Type Here to Get Search Results !

अंतिम परीक्षा के दिनों में तनावग्रस्त हो जाते हैं बच्चे

  अंतिम परीक्षा के दिनों में बच्चे अक्सर तनाव में रहते हैं।  परीक्षा के दिनों में बच्चों के खाने-पीने, उठने-बैठने आदि पर बहुत ध्यान देने की आवश्यकता होती है।  तो माता-पिता और शिक्षक ...

 अंतिम परीक्षा के दिनों में बच्चे अक्सर तनाव में रहते हैं।  परीक्षा के दिनों में बच्चों के खाने-पीने, उठने-बैठने आदि पर बहुत ध्यान देने की आवश्यकता होती है।  इसलिए, माता-पिता और शिक्षकों के मार्गदर्शन की बहुत आवश्यकता होती है क्योंकि बच्चा अपनी समस्याओं का समाधान अपने आस-पास के बच्चों से पूछता है जिनके पास सही उत्तर नहीं होते हैं।  जीवन के इस पड़ाव पर उत्साह अधिक और चेतना कम होती है।  इसलिए बच्चों को सही दिशा देना बहुत जरूरी है।  दुनिया इस बात की ओर बढ़ रही है कि शिक्षा बच्चों के दिमाग पर बोझ न हो लेकिन भारतीय परीक्षा प्रणाली ऐसी है कि फरवरी और मार्च के महीनों में बच्चे तनाव में आ जाते हैं।  बच्चों को साल भर तीन घंटे में अपनी पढ़ाई का प्रदर्शन करना होता है।  दुर्भाग्य से यदि बच्चा उस दिन बीमार है या मानसिक तनाव में है और वह अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकता है तो वह परीक्षा में फेल हो जाता है।  ऐसा न करना अशुभ माना जाता है।  इन सभी कारणों से बच्चों को इन महीनों में उचित मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है।

अंतिम परीक्षा के दिनों में तनावग्रस्त हो जाते हैं बच्चे

 संख्याओं के वितरण का उल्लेख करना महत्वपूर्ण है

 अगर हम युद्ध जीतने की बात कर रहे हैं, तो हमें केवल बंदूक चलाना सिखाना ही काफी नहीं है, बल्कि हमें युद्ध प्रबंधन की कला सिखाना और भी महत्वपूर्ण है।  बच्चों को पूरे पाठ्यक्रम और अंकों के वितरण के बारे में बताना महत्वपूर्ण है।  हमारे बच्चे 33 अंक पाकर खुश हैं।  अगर हम इन 33 अंकों की बात करें तो यह भी प्रचलित है कि जब अंग्रेजों ने हमारे देश की शिक्षा नीति बनाई तो उन्हें ब्रिटेन में उत्तीर्ण होने के लिए 65 अंक प्राप्त करने पड़े तो उन्होंने सोचा कि भारतीयों के पास आधा दिमाग है उन्होंने भारतीयों का प्रतिशत आधा रखा। एक प्रतिशत लेकिन इसे बढ़ाकर 33 कर दिया गया, जो आज भी जारी है।  आज प्रतिस्पर्धा का जमाना इतना हो गया है कि 33 अंक प्राप्त करने वाले बच्चे के पैर कहीं नहीं पड़ते लेकिन अफसोस की बात है कि बच्चों को 33 अंक प्राप्त करने के बारे में नहीं बताया जाता है, जिससे हमारे बच्चे तनाव में चले जाते हैं।

 उम्र बुद्धि की होती है नकल की नहीं

 उम्र बुद्धि की होती है नकल की नहीं।  एक बार गधे की शेर की खाल पहन ली लेकिन गधा भौंकने लगा और लोग पीटने लगे, तो जीवन में ज्ञान का हथियार बहुत काम आता है।  ज्ञान से बालक संसार में पैर रखता है।  जहाँ ज्ञानी बालक को अपने परिवेश में अन्तर्दृष्टि प्राप्त होती है, वहीं वह नई खोजों और नए पथों का अग्रदूत भी बन जाता है।  बुनियादी गुणों के विकास के लिए शिक्षा बोझ न बने, बच्चे को कागजों से नहीं डरना चाहिए।  बच्चा हर दिन सीखना और मूल्यांकन करना जारी रखता है, ऐसा न हो कि पूरे साल की परीक्षा सिर्फ तीन घंटे में ली जाए।  वर्तमान परीक्षा प्रणाली की बात करें तो यह त्रुटिपूर्ण है।  स्थायी कागज के दिन ही बच्चे को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलता है।  जैसा कि हमने शिक्षक की भूमिका के बारे में बात की है, माता-पिता की भूमिका इन दिनों बहुत सहायक और रचनात्मक होनी चाहिए।  बच्चों को जल्द से जल्द मिलने और हर समय प्रोत्साहित करने की जरूरत है।

 अपने बच्चे की दूसरों से तुलना न करें

 माता-पिता को अपने बच्चे की तुलना किसी अन्य बच्चे से नहीं करनी चाहिए क्योंकि हर बच्चे की अपनी बुद्धि होती है।  हां, बच्चों को बताया जाना चाहिए कि उनके अंदर जो है उसका शत-प्रतिशत दिया जाना चाहिए, चाहे पेपरों में संख्या कितनी भी कम क्यों न हो।  स्थायी कागजात तैयार करने के लिए बच्चे को बुनियादी सुविधाएं प्रदान की जानी चाहिए।

 आज जब हम अपने चारों ओर देखते हैं, तो योग्यता वाले बच्चों में भी व्यक्तित्व की कमी होती है, उनमें करुणा, प्रेम और सहयोग की भावना शून्य होती है।  ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्हें केवल उच्च अंक प्राप्त करना सिखाया जाता है और उन्हें वास्तविक मानवीय गुणों के बारे में नहीं बताया जाता है।  इसलिए, बच्चों को एक जीवित वस्तु के रूप में समझना और उनसे अपनी क्षमताओं के अनुसार परिणाम देने की अपेक्षा करना बहुत महत्वपूर्ण है।

 बच्चों को उपलब्धि पर बधाई

 जब छोटी-छोटी उपलब्धियों के लिए बच्चों की प्रशंसा की जाती है, तो वे बहुत उत्साहित होते हैं और ऐसी ऊर्जा भरना शिक्षक का काम होता है।  हर बच्चे के परिवार का आर्थिक, मानसिक और सामाजिक स्तर अलग होता है।  एक बच्चे को उसके परिवार और विरासत के लक्षणों के अनुसार आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करना सही शिक्षण है।  अखबारों में की गई मेहनत बहुत काम आती है लेकिन शिक्षकों और अभिभावकों की प्रेरणा और प्रोत्साहन किसी चमत्कार से कम नहीं है।  परीक्षा के दिनों में विद्यार्थियों के मानसिक स्तर को ऊँचा रखने के लिए उनकी छोटी-छोटी उपलब्धि को बड़ा मानकर सराहा जाना चाहिए।

 पाठ्यक्रम का परिचय

 पाठ्यक्रम में कई सरल पाठ हैं जिनसे 50% से अधिक अंक आसानी से प्राप्त किए जा सकते हैं।  शिक्षक के लिए इन पाठों से परिचित होना और उनसे जुड़ी संख्याओं के वितरण की व्याख्या करना बहुत महत्वपूर्ण है।  शिक्षक के लिए कक्षा में एक समूह बनाना और गतिविधि को मज़ेदार तरीके से अभ्यास करना महत्वपूर्ण है।  शिक्षक को यह भी बताना होगा कि शिक्षा केवल स्कूल में प्राप्त नहीं की जा सकती, इसे घर और समाज से भी लिया जा सकता है।  शिक्षक को यह भी बताना होगा कि उच्च अंक प्राप्त करना न केवल एक अच्छे व्यक्तित्व की निशानी है, बल्कि उस वातावरण का रक्षक होना कहीं अधिक महत्वपूर्ण है जिसमें हम रह रहे हैं।  पिछले ग्रेड के छात्रों को उच्च अंक प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना भी शिक्षक का कर्तव्य है।

 बच्चे को दें रचनात्मक माहौल

 जीवन में सिर्फ अच्छे अंक लाना ही काफी नहीं है।  ऐसे और भी कई क्षेत्र हैं जिनमें एक बच्चा सफल हो सकता है।  असली सबक यह है कि प्रकृति ने बच्चे को जो कौशल दिया है, उसे खोजें और उसमें सर्वश्रेष्ठ को बाहर निकालें।  परीक्षा पास करना जरूरी है लेकिन इन परीक्षाओं को पास करते समय बच्चे को बोझ मुक्त होना चाहिए।  इसके लिए माता-पिता, शिक्षक और समाज को मिलकर काम करना चाहिए।

 अगर हम ऐसा माहौल बनाने में सफल हो जाते हैं तो हम मानसिक रूप से मजबूत लोगों की फसल पैदा करने में सक्षम होंगे।  इन अमीर लोगों को मानवता के कल्याण के लिए विभिन्न क्षेत्रों में नई खोज करनी पड़ती है।  स्कूल तो बच्चे के भले के लिए ही होते हैं, जबकि बच्चे को व्यवहारिक तौर पर समाज से ढेर सारी शिक्षा लेनी पड़ती है।  शिक्षकों को बच्चों की मानसिक योग्यता के अनुसार पाठ्यक्रम तैयार करना चाहिए।  परीक्षा देने का तरीका लचीला होना चाहिए और बच्चे को अपनी क्षमता में सुधार करने के लिए लगातार अवसर दिए जाने चाहिए।  इन दिनों बच्चे को रचनात्मक माहौल दिया जाना चाहिए ताकि वह तनाव मुक्त रह सके।



 विजय गर्ग

 सेवानिवृत्त प्राचार्य 

मलोट

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.