Type Here to Get Search Results !

लोहड़ी के पावन पर्व का महत्व

 भारत त्यौहारों का देश है।  साल के 12 महीनों में से कोई भी ऐसा महीना नहीं है जब कोई त्योहार नहीं मनाया जाता है।  संपूर्ण भारतीय जीवन त्योहारों से जुड़ा है।  इसी तरह माघी से एक दिन पहले लोहड़ी का त्योहार मनाया जाता है।  इस पर्व का अर्थ है 'तिल+रियोरी'।  तिल और रूबर्ब के त्योहार के कारण इसका प्राचीन नाम 'तिलोरी' था, जो समय के साथ 'लोहड़ी' बन गया।  यह त्यौहार पंजाब के हर घर में मनाया जाता है।

लोहड़ी के पावन पर्व का महत्व

 लोहड़ी से कई दिन पहले, छोटे बच्चे घर-घर जाकर जलाऊ लकड़ी और जलाऊ लकड़ी के लिए पैसा इकट्ठा करते थे।  जिस घर में लड़का पैदा होता है या नवविवाहित होता है उस घर में बच्चों को मूंगफली, एक प्रकार का फल, तिल, धन आदि दिया जाता है।  कर्कश आवाज में लोहड़ी का गाना गाने वाले बच्चे बहुत प्यारे लगते हैं.  पहले लोहड़ी बेटे के जन्म के बाद ही मिलता था लेकिन आज के शिक्षित समाज में लड़का और लड़की में कोई अंतर नहीं है और अब लोग बेटियों के लिए लोहडी पहनने लगे हैं।  इस दिन गली के लोग एक साथ बैठकर लोहडी जलाते हैं और  जलाती लोहड़ी में तिल डाल जाते हैं

 अर्थात ईश्वर की कृपा से दुख न आने पर सारे कलह की जड़ जल जाएगी।  यह त्योहार बदलते मौसम के साथ भी जुड़ा हुआ है।

 लोहड़ी की प्राचीन गाथा

 पूर्तन गाथा के अनुसार, त्योहार एक भट्टी प्रमुख दुल्ले के साथ भी जुड़ा हुआ है।  एक गरीब ब्राह्मण की दो बेटियां थीं, सुंदरी और मुंदरी।  बेचारे ब्राह्मण ने अपनी बेटियों का रिश्ता कहीं तय कर दिया था लेकिन उस जगह के पापी और अत्याचारी शासक ने उस ब्राह्मण की बेटियों की सुंदरता के बारे में सुना और उन्हें अपने घर में रखने का फैसला किया।  षडयंत्र का पता चलने पर गरीब ब्राह्मण ने लड़के के परिवार से अपनी बेटियों को शादी से पहले अपने घर ले जाने के लिए कहा लेकिन लड़के के परिवार ने भी अत्याचारी के डर से इनकार कर दिया।  बेचारा ब्राह्मण जब मायूस होकर घर लौट रहा था, तो अचानक उसकी मुलाकात दुल्ला भट्टी से हुई, जो परिस्थितियों में डाकू बन चुका था।

 एक गरीब ब्राह्मण की कहानी सुनने के बाद, दुल्ला भट्टी ने ब्राह्मण की मदद करने और अपनी बेटियों की शादी अपनी बेटियों के रूप में करने का वादा किया।  दुल्ला भट्टी ने लड़के के घर जाकर रात के अंधेरे में ब्राह्मणों की बेटियों की शादी कराने के लिए जंगल में आग लगा दी।

 यह त्योहार बाद में हर साल मनाया जाने लगा।  लोहड़ी के दिन छोटे-छोटे बच्चे घर-घर जाकर गाते हैं,

 आपसी प्रेम का प्रतीक है लोहड़ी का पर्व

 यह त्योहार लोगों के आपसी प्रेम का प्रतीक है।  इस दिन शाम को खिचड़ी बनाई जाती है और अगली सुबह खाई जाती है, जिसे 'पोह रिधी और माघ खादी' कहा जाता है।

 आधुनिकता इस त्योहार को मनाने के तरीके को बदल रही है।  आज के समाज के रीति-रिवाज पहले जैसे नहीं रहे और सोच लगातार बदल रही है।  इतना ही नहीं अब लोहड़ी अपने ही आँगन में सिमट कर रह गई है।  लोहड़ी का त्योहार कई क्षेत्रों में अलग-अलग नामों से मनाया जाता है जैसे सिंधी लोग इसे 'लाल-लोई' कहते हैं, तमिलनाडु में 'पोंगल' और आंध्र प्रदेश में 'भोगी' जैसा त्योहार मनाया जाता है।

 महंगाई ने बदला मौसम

 बढ़ती महंगाई और पैसों की होड़ ने जिंदगी की सूरत बदल दी है।  अब न तो बच्चे लोहा मांगते दिख रहे हैं और न ही रिश्ते में पहले की तरह एकता और परिपक्वता आई है।  लोग अब शादी की तरह ही शादियों के लिए महलों की बुकिंग कर रहे हैं।  सारा कार्यक्रम वहीं है।  अजनबी की तरह लोग आते-जाते रहते हैं।  लड़के मिठाई का डिब्बा और एक कार्ड भी भेजते हैं और शाम को सभी लोग अपने घर में अलग-अलग लोहड़ी मनाते हैं।

 बेटियों का लोहड़ी

 आज का लोहड़ी बहुत बदल गया है।  हालांकि शिक्षित समाज की सोच बदल गई है और अब लोग नवजात बेटियों के जन्म का जश्न मना रहे हैं, लेकिन अब बाजार की दिलचस्पी भी त्योहारों पर हावी हो रही है।  तेजी से उभरते हुए वैश्विक गांव के कारण संबंधों की गर्मजोशी, स्नेह, सांस्कृतिक सद्भाव और सहयोग भी कम हो रहा है।  हमारे बच्चे भी पढ़ाई और पेपर के बोझ के कारण काफी व्यस्त हो रहे हैं।  उनके पास अब अपनी खुशियां बांटने का समय नहीं है।



 विजय गर्ग

 सेवानिवृत्त प्राचार्य 

मलोट

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

CRYPTO CURRENCY