[post ads]


चंडीगढ़, 28 दिसंबर:
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने आज रिश्वत के दो विभिन्न मामलों में एक सब इंस्पेक्टर और एक ए.एस.आई को रंगे हाथों काबू किया है। इस सम्बन्धी जानकारी देते हुये विजीलैंस ब्यूरो के एक प्रवक्ता ने बताया कि चब्बेवाल थाना, जि़ला होशियारपुर में तैनात सब इंस्पेक्टर सोहन लाल को शिकायतकर्ता हरमन्दर सिंह की शिकायत पर 50,000 रुपए की रिशवत लेते हुए गिरफ़्तार किया है शिकायतकर्ता ने विजीलैस ब्यूरो को अपनी शिकायत में दोष लगाया कि उक्त सब-इंस्पेक्टर द्वारा एक पुलिस केस में उसकी मदद करने के बदल एक लाख रुपए की माँग की है।

विजीलैंस द्वारा शिकायत की जांच के उपरांत उक्त दोषी को दो सरकारी गवाहों की हाजिऱी में पहली किस्त के 50,000 रुपए की रिशवत लेते हुये सब इंस्पेक्टर सोहन लाल को मौके पर ही पकड़ लिया गया। 
इसी तरह भ्रष्टाचार के एक अन्य केस में विजीलैस ब्यूरो ने एसटीएफ मानसा में तैनात ए.एस.आई दर्शन सिंह को शिकायतकर्ता मनजीत कौर निवासी गाँव जोगा की शिकायत पर 20,000 रुपए की रिशवत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ़्तार किया है। शिकायतकर्ता ने विजीलैंस को अपनी शिकायत में दोष लगाया कि ए.एस.आई दर्शन सिंह और ए.एस.आई सुरिन्दर सिंह द्वारा नशे के केस में उसका नाम शामिल न करने के बदले 30,000 रुपए की माँग की गई है।  विजीलैंस द्वारा शिकायत की पड़ताल के उपरांत दोषी ए.एस.आई दर्शन सिंह को दो सरकारी गवाहों की हाजिऱी में 20,000 रुपए की रिश्वत लेते हुये मौके पर ही पकड़ लिया और इस केस में शामिल फरार हुए अन्य ए.एसआई सुरिन्दर सिंह की खोज जारी है। 
प्रवक्ता ने बताया कि उक्त तीनों दोषियों के खिलाफ भ्रष्टाचार रोकथाम कानून की विभिन्न धाराओंं के अंतर्गत क्रमवार विजीलंैस ब्यूरो के थाना जालंधर और बठिंडा में मुकदमे दर्ज करके अगली कार्यवाही आरंभ कर दी गई है


चंडीगढ़, 25 दिसंबर:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की हिदायतों पर की गई प्राथमिक जांच ने जेल मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा और जग्गू भगवानपुरिया के बीच किसी भी तरह के संबंधों को ख़ारिज किया है। यह बात यहाँ बुधवार को पंजाब पुलिस के सीनियर अधिकारी ने ख़तरनाक गैंगस्टर को 5-स्टार सहूलतें देने के दोषों को रद्द करते हुये कही।
जग्गू हाल ही में सीनियर नेताओं के साथ अपने पुराने संबंधों के दोषों और जवाबी दोषों के कारण सुर्खियों में रहा है।
इन दोषों की रिपोर्टों के मद्देनजऱ मुख्यमंत्री ने डी.जी.पी. (इंटेलिजेंस) की निगरानी अधीन जांच करवाने के निर्देश दिए थे और साथ ही तेज़ी से कार्यवाही करने और जल्द से जल्द रिपोर्ट सौंपने के लिए भी कहा था। चाहे अंतिम रिपोर्ट अभी आनी बाकी है, पंजाब पुलिस के इंटेलिजेंस विंग के अनुसार प्राथमिक जांच से गैंगस्टर और जेल मंत्री रंधावा के बीच कोई सम्बन्ध सामने नहीं आया हैं।
इस बात को उजागरकरते हुये कि बीते कुछ महीनों से जग्गू के साथियों के खि़लाफ़ कार्यवाही जारी है, पंजाब पुलिस ने गैंगस्टर के साथ नरमी बरतने के किसी भी तरह के राजनैतिक दबाव को नकारा है। पिछले महीने बलजीत सिंह को अमृतसर जिले में हथियारों और सोने समेत पकड़ा गया था और अक्तूबर में गैंगस्टर हरमिन्दर सिंह को जालंधर जिले में बड़ी मात्रा में हथियारों और गोला-बारूद समेत गिरफ़्तार किया गया था। दोनों जग्गू के करीबी बताए जाते हैं। इससे पहले मई में पुलिस द्वारा जग्गू के नजदीकी सहयोगी केटेगरी ‘ए’ गैंगस्टर शुबनम सिंह को गिरफ़्तार किया गया था जिसके हिंदु संघर्ष सेना नेता और अमृतसर म्युंसिपल काऊंसलर के कत्ल में शामिल होने की सूचना थी। पंजाब पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि पिछले कुछ महीनों में ऐसी और कई गिरफ़्तारियाँ की गई हैं।
ए.डी.जी.पी. (जेल) ने गैंगस्टर के लिए पटियाला सैंट्रल जेल, जहाँ कि उसको उच्च सुरक्षा जोन में रखा गया है, में किसी भी तरह की 5-स्टार सहूलतों के दोषों को नकार दिया है।
ए.डी.जी.पी. जेल द्वारा प्राथमिक जांच से पता लगा है कि जग्गू भगवानपुरिया को अन्य कैदियों की तरह उच्च सुरक्षा जोन में एक अलग सैल में रखा गया है और उसकी गतिविधियों पर सख्त नजऱ रखी जा रही है।
जग्गू जोकि एक ख़तरनाक गैंगस्टर है, मुख्य तौर पर अमृतसर और गुरदासपुर जि़लों में सक्रिय था और कत्ल, कंट्रैक्ट कीलिंग, चोरी, लूट-पान और गुंडागर्दी जैसे कई मामलों में शामिल था। वह अकालियों के शासन के दौरान कथित रूप में ऐसे कम से कम 47 मामलों में शामिल था।
सितम्बर 2014 में अकाली सरकार दौरान उसने अन्य गैंगस्टर संजीव कुमार उर्फ बाबा को अमृतसर में मारा था। बाबा जो कि उस समय पैरोल पर जेल में से बाहर था, अन्य गैंगस्टर राजू चौहान को जनवरी 2010 में अमृतसर कोर्ट कंपलैक्स में कत्ल करने के मामले में उम्र कैद की सज़ा भुगत रहा था। जग्गू जुलाई 2015 में उसकी गिरफ़्तारी से लेकर जेल में बंद है।


चंडीगढ़, 24 दिसंबर:
पंजाब सरकार द्वारा मैडीकल शिक्षा का नवीनीकरण पूरे ज़ोरों -शोरों के साथ जारी है, यह खुलासा पंजाब के मैडीकल शिक्षा मंत्री श्री ओ.पी सोनी ने किया। श्री सोनी ने बताया कि मोहाली और कपूरथला में मैडीकल कालेज के बाद होशियारपुर में स्थापित होने वाले एक नये मैडीकल कालेज की विस्तृत प्रोजैक्ट रिपोर्ट तैयार की जा चुकी है।

उन्होंने बताया कि कुछ ज़रूरी कार्यवाहियां पूरी करने के उपरांत इस प्रस्ताव को औपचारिक मंजूरी के लिए केंद्र सरकार के पास भेजा जायेगा। श्री सोनी ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में राज्य में पाँच नये मैडीकल कालेजों का वायदा किया था। सरकार द्वारा अपने वायदों के मद्देनजऱ मोहाली के नये मैडीकल कालेज में पद भरने के लिए नोटिफिकेशन प्रक्रिया अधीन है और भारत सरकार द्वारा कपूरथला में बनने जा रहे नये मैडीकल कालेज की मंज़ूरी के बाद इस सम्बन्धी एमओयू सहीबद्ध किये जा रहे हैं।
आज यहाँ पंजाब भवन चंडीगढ़ में मैडीकल शिक्षा के नवीनीकरण सम्बन्धी मुख्यमंत्री द्वारा गठित सलाहकार समूह की मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने बताया कि होशियारपुर में बनने जा रहे नये मैडीकल कालेज की डी.पी.आर. सहित पठानकोट, गुरदासपुर और संगरूर में पीपीपी प्रणाली के द्वारा नये मैडीकल कालेज स्थापित करने सम्बन्धी रूचि के अभिव्यक्ति आमंत्रित की जायेगी। उन्होंने कहा कि फिऱोज़पुर में पी.जी.आई. के सैटेलाइट कैंपस को भी मंजूरी दी गई है और होशियारपुर में नया टर्शरी कैंसर केयर सैंटर स्थापित करने संबंधी भी विचार किया जा रहा है।
कमेटी के सदस्यों में शामिल पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री स. बलबीर सिंह सिद्धू, लोक निर्माण मंत्री श्री विजय इंदर सिंगला, श्री राजकुमार वेरका विधायक अमृतसर (पश्चिम) ने मैडीकल शिक्षा विभाग की पहलकदमियों का स्वागत करते हुए कहा कि नये बुनियादी ढांचे का निर्माण अपेक्षित है परन्तु इससे मौजूदा ढांचे के रखरखाव पर कोई प्रभाव नहीं पडऩा चाहिए। कमेटी द्वारा सैद्धांतिक तौर पर सरकारी मैडीकल कालेजों के मौजूदा समय प्रात:काल 8.30 बजे से दोपहर 2.30 बजे से बदल कर प्रात:काल 8.00 बजे से शाम 4 बजे तक करने पर सहमति जताई गई जिसमें दोपहर के खाने के लिए एक घंटे की ब्रेक शामिल है। कमेटी ने मैडीकल कालेजों और अस्पतालों के कामकाज को बेहतर बनाने के लिए स्थानीय विधायक और प्रसिद्ध सेवामुक्त व्यक्तियों को सदस्यों के तौर पर स्थानीय सरकारी मैडीकल कालेजों में एक सलाहकार कमेटी स्थापित करने का प्रस्ताव भी दिया। चल रहे मुरम्मत और निर्माण कार्यों को तेज़ करने के लिए मैडीकल शिक्षा के सचिव की निगरानी में स्थानीय पीडब्ल्यूडी (बी एंड आर), पीडब्ल्यूडी (इलैक्ट्रिकल) और पब्लिक हैल्थ अधिकारी की एक कमेटी गठित करने का प्रस्ताव रखा गया। हितधारक एजेंसियों में तालमेल की कमी के कारण लटक रहे ज़मीनी स्तरीय मसलों के तुरंत निपटारे के लिए मैंबर सीधे सचिव को रिपोर्ट करेंगे। इसके अलावा, सरकारी मैडीकल कालेज पटियाला और अमृतसर के पुनर्गठन और नवीनीकरण के लिए संस्थानों को और ज्यादा स्वायत्तता देने संबंधी विचार-विमर्श भी किये गए।
----------------

चंडीगढ़, 20 दिसंबर:
पंजाब पुलिस को एस.सी. एक्ट सम्बन्धी बारीकी से अवगत करवाने का फैसला किया गया है। यह जानकारी पंजाब राज्य अनुसूचित जाति आयोग की चेयरपर्सन श्रीमती तेजिन्दर कौर ने आज यहाँ दी।
उन्होंने बताया कि आज पंजाब राज्य अनुसूचित जाति आयोग में सुनवाई के दौरान पंजाब पुलिस की ए.डी.जी.पी. (इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो) श्रीमती गुरप्रीत देओ आए थे जिस दौरान आयोग की चेयरपर्सन द्वारा फील्ड में तैनात पुलिस मुलाजि़मों द्वारा एस.सी. लोगों की शिकायतों को हल करने के दौरान अक्सर की जाने वाली गलतियों, मामलों में चालान 60 दिनों में न पेश करने और एस.सी. एक्ट सम्बन्धी जानकारी न होने सम्बन्धी चर्चा की गई।
जिस पर पंजाब पुलिस की ए.डी.जी.पी. (इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो) श्रीमती गुरप्रीत देओ ने आयोग को भरोसा दिलाया कि वह एक पत्र जारी करके पंजाब राज्य के समूह एस.एस.पीज़ को आदेश देंगे कि वह अपने अधीन जि़ले की पुलिस को एस.सी. एक्ट सम्बन्धी जागरूक करने के लिए जि़ला पुलिस लाईनज़ में प्रशिक्षण सैशन करेंगे और एक महीने में इस सम्बन्धी की गई कार्यवाही संबंधी ब्यूरो को लिखित तौर पर अवगत भी करवाएंगे।
इसके अलावा एस.सी. एक्ट से संबंधित मामलों में चालान 60 दिनों में पेश करने को भी यकीनी बनाने की दिशा में दिशा- निर्देश जारी करेंगे।

701 numbers of licenses suspended from January to November, 2019: Balbir Singh Sidhu

Chandigarh, December 21:
In a bid to keep tab on the illegal sale and purchase of habit forming drugs, the FDA (Food and Drugs administration) is conducting the regular checking of wholesale and Retail sale Drugs Licensees under which FDA team of Amritsar had seized the approximately 12 lakh tablets of Tramadol, having MRP value of approximately Rs. 85 Lakhs under the provisions of Drugs and Cosmetics Act, 1940. It was disclosed here today by the Health & Family Welfare Minister Balbir Singh Sidhu in a press communiqué.
The Minister revealed that a team consisting of Miss Baleen Kaur, Drugs Control Officer, Amritsar and Karun Sachdev Zonal Licensing Authority (Drugs) had visited the firm M/s Ravenbhel Pharmaceuticals (p) Ltd, 7-A, Baba Budha Ji Avenue, G.T. Road of Amritsar for course of routine inspections and found that the firm was bearing Valid Drugs Sales Licenses by virtue of which Allopathic Drugs could be stocked for sale and distribution but firm have not got the special permission to stock such a large number of tablets of ‘Tramadol’. The said firm had applied for such permission but same has not yet been issued by concerned licensing Authority. He said that notice under Rule 66(1) of Drugs and Cosmetics Rules, 1945 has been issued for taking action against the firm and the further investigation is under process.
Underlining the action taken against the wholesale and Retail sale Drugs Licensees those were violating the restrictions laid by the state government, the Minister said that 701 numbers of licenses had been suspended out of which 600 licenses suspended due to general contravention and 101 licences had been suspended for the contravention regarding habit forming drugs. He said that 2 licenses had also been cancelled during the January to November, 2019. Similarly, 87 numbers of prosecution orders had been issued against defaulters and 102 prosecutions launched by the FDA, Punjab. 
Balbir Singh Sidhu reiterated that Captain Amarinder Singh led Punjab Government is committed to weed out drugs menace from the state and to achieve this target, strict action is being taken against the violators and defaulters adding that the State Government had restricted the sale of eight types of drugs in the state i.e drugs formulations containing the narcotics drugs namely diphenoxylate, dextropropoxyphene, codeine and their salts, psychotropic substances buprenorphine, pentazocine, nitrazepam and their salts and tramadol & tapentadol in solid oral dosage forms. He said that wholesaler and retailer has to obtain the special permission from concerned licensing Authority before stocking the said drugs and only those chemists are allowed for it whose shops are inside or outside the hospitals.
-

चंडीगढ़, 21 दिसंबर:
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो द्वारा भ्रष्टाचार के विरुद्ध जारी मुहिम के दौरान आज नगर कौंसिल कुराली, जि़ला एस.ए.एस नगर में तैनात जूनियर सहायक सुखदेव सिंह को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों काबू किया गया है।
इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए विजीलैंस ब्यूरो के सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि दोषी सुखदेव सिंह को शिकायतकर्ता जसवीर सिंह, निवासी कुराली, जि़ला एस.ए.एस नगर की शिकायत पर विजीलैंस ब्यूरो द्वारा 15 हज़ार रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया गया। प्रवक्ता ने बताया उक्त शिकायतकर्ता ने विजीलैंस ब्यूरो को अपनी शिकायत में बताया कि उक्त दोषी सुखदेव सिंह की तरफ से उसके प्लॉट का रैगूलेशन सर्टिफिकेट जारी करने के बदले 15000 रुपए की माँग की गई है। विजीलैंस की उडऩ दस्ता टीम द्वारा दोषों की जांच के उपरांत उक्त दोषी को दो सरकारी गवाहों की हाजिऱी में 15 हज़ार रुपए की रिश्वत के तौर पर लेते हुए मौके पर ही काबू कर लिया गया।
प्रवक्ता ने बताया कि इस सम्बन्धी उक्त दोषी के विरुद्ध भ्रष्टाचार रोकथाम कानून की विभिन्न धाराओं के अंतर्गत विजीलैंस ब्यूरे उडऩ दस्ता के थाना एस.ए.एस नगर में मुकद्मा दर्ज करके अगली कार्यवाही आरंभ कर दी गई है।

चंडीगढ़, 19 दिसंबर:
राज्य में खाद्य पदार्थों की सुरक्षा संबंधी पता लगाने के लिए लोगों द्वारा सहायता की प्रशंसा करते हुए तंदुरुस्त पंजाब मिशन के डायरैक्टर स. काहन सिंह पन्नू ने बताया कि मोबाइल फूड सेफ्टी वैनों और लोगों की तरफ से स्वैच्छा से लाए गए नमूनों की जांच से पता लगता है कि अक्तूबर और नवंबर 2019 के दौरान, 567 में से 101 नमूने निर्धारित मापदण्डों को पूरा करने में असफल रहे।
इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि मोबाइल फूड सेफ्टी वैनें अलग -अलग जि़लों में बारी-बारी जाने के लिए तैनात की गई हैं। अक्तूबर महीने के दौरान जिला होशियारपुर में एक वैन तैनात की गई जिसमें लोग टैस्ट के लिए 368 नमूने लाए। इन नमूनों में दूध और दूध उत्पादों के 78, मसालों के 49, पानी और अन्य पीने वाले पदार्थों के 16 और मिठाईयों के 225 नमूने शामिल थे। होशियारपुर में टैस्ट किये गए इन नमूनों में से 40 नमूने असफल रहे।


इसी तरह नवंबर महीने के दौरान, फूड सेफ्टी वैन फिऱोज़पुर में तैनात की गई थी जिसमें लोग टैस्ट के लिए 199 नमूने लेकर आए थे जिनमें दूध और दूध के उत्पादों के 60, मसालों के 54, अनाज और खाद्य पदार्थों के 20, नमक के 9 और अन्य खाद्य पदार्थों के 56 नमूने शामिल थे। फिऱोज़पुर में 199 नमूनों की जांच की गई, जिसमें से 61 नमूने निर्धारित मापदण्डों को पूरा करने में असफल रहे।
जनता की तरफ से दिए समर्थन का धन्यवाद करते हुए स. पन्नू ने कहा कि फूड सेफ्टी वैन में नमूनों की मौके पर ही जांच करने के लिए नाम मात्र 50 रुपए प्रति नमूना वसूला जाता है परन्तु जांच फीस के बावजूद नागरिकों ने खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता की परख करवाने से परहेज़ नहीं किया। उन्होंने कहा कि जांच के बाद लोगों को मौके पर ही रिपोर्ट की प्रमाणित कॉपी भी दे दी जाती है।
कैप्शन-फूड सेफ्टी वैनों में खाद्य पदार्थों के नमूनों की जांच के बाद मौके पर ही रिपोर्ट की सत्यापित कॉपियां बाँटते हुए।

 चंडीगढ़, 19 दिसंबर:
संकट में फंसी महिलाओं को ले जाने और छोडऩे (पिक एंड ड्रॉप) की सुविधा में विस्तार करने के मद्देनजऱ मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने राज्य के 5 प्रमुख शहरों में महिला आधारित पी.सी.आर. वैनें चलाने के हुक्म दिए हैं जिससे महिलाओं को सुरक्षित घर पहुँचाया जा सके।
मुख्यमंत्री के हुक्मों के मुताबिक संकट में फंसी महिलाओं को उनके घर या काम वाली जगह पर सुरक्षित पहुँचाने के लिए मोहाली, अमृतसर, पटियाला, लुधियाना और जालंधर में चलाईं जा रही पी.सी.आर वैनों की चालक भी महिलाएं ही होंगी।
यहाँ गुरूवार को यह जानकारी देते हुए डी.जी.पी. दिनकर गुप्ता ने कहा कि महिलाओं को सुरक्षित घर छोडऩे की स्कीम की शुरुआत के बाद 3 से 18 दिसंबर, 2019 तक हेल्पलाइन नंबरों 100 /112, 181 और 1091 पर कुल 40 कॉल आईं थीं। और विस्तृत जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि 112 /100 पर 26 कॉल, 181 पर 2 कॉल और 1091 की जि़ला हेल्पलाइन पर कुल 12 कॉल आईं थीं।
जि़क्रयोग्य है कि मुख्यमंत्री ने 3 दिसंबर, 2019 को महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बढ़ रही मुश्किलों के मद्देनजऱ इस योजना की शुरुआत की थी, जिसके अंतर्गत रात 9.00 बजे से प्रात:काल 6.00 बजे तक मुसीबत में फंसी महिलाओं को मुफ़्त पुलिस सहायता दी जाती है। महिला कॉलर को तुरंत सम्बन्धित पुलिस स्टेशन के पुलिस पैट्रोलिंग वाहन के साथ जोड़ा जायेगा जहाँ उपलब्ध पिक एंड ड्रॉप की सुविधा के साथ टैक्सी या थ्री-व्हीलर के द्वारा सुरक्षित घर पहुँचाया जायेगा।
अब तक प्राप्त हुई कॉल सम्बन्धी विवरण देते हुए डी.जी.पी. ने कहा कि पुलिस पैट्रोलिंग पार्टियों की तरफ से फ़ोन करने वाले तक पहुँचने के लिए कम से कम 7 मिनट और अधिक से अधिक 30 मिनट का समय था और औसतन यह समय 12 मिनट का था। पुलिस पार्टियों ने बुलाने वालों को उनके निवास स्थान /जगह पर सुरक्षित ढंग से छोड़ा जहाँ वह जाना चाहते थे। कुछ मामलों में, इलैक्ट्रॉनिक मीडिया की महिला पत्रकारों ने पुलिस प्रतिक्रिया समय की जांच करने के लिए पुलिस कंट्रोल रूम को डम्मी कॉल भी की और इसकी सफलतापूर्वक पुष्टि की।
और जानकारी देते हुए डी.जी.पी. ने कहा कि ज़्यादातर मामलों में एक महिला पुलिस अधिकारी पी.सी.आर. में मौजूद थी। उन्होंने बताया कि यह स्कीम अभी भी शुरुआती पड़ाव में है और इसलिए कुछ समस्याएँ भी आ रही हैं, इस स्कीम को और सुचारू बनाया जा रहा है। एक बार ऐसा हो जाने के बाद मुसीबत में महिलाओं की मदद करने के लिए सभी पीसीआर वैनों में एक महिला सिपाही मौजूद होगी।
डीजीपी ने कहा कि चाहे यह योजना अधिकारिक तौर पर रात 9 बजे से प्रात:काल 6 बजे के समय के दौरान कठिनाई में फंसी महिलाओं के लिए घोषित की गई थी, परन्तु मुख्यमंत्री ने व्यक्तिगत तौर पर पुलिस को निर्देश दिए हैं कि दिन के किसी भी समय असुरक्षित महसूस करती महिलाओं को सहायता प्रदान की जाएं। इस निर्देश पर अमल करते हुए पठानकोट पुलिस ने 5 दिसंबर को प्रात:काल 8.05 बजे फ़ोन करने वाली एक महिला की मदद करते हुए उसे सुरक्षित घर छोड़ दिया था।
दिलचस्प बात यह है कि राहगीरों द्वारा रात को किसी महिला को अकेले देखे जाने पर भी पुलिस हेल्पलाइन पर कॉल की जा रही है। ऐसी ही एक मिसाल 6 दिसंबर को प्रात:काल 12.16 बजे बतायी जाती है जब दानेश नाम के एक व्यक्ति ने 112 हेल्पलाइन पर फ़ोन करके पुलिस को बुलाया कि एक महिला लाढोवाली चुबती फाटक, जालंधर में अकेले खड़ी है। एक महिला एएसआई वाली पी.सी.आर. ने एक महिला को 14 मिनटों में घर छोड़ दिया।
--------

चंडीगढ़, 16 दिसंबर:
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने आज थाना सिटी खरड़ जि़ला एस.ए.एस.नगर में तैनात ए.एस.आई. हरजीत सिंह को 10,000 रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों काबू कर लिया।

इस सम्बन्धी जानकारी देते हुये विजीलैंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि उक्त ए.एस.आई को शिकायतकर्ता दविन्दर सिंह निवासी गांव पड़ोल, जि़ला एस.ए.एस नगर की शिकायत पर पकड़ा है। शिकायतकर्ता ने विजीलैंस ब्यूरो को अपनी शिकायत में बताया कि उसके द्वारा दजऱ् करवाए पुलिस केस में दोषियों की अदालत में ज़मानत होने से रोकने और अदालत में इस केस की अच्छी तरह पैरवी करने के बदले उक्त ए.एस.आई द्वारा 10,000 रुपए की माँग की गई है।
विजीलैंस द्वारा शिकायत की पड़ताल के उपरांत उक्त दोषी ए.एस.आई. को दो सरकारी गवाहों की हाजिऱी में 10,000 रुपए की रिश्वत लेते हुये मौके पर ही पकड़ लिया। उन्होंने बताया कि दोषी के खि़लाफ़ भ्रष्टाचार रोकथाम कानून की विभिन्न धाराओं के अंतर्गत विजीलैंस ब्यूरो के फ्लायंग स्कूऐड थाना एस.ए.एस नगर में मुकदमा दर्ज करके अगली कार्यवाही आरंभ कर दी है। 

बूड्डे और उसके 15 अपराधी साथियों की गिरफ़्तारी से कत्ल /फिरौती /कार छीनने और लूटपाट के 10 अपराधिक मामलों के दोषियों की शिनाख़त और गिरफ़्तारी की गई
पंजाबी संगीत और फि़ल्म इंडस्ट्री में बूड्डे  और उसके साथियों द्वारा डर, भय और आतंक का ख़ौफ़ पैदा किया गया 
डी.जी.पी. ने कहा, पंजाब पुलिस के दबाव के कारण गैंगस्टर विदेशों में भाग रहे हैं
कई देशों में बूड्डे के संपर्कों के जानकारी का पता लगाने के लिए यत्न जारी
चंडीगढ़, 16 दिसंबर:
पंजाब पुलिस के निरंतर यत्नों स्वरूप गैंगस्टर सुखप्रीत सिंह उर्फ बूड्डे के अर्मीनिया से डिपोरट होने से उसके 15 अपराधी साथियों को गिरफ़्तार किया गया जिससे बड़ी संख्या में हथियार, नशीले पदार्थ और विदेशी नकदी ज़ब्त की गई है। 
इन गिरफ़्तारियों में बिदी चंद निवासी खुडडा लहौरा, सेवामुक्त डिप्टी के पासपोर्ट अफ़सर जो कि 2007-2008 के दौरान लोक संपर्क अफ़सर (पी.आर.ओ.), चंडीगढ़ में तैनात था जिसने गौरव पटिआल से 50,000 रुपए लेकर फज़ऱ्ी नाम और पते पर भारतीय पासपोर्ट बना कर उसको सौंपना था। बिदी चंद 2011 में डिप्टी पासपोर्ट अफ़सर के तौर पर सेवामुक्त हुआ था। 
इस संबंधी और जानकारी देते हुये डी.जी.पी. दिनकर गुप्ता ने बताया कि बूड्डे को अर्मीनिया से वापस लाते समय वह अवैध ढंग से यू.एस. जाने की कोशिश कर रहा था। परमीश वर्मा पर हमला करने के उपरांत बूड्डा अप्रैल 2018 को पंजाब से यू.ए.ई. भाग गया था, जिस दौरान उसने कई देशों की यात्रा की जिसमें यू.ए.ई., चीन, ईरान, रूस, थाईलैंड, इंडोनेशिया, जोर्जीया और सिंगापुर शामिल हैं। जबकि पंजाब पुलिस द्वारा विभिन्न देशों में उसकी यात्रा /स्टे सम्बन्धी गतिविधियों पर पूरी नजऱ रखी जा रही थी। 
डी.जी.पी. ने कहा कि पंजाब पुलिस अब इन देशों में उसके संपर्कों का पता लगाने की कोशिश कर रही है और पंजाब पुलिस के सुपरवीजन ऑफ आर्गेनाईजड़ क्राइम कंट्रोल यूनिट की टीमों द्वारा लुधियाना, मोगा, फरीदकोट, खन्ना, एस.ए.एस. नगर अमृतसर में आगे और पड़ताल की जा रही है। 
डी.जी.पी. ने बताया कि बूड्डे की निशानदेही पर 6 हथियार जिसमें एक कर्बाईन, 1 बुलटप्रूफ जैकेट, 3 किलो अफ़ीम, 7 व्हीकल, हथियार और कुल 13.80 लाख रुपए की नगदी और 1700 यू.एस. डॉलर उसके अन्य सहयोगियों से बरामद किये गए हैं। 
जि़क्रयोग्य है कि बूड्डा निवासी गाँव कुस्सा, जिला मोगा के अर्मीनिया में होने संबंधी पता लगाया गया और इंटरपोल द्वारा जारी रैड कार्नर नोटिस (आर.एन.सी.) के आधार पर उसको पकड़ा गया था और उसको सुरक्षित वापस लाने के लिए यत्न किये गए थे जिसके बाद 23 नवंबर को पंजाब पुलिस द्वारा उसको आई.जी.आई. एयरपोर्ट दिल्ली में गिरफ़्तार किया गया।
गौरतलब है कि जि़ला बठिंडा के जुगराज सिंह उर्फ राजा कत्ल मामले में पैरोल मिलने के उपरांत बूड्डे द्वारा फरीदकोट जेल में रिपोर्ट नहीं किया गया। जिसमें उसको उम्र कैद की सज़ा सुनाई गई थी। पैरोल का उल्लंघन करने के उपरांत उसने और उसके साथियों ने जनवरी 2017 को हरियाणा के चौटाला गाँव के एक फार्म हाऊस में प्रदीप कुमार और अमित सहारन का कत्ल किया। 
बूड्डे ने जुलाई 2017 में फरीदकोट जिले के बाजाखाना में रवीन्द्र कोचर का उसकी राइस मिल में कत्ल किया। अप्रैल 2018 में उसके और उसके साथियों ने अंतर गिरोहों की दुश्मनी के अंतर्गत बदला लेने की फिराक में हरियाणा के चंडीमन्दर इलाके में भुपेश राणा का कत्ल किया। 20 लाख रुपए की फिरौती की रकम न देने के उपरांत बूड्डे ने 14 अप्रैल, 2018 को परमीश वर्मा पर गोली चलाई। इसके बाद वह नेपाल के रास्ते से दुबई भाग गया और दुबई से ही तालमेल करके उसने डराने धमकाने और कत्ल की अपराधिक गतिविधियों को अंजाम देना शुरू कर दिया। 
दुबई में उसके इशारों पर उसके पंजाब में नजदीकी साथियों द्वारा तीन और कत्ल किये गए जिस का खुलासा पड़ताल के उपरांत हुआ। 17 जून, 2018 को रामपुरा फूल में पोल्ट्री फार्म के मालिक हरदेव सिंह उर्फ गोगी जटाना पर दविन्दर बम्बीहा के गोलीबारी के एक मामले में पुलिस का मुखबिर होने के शक में दो मोटरसाईकल सवारों द्वारा उसका कत्ल कर दिया गया।
दिसंबर 2018 के एक अन्य मामले में सुखप्रीत सिंह उर्फ बूड्डा द्वारा अपने एक दोस्त सरपंच बेअंत सिंह के कत्ल का बदला लेने के लिए रजिन्दर कुमार उर्फ गोगा निवासी माणूके, जिला मोगा के कत्ल की साजि़स घड़ी गई जिस मामले में रजिन्दर कुमार उर्फ गोगा बरी हो गया था।
हाल ही में बूड्डे की हिदायतों पर उसके साथी लखविन्दर उर्फ लक्खा और अमरीक सिंह उर्फ शेरा द्वारा बाबा जरनैल सिंह निवासी मोगा के साथ साजिश घड़ के कोटकपूरा के गाँव कोटसुखिया के डेरा हरीके दास के बाबा दियाल दास का कत्ल किया गया। 
बूड्डे की गिरफ़्तारी और उसको पंजाब वापस लाना पंजाब पुलिस की एक बड़ी सफलता है। पिछले 2 सालों के दौरान यह पंजाब का मुख्य सक्रिय गैंगस्टर बना गया था। बूड्डे और उसके साथियों की तरफ से पंजाबी संगीत और फि़ल्म इंडस्ट्री में डर, भय और आतंक का माहौल पैदा किया जा रहा था। अब तक बूड्डे और उसके 15 साथियों की गिरफ़्तारी से कत्ल, फिरौती /कार छीनने और लूटपाट के 10 मामलों में दोषिओं की शिनाख़त की गई है। बूड्डे और उसके साथियों द्वारा किये गए खुलासों के आधार पर इनके खि़लाफ़ 4 और एफ.आर.आरज़ दर्ज की गई हैं जिस सम्बन्धी अगली जाँच जारी है। 


बिल को असंवैधानिक और विघटनकारी बताया

चंडीगढ़, 12 दिसंबर:
नागरिकता संशोधन बिल को भारत के धर्म निरपेक्ष चरित्र पर सीधा हमला बताते हुये पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज कहा कि उनकी सरकार इस कानून को राज्य में लागू करने की इजाज़त नहीं देगी।
देश की संवैधानिक नैतिक मूल्यों की सुरक्षा के लिए अपनी वचनबद्धता ज़ाहिर करते हुये कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के पास राज्य की विधान सभा में बहुमत है और सदन में इस असंवैधानिक  बिल को रोक देगी। राज्य सभा में पास किये गये विवादस्पद बिल के पास होने के एक दिन बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार देश के धर्म निरपेक्ष ढांचे को नुकसान नहीं पहुंचाने देगी क्योंकि यह नैतिक मूल्य देश की विभिन्नता की मज़बूती हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि संसद को ऐसा कानून पास करने का कोई अधिकार नहीं जो संविधान को चोट पहुंचाता हो और संविधान के मूलभूत सिद्धांतों और देश के लोगों के बुनियादी अधिकारों का उल्लंघन करता हो। इस बिल को संवैधानिक मूल्यों के विपरीत बताते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि यह रद्द होना चाहिए।
इस कानून के विघटनकारी स्वरूप का जि़क्र करते हुये कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि देश को धर्मके आधार पर बाँटता हुआ कोई भी कानून असंवैधानिक और अनैतिक है जिसको बरकरार रखने की इजाज़त नहीं दी जा सकती।
मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनी हुई सरकार का यह फर्ज बनता है कि वह संविधान में दर्ज नैतिक मूल्यों की सुरक्षा करे और इनको किसी भी तरह नुकसान ना पहुंचने दे। उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया कि ऐसी संवैधानिक उल्लंघन को वह अपने कार्यकाल में कोई भी जगह नहीं लेने देंगे। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि जब हम देश को प्रभुसत्ता सम्पन्न, समाजवादी, धर्म निरपेक्ष, लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाने और इसके नागरिकों को न्याय, समानता और आज़ादी का भरोसा देने का ऐलान किया है तो भारत की आबादी के बड़े वर्ग को सुरक्षा से एक तरफ़ कैसे छोड़ा जा सकता है। उन्होंने कहा कि नागरिकता को कानून के साथ जोड़ कर नागरिकता संशोधन बिल देश की नींव पर ज़ोरदार हमला करेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि अन्य देश भी ऐसे कानून लाने का फ़ैसला कर लें तो वहाँ बड़ी संख्या में बस रहे भारतीयों का क्या होगा जिन्होंने नागरिकता भी हासिल की हुई है। इन भारतीयों के साथ क्या घटेगा यदि यह देश यह फ़ैसला लें कि  उनके धार्मिक विश्वास के आधार पर उनकी नागरिकता वापस ले ली जाये।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने इस कदम को प्रतिगामी बताते हुये कहा कि यह संविधान की तरफ से देश को आगे बढ़ाने के लिए प्रण से पीछे धकेलने वाला कदम है। उन्होंने कहा कि संसद में बहुमत के ज़ोर पर इस बिल को पास कराने की बजाय केंद्र सरकार को इस मसले पर सभी पार्टियों के साथ विचार-विमर्श करना चाहिए था और यदि भारत और यहाँ के लोगों के हित में ऐसे कानून की ज़रूरत महसूस होती तो इस पर आम सहमति पैदा करने की कोशिश की जाती।
---------


आवारा पशूओं की समस्या का हल करने के लिए केंद्र राज्य सरकार का सहयोग दे- बलबीर सिंह सिद्धू

दूध दोहन मुकाबलों में हरियाणा की भैंस ने बनाया विश्व रिकॉर्ड

लुधियाना, 09 दिसंबर:

राज्य में पशु पालकों की परेशानी को घटाने और पशु पालन धंधे को उत्साहित करने के लिए पंजाब सरकार ने पशूओं की ढुलाई सम्बन्धी अनापत्ति प्रमाण पत्र की शर्त में ढील देने का फ़ैसला किया है। पशूओं की ढुलाई सम्बन्धी अब अनापत्ति प्रमाण पत्र डिप्टी कमिश्नरों की बजाय वैटरनरी अफ़सरों को जारी करने के लिए अधिकृत किया जा रहा है। यह ऐलान पंजाब के पशु और मछली पालन और डेयरी विकास मंत्री स. तृप्त रजिन्दर सिंह बाजवा ने स्थानीय पशु मंडी में प्रोग्रेसिव डेयरी फारमर्ज़ की तरफ से आयोजित किये मेले के दौरान किया।
इस मौके पर पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य में पशु पालकों को अपने ही पशूओं की ढुलाई के लिए डिप्टी कमिश्नर से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना पड़ता था जिससे उनको काफ़ी परेशानी का सामना करना पड़ता था। पशु पालकों की इस परेशानी को दूर करने के लिए यह अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करने के अधिकार वैटरनरी अफ़सरों को दिए जा रहे हैं। पड़ोसी राज्य हरियाणा की तजऱ् पर लिए गए इस फ़ैसले बारे नोटीफिकेशन जल्द जारी कर दिया जायेगा।  स. बाजवा ने कहा कि इस फ़ैसले से न केवल पशु पालकों की परेशानी घटेगी बल्कि राज्य में पशूओं के व्यापार में भी विस्तार होगा।
उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से पंजाब को पशूओं का बीमारी मुक्त एरिया बनाने के लिए मुँह खुर और गल-घोटू के मुफ़्त टीके लगाऐ जा रहे हैं जिससे कि हम अपने दूध और मीट बाहर के मुल्क को भेज सकें।
उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार की तरफ से हरेक जिले के 100 -100 गाँव चुनकर मुफ़्त बनावटी गर्भदान टीके लगाऐ जा रहे हैं। पशूओं की नसल सुधार के लिए माझे में नीली रावी, बॉर्डर एरीए में साहिवाल और मालवे में मुर्रा नसल के बढिय़ा पशु तैयार करने के लिए नयी स्कीम आरंभ की गई है। उन्होंने कहा कि पाँच सूअरों के सरकारी फार्मों से रियायती दरों पर सूअरों के बच्चे दिए जा रहे हैं। बकरियों के लिए बीटल नसल के नर बच्चे पशु पालकों को मुफ़्त दिए जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि राज्य में डेयरी धंधे को उत्साहित करने के लिए डेयरी विकास के नौ प्रशिक्षण केन्द्रों पर हर साल 6000 से अधिक नौजवानों को प्रशिक्षण देकर डेयरी धंधे के साथ जोड़ा जाता है। लगभग 3000 बच्चों को बैंकों से आसान दरों पर कजऱ्े दिलाकर नये डेरी यूनिट स्थापित किये जाते हैं। दुधारू पशूओं की खरीद से लेकर दूध दुहने वाली मशीनें, चारा काटने वाली मशीनें, दूध ठंडा करने वाले यंत्र और दूध से दूध पदार्थ बनाने वाले गाँव स्तर के कारख़ाने और 25 प्रतीशत से 33 प्रतीशत तक सब्सिडी दी जाती है।
उन्होंने कहा कि पंजाब के दक्षिणी जिलों में खारे पानी में झींगा पालने के काम में तेज़ी आई है और नया क्षेत्रफल मछली पालन के अधीन लाया जा रहा है। आगे भी सरकार की तरफ से इन धंधों को उत्साहित किया जाता रहेगा। उन्होंने पी.डी.एफ.ए. को बधाई देते हुए नयी पीढ़ी को कहा कि अपने घर में अपने मुल्क में रहकर ऐसे पेशे शुरू किये जाएँ क्योंकि मुल्क की बढ़ती आबादी की माँग को पूरा करने के लिए दूध, मीट और अंडों की माँग लगातार बढ़ती रहेगी।
प्रोग्रेसिव डेयरी फारमर्ज़ ऐसोसीएशन के प्रधान स. दलजीत सिंह, सभी जि़ला प्रधान और सदस्यों को बधाई देते हुए कहा कि पी.डी.एफ.ए. के सदस्यों की तरफ से बनाऐ गए डेयरी फार्म और बढिय़ा नसल के पशूओं को जहाँ देश की नयी पीढ़ी के नौजवानों के काम करने की भावना पैदा होती है, वहीं अपने आधुनिक फार्म भी बना रहे हैं। पी.डी.एफ.ए. ऐसी संगठन है जो सरकारी नीतियाँ और स्कीमों को किसानों तक पहुंचाती है और किसानों की मुश्किलों को सरकार तक पहुंचाती है। नयी नीतियाँ बनाने में पी.डी.एफ.ए. का काफ़ी योगदान रहा है।
इस मौके पर विशेष तौर पर पहुँचे पंजाब के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री स. बलबीर सिद्धू ने कहा कि यदि कृषि हमारे देश की आर्थिकता की रीढ़ की हड्डी है तो पशु पालन पेशा भी किसानों की रीढ़ की हड्डी है। पशु पालन में मछली पालन, बकरी पालन और अन्य सहायक धंधे किसानी को आर्थिक तौर पर प्रफुल्लित करने में अहम योगदान डाल रहे हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार राज्य में कृषि और पशु पालन धंधों को प्रफुल्लित करने के लिए मशीनीकरण पर ज़ोर दे रही है। इसलिए पंजाब सरकार की तरफ से किसानों और पशु पालकों को बाकायदा सब्सिडी पर यंत्र मुहैया करवाने के साथ-साथ सस्ती दरों पर कजऱ्े मुहैया करवाए जा रहे हैं।
राज्य में आवारा पशूओं की समस्या पर काबू पाने संबंधी केंद्र सरकार से अपील करते हुए स. सिद्धू ने कहा कि केंद्र सरकार को इस दिशा में राज्य सरकारों का सहयोग करना चाहिए। स. सिद्धू ने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से जी.एस.टी. की पिछले लम्बे समय से किश्त रोकी हुई है जिस कारण राज्य की आर्थिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है।
स्वास्थ्य विभाग की कार्यकुशलता संबंधी पूछे सवाल का जवाब देते हुए स. सिद्धू ने कहा कि सरकारी अस्पतालों की कार्यकुशलता में बड़े स्तर पर सुधार दर्ज किया गया है। अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी पूरी करने के लिए 118 वैद्यों की भर्ती की गई है। जबकि माहिर डॉक्टरों और पैरा मैडीकल स्टाफ की भी जल्द भर्ती की जायेगी। उन्होंने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य बीमा योजनाएं  सफलतापूर्वक चल रही है। अब तक इस योजना के अधीन 67 करोड़ रुपए की स्वास्थ्य सुविधाएं दी जा चुकी हैं।
इस मौके पर अलग -अलग मुकाबलों में विजेता रहने वाले पशु पालकों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर दूसरों के अलावा मुख्यमंत्री पंजाब के राजसी सचिव कैप्टन संदीप सिंह संधू, विधायक मनप्रीत सिंह अयाली, पूर्व मंत्री स. मलकीत सिंह दाखा, सीनियर कांग्रेसी नेता स. मेजर सिंह भैनी, डेयरी विभाग के डायरैक्टर स. इन्द्रजीत सिंह, एस.एस.पी. लुधियाना ग्रामीण श्री संदीप गोयल और अन्य उपस्थित थे।

सरस्वती ने बनाया विश्व रिकॉर्ड

इस मेले में हरियाणा की मुर्रा नसल की भैंस सरस्वती ने दूध दोहन के मुकाबले में 32.66 किलो दूध देकर विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया। बताने योग्य है कि इससे पहले यह रिकॉर्ड पाकिस्तान की भैंस के नाम 32.50 किलो था। इस भैंस के मालिक सुखवीर सिंह ने कहा कि उसे अपनी भैंस पर बहुत गर्व है और वह इसके खाने -पीने और संभाल में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ता।


अबोहर
शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष व फिरोजपुर के सांसद सुखबीर बादल ने यहां पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह पर जमकर हमले किए। उन्‍होंने कहा कि गैंगस्टरों को पंजाब सरकार का संरक्षण हासिल है। पंजाब में आज कानून-व्‍यवस्‍था की स्थिति बेहद खराब है। 
कैप्‍टन सरकार पूरी तरह विफल साबित हुई है। सुखबीर ने कहा कि सारे गैंगस्टर पुलिस की सुरक्षा में जेलों में आराम से बैठेे हैं। जेल मंत्री को सुपर गैंगस्टर की संज्ञा देते हुए सुखबीर ने कहा कि ऐसी सरकार उन्होंने पंजाब में आज तक नहीं देखी।  सुखबीर ने कहा कि बलवंत सिह राजोआणा मामले में हमारा बड़ा स्पष्ट स्टैंड है कि उसे सजा से माफी मिलनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि राजोआणा ने बिना पैरोल लिए 23 साल से ज्यादा समय जेल में बिता लिया है और यह दो उम्रकैद की सजा के बराबर है। सुखबीर ने कहा कि शिअद का प्रतिनिधिमंडल इस मामले में गृह मंंत्री से मिलेगा और अपील करेगा कि यह बहुत बड़ी बेइंसाफी है। विकास के मामले में सुखबीर ने कहा कि  हरियाणा में जीएसटी में 35 प्रतिशत ग्रोथ हुई है, लेकिन पंजाब में यह 40 प्रतिशत माइनस है। मुख्यमंत्री पंजाब को कोई परवाह ही नहीं है। सुखबीर ने केंद्र सरकार के लाए सीनियर सिटीजनशिप बिल की प्रशंसा  की। उन्होंने कहा कि दो सर्दियां और इंतजार कर लीजिए, अगली सरकार शिरोमणि अकाली दल की आनी है।


फिऱोज़पुर, 3 दिसंबर:
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने घल्ल खुर्द पुलिस चौंकी जि़ला फिऱोज़पुर में तैनात ए.एस.आई. मलकीत सिंह को 3000 रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों काबू कर लिया।
इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए विजीलैंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि उक्त ए.एस.आई को शिकायतकर्ता सतनाम सिंह निवासी गाँव करमूवाला, जि़ला फिऱोज़पुर की शिकायत पर पकड़ा है। शिकायतकर्ता ने विजीलैंस ब्यूरो को अपनी शिकायत में बताया कि उक्त ए.एस.आई. द्वारा चल रहे पुलिस केस में राज़ीनामा कलमबद्ध करने के बदले 5,000 रुपए की माँग की गई है और सौदा 3,000 रुपए में तय हुआ है।
विजीलैंस द्वारा शिकायत की पड़ताल के उपरांत उक्त दोषी ए.एस.आई. को दो सरकारी गवाहों की हाजिऱी में 3,000 रुपए की रिश्वत लेते मौके पर ही पकड़ लिया। उन्होंने बताया कि दोषी के खि़लाफ़ भ्रष्टाचार रोकथाम कानून की विभिन्न धाराओं के अंतर्गत विजीलैंस ब्यूरो के थाना फिऱोज़पुर में मुकदमा दर्ज करके अगली कार्यवाही आरंभ कर दी है।


अबोहर
जिला फाजिल्का सैशन जज तरसेम मंगला की अदालत में बिमला रानी पुत्री रावत राम सिरसा हरियाणा ने एक प्रार्थना पत्र लिखकर मांग की है कि मैंने अश्वनी कुमार पुत्र बलवंत राम वासी सैयदांवाली के साथ प्रेम विवाह किया है। मेरे विवाह से मेरे परिवार वाले खुश नहीं है।

मैंने अपनी मर्जी से अश्वनी कुमार से शादी की है। मेरे और मेरे पति के परिवार पर किसी प्रकार का हमला होता है तो उसके जिम्मेवारी रावत राम, कमला देवी, भाई ताराचंद जिला सिरसा हरियाणा की होगी। जोड़े की सुरक्षा के लिए डिस्ट्रिक पुलिस सिरसा, जिला पुलिस फाजिल्का तथा सदर थाना के एसएचओ को सुरक्षा प्रदान करने के निर्देश जारी किये हैं। इस मामले की जांच सदर थाना के प्रभारी रणजीत सिंह व एएसआई गुरमेल सिंह कर रहे हैं। आज प्रेमी जोड़ा अपने बयान देने के लिए अदालत पहुंचे।


वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल द्वारा समारोह का उद्घाटन

4&4 ज़ीप चालकों की ऑफ रोडिंग और घुड़सवारों के हैरेतअंगेज़ करतबों ने दर्शक किये मंत्रमुग्ध

चंडीगढ़, 30 नवंबर:
13 से 15 दिसबंर तक होने जा रहे तीसरे मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल के लिए आधार बांधते हुये यहाँ शनिवार को 4&4 ज़ीप चालकों की ऑफ-रोडिंग प्रदर्शनी के दौरान अपने हैरेतअंगेज़ करतबों के साथ दर्शकों को मंत्रमुग्ध करके रख दिया। इसके साथ ही टी-90 टेक, लाईट एंड मीडियम मशीन और शानदार बंदूकों समेत रक्षा हथियारों की प्रदर्शनी ने पूरे माहौल को देश भक्ति के रंग में रंग दिया।

मुख्य समागम के लिए माहौल तैयार करते हुये 2 दिवसीय मिलिट्री कार्निवल में पहली बार भाग ले रहे 50 से अधिक चालकों ने हिस्सा लिया और अपने विलक्षण कारनामों से दर्शकों में उत्साह भर दिया।
एम.एम. 50, जीपसियों, थार, पोलारिस और फोर्स गुरखा, बलैरो जैसी विश्व प्रसिद्ध गाडिय़ों पर सवार होकर नौजवान चालकों ने अपने हौंसले, शक्ति, सहनशीलता और साहस के साथ रक्षा सेनाओं के जोश और निडरता का प्रदर्शन किया। आर्मी एडवेंचर सैल के सहयोग से आज करवाए गए समागमों का उद्देश्य नौजवानों को रक्षा बलों द्वारा आकर्षित करने के उद्देश्य से आर्मी की ऑफ -रोडिंग महारत को प्रदर्शित करना था।
मिलिट्री कार्निवल का उद्घाटन करते हुये वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने कहा कि इस कार्निवल का उद्देश्य नौजवानों को समृद्ध फ़ौजी विरासत से अवगत करवाते हुये उनमें देश भक्ति की भावना को उत्साहित करना है। उन्होंने नौजवानों में राष्ट्र निर्माण की भावना को विकसित करने के लिए रक्षा अधिकारियों द्वारा किये गए इस महान प्रयास की सराहना की।
मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल, जो कि विभिन्न फ़ौजी इतिहासकारों, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और पंजाब के राज्यपाल वी.पी.सिंह बदनौर की सांझी पहलकदमी और पश्चिमी कमांड के सहयोग से करवाया जाता है, ने साहित्यक कामों, कला, संगीत और शिल्पकारी के विभिन्न पहलूयों को सफलतापूर्वक शामिल करते हुये थोड़े ही समय में बेहद प्रसिद्धि हासिल की है और बड़ी संख्या नौजवानों को रक्षा सेनाओं को पेशे के तौर पर चुनने के लिए उत्साहित किया है। पिछले साल 50,000 से अधिक दर्शकों की हाजिऱी से इस फेस्टिवल में पहुँचने वालों की संख्या में 5 गुणा वृद्धि दर्ज की गई है। 

इसके अलावा नौजवानों में मान और देश भक्ति की भावना पैदा करने के लिए कार्निवल में हथियारों की प्रदर्शनी भी लगाई गई जिसमें आटोमैटिक ग्रेनेड लांचर, आई.एन.एस.ए.एस. राइफल से लेकर भारतीय हथियारबंद सेनाओं के तोपखाने, बखतरबन्द और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में विलक्षण अनुसंधानों के साथ साथ एंटी एयरक्राफ्ट एल 70 बंदूकों को डिस्पले पर रखा गया।
हथियारों की इस प्रदर्शनी में कैप्टन अमरिन्दर सिंह की दूसरी सिख रेजीमेंट और फस्ट गार्डज़, 25 एयर डिफेंस रैजीमेंट के अलावा 270 इंजीनियर और 12 हथियारबंद रैजीमैंटें शामिल थी।
किसी भी रासायनिक या जीव-वैज्ञानिक हमले के विरुद्ध हमारी फ़ौज के तकनीकी विकास और रक्षा तैयारियों की गति को दिखाना इस प्रदर्शनी का आकर्षण था।
सेना की तरफ से जंग के दौरान इस्तेमाल की गई कुआंटम स्निफर, नॉन लिनियर जंकट डिटेक्टर और माइन डिटैकटिंग सैट और 12 सीटर न्यूमेटिक किश्ती ने दर्शकों को हैरान कर दिया।
इसके इलावा सेना और पंजाब आम्र्ड पुलिस के जोशीले घोड़सवारों और स्थानीय सिटी क्लब के विद्यार्थियों ने मोटसाईकलें और जीपसियों के ऊपर से छलाँग लगाते हुये और आगे की बाधाओं को पार करते हुये अपने हैरतअंगेज़ करतबों से नौजवानों और बुज़ुर्गों को हैरान कर दिया।
2 सिखों द्वारा बजाए पाईपर बैंड की धुनों की लय में 800 मीटर प्रति मिनट की गति से घुड़सवारी करते हुये पंजाब हथियारबंद पुलिस के जवानों ने टैंट पैगिंग, ट्रिक राइडिंग के दौरान घोड़ों के साथ बेहतरीन तालमेल और जोश भरपूर करतब दिखाते हुये दर्शकों से तालियां बजायी।

डॉग शो के दौरान विभिन्न आर्मी डॉग की इकाईयां जिनमें रीमाउंट वैटरनरी कॉर्पस सैंटर और कॉलेज, मेरठ और एन.एस.जी. शामिल हुए, के माहिर कुत्तों ने दर्शकों के जुनून को शिखरों पर पहुंचा दिया। आर्मी के कुत्तों ने पूरी ताकत और फुर्ती से विभिन्न रुकावटों को पार करते हुये दीवारों ऊपर से छलाँगें लगाते हुये दर्शकों से वाह-वाह लूटी।
इस डॉग शो में ट्रैकर, माइन डिटैकशन, एक्सप्लोसिव डिटैकशन, गार्ड, इनफैंटरी पेट्रोल करने में माहिर विभिन्न प्रजातियों के कुत्ते इस शो में आकर्षण का केंद्र रहे।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के सीनीयर सलाहकार लेफ्टिनेंट जनरल (सेवामुक्त) टी.एस. शेरगिल ने सेना की गतिविधियों संबंधी जानकारी के प्रसार के लिए प्रबंधकों के यत्नों की सराहना करते हुये कहा कि पंजाब और भारतीय सेना एक-दूसरे के पूरक हैं। उन्होंने कहा कि हमारे बहादुर लडक़े-लड़कियाँ हमेशा देश की सेवा करने में अग्रणीय रहे हैं और इस भावना और वचनबद्धता को और आगे बढ़ाने की ज़रूरत है।
कल कार्निवल के दूसरी और अंतिम दिन भी 4&4 जोशीले ज़ीप चालकों द्वारा ऑफ रोडिंग की प्रदर्शनी, घुड़सवारी इवेंट, हथियारों की प्रदर्शनी और डॉग शो दर्शकों का मनोरंजन करेंगे।
इन समागमों को आज लोगों का भरपूर समर्थन मिला और विभिन्न स्कूलों -कॉलेजों के विद्यार्थियों और एन.सी.सी कैडटों की उपस्थिति से इस कार्निवल का रोमांच शिखरों पर पहुंच गया। आज के समागमों में 4000 से अधिक लोगों ने भाग लिया और कल कार्निवल के समाप्ति दिन इससे भी ज़्यादा लोगों पर पहुँचने की उम्मीद है।


खेल मंत्री करेंगे अंतरराष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामैंट का उद्घाटन


चंडीगढ़, 30 नवंबर:
श्री गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित अंतरराष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामैंट 2019 का कल प्रात:काल उद्घाटन होने के बाद इसके महा-मुकाबले शुरू हो जाएंगे और पहले दिन चार टीमों की आपस में भिंड़त होंगी।

अंतरराष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामैंट का उद्घाटन 1 दिसंबर, 2019 को पंजाब के खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी सुल्तानपुर लोधी के गुरू नानक स्टेडियम में प्रात:काल 11 बजे करेंगे। इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए खेल विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि टूर्नामैंट में हिस्सा लेने वाली सभी टीमें पहुँच गई हैं जिनको जालंधर के अलग-अलग होटलों में ठहराया गया है।
टूर्नामैंट में हिस्सा ले रही टीमों को दो ग्रुपों में बांटा गया है। ग्रुप ‘ए’ में भारत, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका हैं जबकि ग्रुप ‘बी’ में कैनेडा, अमरीका, न्यूजीलैंड और कीनिया हैं।
प्रवक्ता के अनुसार पहले दिन तीन मुकाबले होंगे जिनमें से पहला मुकाबला श्रीलंका और इंग्लैंड के बीच होगा जबकि दूसरा मैच कैनेडा और कीनिया और तीसरा मैच अमरीका और न्यूजीलैंड के बीच होगा। यह मैच 11 बजे से शाम साढ़े चार बजे तक होंगे। बाकी दिनों के दौरान दो-दो मैच होंगे। उद्घाटनी समारोह के दौरान एक शानदार रंगा-रंग प्रोग्राम भी होगा।
इस टूर्नामैंट में 8 विभिन्न देशों के 150 के करीब खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। भारत के अलावा इसमें अमरीका, आस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, कैनेडा, श्रीलंका, कीनिया और न्यूजीलैंड के खिलाड़ी अपने जौहर दिखाऐंगे। प्रवक्ता के अनुसार टूर्नामैंट में पहले स्थान पर आने वाली टीम को 25 लाख रुपए का नगद इनाम दिया जायेगा जबकि दूसरे और तीसरे स्थान पर रहने वाली टीमों को क्रमवार 15 लाख और 10 लाख रुपए की नगद ईनामी राशि से सम्मानित किया जायेगा।
प्रवक्ता के अनुसार इस टूर्नामैंट का रोजाना सीधा प्रसारण पी.टी.सी. नैटवर्क द्वारा किया जायेगा जिससे लोग अपने घरों में बैठे भी कबड्डी का आनंद मान सकेंगे। इस टूर्नामैंट के लिए खेल विभाग ने एक विस्तृत योजना तैयार की है और सम्बन्धित डिप्टी कमीशनरों की अध्यक्षता अधीन जि़ला स्तर पर टूर्नामैंट करवाने के लिए कमेटियों का गठन किया गया है। सभी टूर्नामैंट स्थानों की तैयारियांं माहिरों के योग्य नेतृत्व अधीन की गई है। टूर्नामैंट के स्थान, खिलाडिय़ों के ठहरने वाले स्थानों (होटल) और सफऱ के दौरान टीमों की सुरक्षा के प्रबंध मुकम्मल कर लिए गए हैं। हरेक टीम के साथ 2 लेजन अफ़सर तैनात किये गए हैं जिससे टीम का हर पक्ष से ध्यान रखा जा सके। सभी टीमें आराम से जालंधर में होटल रमाडा, एम -1 और डे इन में ठहरेंगी।



Chandigarh, November 27, 2019
 India’s Polar Satellite Launch Vehicle, in its forty ninth flight (PSLV-C47),
successfully launched Cartosat-3 along with 13 nanosatellites of USA from Satish Dhawan Space Centre (SDSC) SHAR, Sriharikota. ISRO Chairman Dr Sivan said “Cartosat-3 is the most complex and advanced earth observation satellite built by ISRO and it was a third generation agile advanced satellite having high resolution imaging capability.”      
The mission life of the Cartosat-3 is five years. Cartosat-3 will address the increased user’s demands for large scale urban planning, rural resource and infrastructure development, coastal land use and land cover etc. ISRO’s PSLV-C47 is the 21st flight of PSLV in 'XL' configuration (with 6 solid strap-on motors).This was the 74th launch vehicle mission from SDSC SHAR, Sriharikota and 9th satellite of Cartosat series.


PSLV-C47 lifted-off at 0928 Hrs (IST) from the Second Launch Pad. After 17 minutes and 38 seconds, Cartosat-3 was successfully injected into a sun-synchronous orbit of 509 km. Subsequently, the 13 nanosatellites were also injected into their intended orbits. After separation, solar arrays of Cartosat-3 were deployed automatically and the ISRO Telemetry Tracking and Command Network at Bengaluru assumed control of the satellite. In the coming days, the satellite will be brought to its final operational configuration.
Dr K Sivan congratulated and complimented the launch vehicle and satellite
teams involved in the mission. He also acknowledged the support from Indian Industry. About 5000 visitors witnessed the launch live from the Viewer’s Gallery in Sriharikota.

गढ़दीवाला, 24 नवम्बर (मनप्रीत): गत 7 नवम्बर को एक लडक़ी घर से चारा लेने गई पर अभी तक नहीं वापिस घर नहीं पहुंची। जिसके चलते परिवारिक सदस्य परेशानी में है। इस संबंधी जानकारी देते हुए सुरमदीन पुत्र बरकत अली निवासी अरगोवाल ने बताया कि उसकी बहन सीफा 7 नवम्बर शाम को 4 बजे शाम को घर से चारा लेने के लिए गई तथा उसके बाद वापिस नहीं आई। उनके सारे सखे संबंधियों तथा रिश्तेतारों से उसकी तलाश की लेकिन कोई पता नहीं चला। उन्होंने बताया कि उसका सारा परिवार परेशानी के आलम में है, यदि किसी को कुछ भी पता चले तो तुरंत उनके साथ सम्पर्क करें। 


ਜੇ ਤੁਹਾਡੇ ਕੋਲ ਫਟੇਪੁਰਾਣੇ ਕਰੰਸੀ ਨੋਟ ਹਨਤਾਂ ਉਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਬਦਲਣ ਲਈ ਪਰੇਸ਼ਾਨ ਹੋਣ ਦੀ ਲੋੜ ਨਹੀ਼ ਹੈ। ਤੁਸੀਂ ਆਪਣੇ ਲਾਗਲੀ ਕਿਸੇ ਵੀ ਬੈਂਕ ਦੀ ਸ਼ਾਖਾ ਤੋਂ ਉਹ ਨੋਟ ਬਦਲਵਾ ਸਕਦੇ ਹੋ। ਕੋਈ ਵੀ ਬੈਂਕ ਸ਼ਾਖ਼ਾ ਨੋਟ ਲੈਣ ਤੋਂ ਇਨਕਾਰ ਨਹੀਂ ਕਰ ਸਕਦੀ। ਸਾਰੇ ਬੈਂਕ ਇਨ੍ਹਾਂ ਨੋਟਾਂ ਨੂੰ ਹਰ ਹਾਲਤ ਚ ਬਦਲਣਗੇ।  
ਰਿਜ਼ਰਵ ਬੈਂਕ ਆੱਫ਼ ਇੰਡੀਆ (RBI) ਵੱਲੋਂ ਇਸ ਸਬੰਧੀ ਸਾਰੇ ਬੈਂਕਾਂ ਨੂੰ ਸਪੱਸ਼ਟ ਹਦਾਇਤ ਹੈ। ਬੈਂਕਾਂ ਨੂੰ ਨੋਟ ਬਦਲੇ ਜਾਣ ਦੀ ਸੁਵਿਧਾ ਦਾ ਬੋਰਡ ਲਾਉਣ ਦੀ ਹਦਾਇਤ ਵੀ ਕੀਤੀ ਗਹੀ ਹੈ। ਫਟੇਪੁਾਣੇ ਬਚੇ ਹੋਏ ਹਿੱਸੇ ਦੇ ਆਧਾਰ ਤੇ ਬੈਂਕ ਉਸ ਦਾ ਰੀਫ਼ੰਡ ਦੇਣਗੇ। 
ਆਮ ਤੌਰ ਤੇ ਬੈਂਕਾਂ ਬਾਰੇ ਅਜਿਹੀਆਂ ਸ਼ਿਕਾਇਤਾਂ ਅਕਸਰ ਮਿਲਦੀਆਂ ਰਹਿੰਦੀਆਂ ਹਨ ਕਿ ਬੈਂਕ ਫਟੇਪੁਰਾਣੇ ਨੋਟ ਬਦਲਣ ਤੋਂ ਇਨਕਾਰ ਕਰ ਦਿੰਦੇ ਹਨ। ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਧ ਔਕੜ ਦੂਰਦੁਰਾਡੇ ਦੇ ਇਲਾਕਿਆਂ ਚ ਹੈ। ਉੱਥੇ ਜ਼ਿਆਦਾਤਰ ਇਹੋ ਆਖਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਕਿ ਨੋਟ ਬਦਲਣ ਲਈ RBI ਦੇ ਦਫ਼ਤਰ ਜਾਂ ਬੈਂਕ ਦੀ ਮੁੱਖ ਸ਼ਾਖਾ ਚ ਜਾਣਾ ਹੋਵੇਗਾ। ਪਰ ਅਸਲ ਵਿੱਚ ਅਜਿਹਾ ਨਹੀਂ ਹੈ। 
ਗਾਹਕਾਂ ਨੂੰ ਨਿਯਮਾਂ ਦੀ ਜਾਣਕਾਰੀ ਨਾ ਹੋਣ ਦਾ ਬੈਂਕ ਗ਼ਲਤ ਫ਼ਾਇਦਾ ਉਠਾਉਂਦੇ ਹਨ। RBI ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਨੇ ਸਪੱਸ਼ਟ ਕੀਤਾ ਕਿ ਨੋਟ ਰੀਫ਼ੰਡਰੂਲਜ਼ 2018 ’ਚ ਇਹ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਸਪੱਸ਼ਟ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ ਕਿ ਜੇ ਬੈਂਕ ਦੀ ਕੋਈ ਸ਼ਾਖਾ ਦੇ ਮੁਲਾਜ਼ਮ ਨੋਟ ਨਾ ਬਦਲਣਤਾਂ ਉਸ ਦੀ ਸ਼ਿਕਾਇਤ ਬੈਂਕਿੰਗ ਲੋਕਪਾਲ ਜਾਂ RBI ਦੇ ਸ਼ਿਕਾਇਤ ਪੋਰਟਲ ਤੇ ਕੀਤੀ ਜਾ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਸਬੰਧਤ ਸ਼ਾਖਾ ਵਿਰੁੱਧ RBI ਕਾਰਵਾਈ ਕਰੇਗਾ। 
ਜੇ 50 ਰੁਪਏ ਤੋਂ ਵੱਧ ਦੇ ਨੋਟਾਂ ਦਾ ਜੇ 80 ਫ਼ੀ ਸਦੀ ਹਿੱਸਾ ਤੁਹਾਡੇ ਕੋਲ ਹੈਤਾਂ ਬੈਂਕ ਉਸ ਦੀ ਪੂਰੀ ਰਕਮ ਵਾਪਸ ਕਰੇਗਾ। ਜੇ ਇਹ ਟੁਕੜਾ 40 ਫ਼ੀ ਸਦੀ ਤੋਂ ਵੱਧ ਹੈਤਾਂ ਅੱਧੀ ਕੀਮਤ ਮਿਲੇਗੀ। ਜੇ 40 ਫ਼ੀ ਸਦੀ ਤੋਂ ਛੋਟਾ ਕੋਈ ਟੁਕੜਾ ਹੈਤਾਂ ਉਸ ਦਾ ਕੋਈ ਪੈਸਾ ਨਹੀਂ ਮਿਲੇਗਾ।



bttnews

{picture#https://1.bp.blogspot.com/-pWIjABmZ2eY/YQAE-l-tgqI/AAAAAAAAJpI/bkcBvxgyMoQDtl4fpBeK3YcGmDhRgWflwCLcBGAsYHQ/s971/bttlogo.jpg} BASED ON TRUTH TELECAST {facebook#https://www.facebook.com/bttnewsonline/} {twitter#https://twitter.com/bttnewsonline} {youtube#https://www.youtube.com/c/BttNews} {linkedin#https://www.linkedin.com/company/bttnews}
Powered by Blogger.