व उनके परिवार को लगातार धमकियां मिल रही है और शिकायते वापस लेने व इस मामले में दखल नही देने की बात कह कर पूरे परिवार को खत्म करने की बात कही जा रही है उक्त धमकियों वाली कॉल्स में एक पाककस्तान के नंबर से भी आ रही है जिसकी शिकायत भी पुलिस को की जा चुकी है ।

गुरमीत सिंह का कहना है कि यह राष्ट्रीय खजाने में गबन का मामला है जिसकी सीबीआई से जांच होनी चाहिए ।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.