Type Here to Get Search Results !

कैप्टन अमरिन्दर सिंह 'अग्निपथ' नीति की समीक्षा के हक़ में

 एक सैनिक के लिए 4 साल की सेवा बहुत कम

 
कैप्टन अमरिन्दर सिंह 'अग्निपथ' नीति की समीक्षा के हक़ में


चंडीगढ़, 16 जून (BTTNEWS)- पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और भारत-चीन और भारत-पाक युद्धों के वेटरन कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज रक्षा बलों में भर्ती की 'अग्निपथ' नीति की समीक्षा करने का सुझाव दिया। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज एक बयान में कहा, "यह रेजीमेंटों के लंबे समय से विद्यमान विशिष्ट लोकाचार को कमजोर करेगा", "एक सैनिक के लिए चार साल की सेवा बहुत कम समय है"।

उन्होंने हैरानी वयक्त कि की भारत सरकार को भर्ती नीति में इस तरह के आमूलचूल परिवर्तन करने की आवश्यकता क्यों है, जो इतने सालों से देश के लिए इतना अच्छा काम कर रही है। उन्होंने कहा, "तीन साल की प्रभावी सेवा के साथ कुल चार साल के लिए सैनिकों को काम पर रखना, सैन्य रूप से एक अच्छा विचार नहीं है"।

कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने 'ऑल इंडिया ऑल क्लास' भर्ती नीति का पुरजोर विरोध करते हुए कहा कि यह रेजीमेंटों के लोकाचार को कमजोर करेगी। उन्होंने बताया कि सिख रेजीमेंट, डोगरा रेजीमेंट, मद्रास रेजीमेंट आदि जैसी विभिन्न रेजीमेंटों का अपना अलग लोकाचार है जो सैन्य दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है और जिसे अनदेखा कर दिया गया है।

पूर्व मुख्यमंत्री, जो एक प्रतिष्ठित सैन्य इतिहासकार भी हैं, ने बताया कि इन सभी वर्षों में इस प्रणाली ने बहुत अच्छी तरह से काम किया है। इसके अलावा, उन्होंने कहा, विभिन्न सांस्कृतिक पृष्ठभूमि के रंगरूटों के लिए सांस्कृतिक रूप से भिन्न वातावरण में समायोजित करना बहुत मुश्किल होगा जो एक विशेष रेजिमेंट के लिए विशिष्ट है और वह भी इतने कम समय के भीतर, जो प्रभावी रूप से तीन साल से कम समय में आता है।

कैप्टन अमरिन्दर ने कहा कि पहले से ही मौजूदा सात और पांच साल की छोटी अवधि की कार्यकाल प्रणाली ठीक है, लेकिन चार साल, जो एक बार प्रशिक्षण और छुट्टी की अवधि को बाहर कर दिया जाए, तो प्रभावी रूप से तीन साल से कम हो जाता है, काम करने योग्य नहीं होगा। "यह एक पेशेवर सेना के लिए कभी भी काम करने योग्य नहीं होगा, जो पूर्वी और पश्चिमी दोनों थिएटरों में कठिन चुनौतियों का सामना कर रही है", उन्होंने टिप्पणी की।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.