Latest Post

बुढलाडा 2 मार्च (बलविंदर जिंदल) जैन सभा बुढलाडा में विराजमान संयम शिरोमणि जैन भारती श्री सुशील कुमारी जी महाराज की सुशिष्या डॉ श्रमणी गौरव श्री सुनीता जी महाराज की सुशिष्या साध्वी श्री शुभिता जी महाराज ने धर्म सभा को सम्बोधित करते हुए फ़रमाया की धन और धर्म हमारी जिन्दगी का एक प्रमुख अंग है। लेकिन आज कल का मानव धर्म को छोड़कर धन के पीछे दौड़ रहा है। साध्वी जी ने कहा की धन को धर्म से जोड़ना चाहिए धर्म को धन से कभी मत जोड़ो। क्योकि व्यक्ति की चाल धन से भी बदलती है,धर्म से भी बदलती है जब धन संपन्न होता है, तब अकड़ कर चलता है जब धर्म संपन्न होता है, विनम्र होकर चलता है। धन जब आता है तो इन्सान खुश होता है और धन जब जाता है तो दुखी होता है लेकिन धर्म दोनों ही परिस्थिति में सामान रहने की शक्ति प्रदान करता है।

धर्म कभी दावा नहीं करता कि तुम्हारी तक़लीफ़ शान्त हो जाएगी, लेकिन यह विश्वास जरूर दिलाता है कि यदि तुम धर्म की शरण में आये हो तो किसी भी तक़लीफ़ को पार ज़रूर कर लोगे। डॉ. साध्वी सुनीता जी महाराज ने फ़रमाया की मुश्किल से मिले हुए इस मानव जन्म को हमें संसार के नाशवान एवं अस्थिर पदार्थों को भोगने में तथा उनके लिए नाना प्रकार के पाप- कर्मों को करने में ही नहीं गंवाना चाहिए । आज व्यक्ति सांसारिक कार्यों को करने में तो सदा ततपर रहता है , किन्तु आत्मिक अर्थात आत्मा को लाभ पहुंचने वाले कार्यों के करने में प्रमाद करता है और उसकी यह प्रमाद- निद्रा कभी समाप्त नहीं होती, जीवन समाप्त हो जाता है । यह जीवन मिला न मिला समान ही रहता है । डाक़्टर सुनीता ने कहा जो व्यक्ति प्रमाद के वश में रहकर मनुष्य जीवन को व्यर्थ गंवा रहा है , वह अज्ञानी मनुष्य मानों सोने के थाल में मिट्टी भर रहा है । इसलिए प्रत्येक मुमुक्षु को जीवन का महत्व समझना चाहिए तथा मोह-निद्रा से जाग्रत हो जाना चाहिए । जब तक व्यक्ति प्रमाद अथवा मोह की नींद में सोया रहेगा उसे संसार की वस्तुओं में सुख और दुःख का अनुभव होगा । किन्तु इस नींद के उड़ते ही उसे समझ में आ जाएगा कि संसार की वस्तुओं से प्राप्त होने वाले सुख और दुःख नश्वर तथा सपने के समान हैं । 


ਯੂਨੀਅਨ ਵੱਲੋਂ 4 ਮਾਰਚ ਨੂੰ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਵਿਖੇ ਕੀਤੇ ਜਾਣ ਵਾਲਾ ਰੋਸ ਪ੍ਰਦਰਸ਼ਨ ਮੁਲਤਵੀ

ਬੱਜਟ ਸੈਸ਼ਨ ਦੌਰਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਵਰਕਰਾਂ ਤੇ ਹੈਲਪਰਾਂ ਦੇ ਮਾਣਭੱਤੇ ਵਿੱਚ ਵਾਧਾ ਕਰਨ ਦੀ ਭਰੀ ਹਾਮੀ

ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ , 2 ਮਾਰਚ - ਸਮਾਜਿਕ ਸੁਰੱਖਿਆ ਇਸਤਰੀ ਤੇ ਬਾਲ ਵਿਕਾਸ ਵਿਭਾਗ ਪੰਜਾਬ ਦੀ ਕੈਬਨਿਟ ਮੰਤਰੀ ਅਰੁਨਾ ਚੋਧਰੀ ਵੱਲੋਂ ਅੱਜ ਆਲ ਪੰਜਾਬ ਆਂਗਣਵਾੜੀ ਮੁਲਾਜਮ ਯੂਨੀਅਨ ਦੇ ਵਫ਼ਦ ਨਾਲ ਇੱਕ ਮੀਟਿੰਗ ਆਂਗਣਵਾੜੀ ਵਰਕਰਾਂ ਤੇ ਹੈਲਪਰਾਂ ਦੀਆਂ ਮੰਗਾਂ ਨੂੰ ਲੈ ਕੇ ਕੀਤੀ ਗਈ  । ਜਿਸ ਦੌਰਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਯੂਨੀਅਨ ਦੀਆਂ ਜਾਇਜ਼ ਮੰਗਾਂ ਦਾ ਨਿਪਟਾਰਾ ਜਲਦੀ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ । ਉਪਰੋਕਤ ਜਾਣਕਾਰੀ ਯੂਨੀਅਨ ਦੇ ਸੂਬਾ ਪ੍ਰਧਾਨ ਹਰਗੋਬਿੰਦ ਕੌਰ ਨੇ ਦਿੱਤੀ । ਉਹਨਾਂ ਦੱਸਿਆ ਕਿ ਜਥੇਬੰਦੀ ਦੀਆਂ ਮੁੱਖ ਮੰਗਾਂ ਸਨ ਕਿ ਵਰਕਰਾਂ ਤੇ ਹੈਲਪਰਾਂ ਦੇ ਕੱਟੇ ਹੋਏ ਪੈਸੇ ਤੁਰੰਤ ਰਲੀਜ ਕੀਤੇ ਜਾਣ । ਮਾਣਭੱਤੇ ਵਿੱਚ ਵਾਧਾ ਕਰਨਾ । ਐਨ ਜੀ ਓ ਅਧੀਨ ਚੱਲ ਰਹੇ ਬਲਾਕਾਂ ਦੀਆਂ ਵਰਕਰਾਂ ਤੇ ਹੈਲਪਰਾਂ ਨੂੰ ਵਰਦੀਆਂ ਦੇ ਪੈਸੇ  ਦੇਣੇ , ਆਂਗਣਵਾੜੀ ਸੈਂਟਰਾਂ ਦਾ ਕਿਰਾਇਆ ਦਿੱਤਾ ਜਾਵੇ । ਇਹਨਾਂ ਨੂੰ ਵਾਪਸ ਵਿਭਾਗ ਅਧੀਨ ਲਿਆਂਦਾ ਜਾਵੇ । 
ਪ੍ਰੀ ਨਰਸਰੀ ਦੇ ਬੱਚਿਆਂ ਨੂੰ ਵਾਪਸ ਸੈਂਟਰਾਂ ਵਿੱਚ ਭੇਜਿਆ ਜਾਵੇ । ਕਰੈੱਚ ਵਰਕਰਾਂ ਦੀਆਂ ਰੁਕੀਆਂ ਪਈਆਂ ਤਨਖਾਹਾਂ ਦਿੱਤੀਆਂ ਜਾਣ ਤੇ ਉਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਵੀ ਵਿਭਾਗ ਅਧੀਨ ਲਿਆਂਦਾ ਜਾਵੇ । ਖਾਲੀ ਪਈਆਂ ਅਸਾਮੀਆਂ ਤੇ ਵਰਕਰਾਂ ਤੇ ਹੈਲਪਰਾਂ ਦੀ ਭਰਤੀ ਕੀਤੀ ਜਾਵੇ । ਉਹਨਾਂ ਦੱਸਿਆ ਕਿ ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਬੱਜਟ ਸੈਸ਼ਨ ਦੌਰਾਨ ਮਾਣਭੱਤੇ ਵਿਚ ਵਾਧਾ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਜਾਵੇਗਾ । ਪ੍ਰੀ ਨਰਸਰੀ ਦੇ ਬੱਚੇ ਵਾਪਸ ਲੈਣ ਦੀ ਵਿਭਾਗ ਕਾਰਵਾਈ ਕਰ ਰਿਹਾ । ਐਨ ਜੀ ਓ ਅਧੀਨ ਚੱਲ ਰਹੇ ਬਲਾਕਾਂ ਨੂੰ ਵਾਪਸ ਵਿਭਾਗ ਵਿੱਚ ਲਿਆਉਣ ਲਈ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਚੱਲ ਰਹੀ ਹੈ । ਕਰੈੱਚ ਵਰਕਰਾਂ ਦੀਆਂ ਤਨਖਾਹਾਂ ਜਲਦੀ ਦੇਣ ਬਾਰੇ ਉਪਰਾਲਾ ਕੀਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ । ਵਰਕਰਾਂ ਤੇ ਹੈਲਪਰਾਂ ਦੀ ਭਰਤੀ ਦਾ ਕੰਮ ਜਲਦੀ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ । ਸੂਬਾ ਪ੍ਰਧਾਨ ਹਰਗੋਬਿੰਦ ਕੌਰ ਇਸ ਮੌਕੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਯੂਨੀਅਨ ਵੱਲੋਂ 4 ਮਾਰਚ ਨੂੰ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਵਿਖੇ ਜੋ ਸੂਬਾ ਪੱਧਰੀ ਰੋਸ ਪ੍ਰਦਰਸ਼ਨ ਕੀਤਾ ਜਾਣਾ ਸੀ , ਉਸ ਨੂੰ ਇਕ ਵਾਰ ਬੱਜਟ ਸੈਸ਼ਨ ਤੱਕ ਮੁਲਤਵੀ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਹੈ । ਪਰ ਜੇਕਰ ਉਹਨਾਂ ਦੀਆਂ ਮੰਗਾਂ  ਨਾ ਮੰਨੀਆਂ ਗਈਆਂ ਤਾਂ ਧਰਨਾ ਫਿਰ ਰੱਖਿਆ ਜਾਵੇਗਾ । ਮੀਟਿੰਗ ਦੌਰਾਨ ਵਿਭਾਗ ਦੇ ਡਾਇਰੈਕਟਰ ਵਿਪਲ ਉੱਜਵਲ , ਜੁਵਾਇਟ ਸੈਕਟਰੀ ਵਿੰਮੀ ਭੁੱਲਰ  ਤੇ ਡਿਪਟੀ ਡਾਇਰੈਕਟਰ ਰੁਪਿੰਦਰ ਕੌਰ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ ਯੂਨੀਅਨ ਦੀ ਸੂਬਾ ਦਫ਼ਤਰ ਸਕੱਤਰ ਛਿੰਦਰਪਾਲ ਕੌਰ ਥਾਂਦੇਵਾਲਾ ਮੌਜੂਦ ਸਨ ।


गैर-प्रांतीय सिविल सर्विस काडर वाले दो अधिकारी केंद्रीय सूची में शामिल

चंडीगढ़, 1 मार्च: अतिरिक्त डायरैक्टर लोक संपर्क सेनू दुग्गल को भारतीय प्रशासनिक सेवाएं (आई.ए.एस.) काडर के लिए नियुक्त किया गया है, इस सम्बन्धी केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय द्वारा नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। राज्य के दो अधिकारियों को यह सम्मान हासिल हुआ है, इनमें दूसरा नाम श्रीमती बलदीप कौर का है जो आबकारी विभाग में डिप्टी आबकारी और कर कमिशनर के तौर पर तैनात हैं। 

9 फरवरी, 1968 को जन्मे और 28 साल से अधिक की सेवा निभाने वाले सेनू दुग्गल फरवरी 2016 से मार्च 2017 तक सूचना एवं लोक संपर्क विभाग, पंजाब के डायरैक्टर के तौर पर सेवा निभा चुके हैं। वह 1992 में डिप्टी डायरैक्टर के तौर पर विभाग में भर्ती हुए और तरक्की के बाद साल 2002 में संयुक्त डायरैक्टर बने। उनके बेदाग सेवा रिकार्ड और लंबे सेवा काल के आधार पर उनको लोक संपर्क विभाग में अतिरिक्त डायरैक्टर के पद पर तरक्की दी गई जोकि एक गैर-आई.ए.एस अधिकारी के लिए सबसे उच्च रैंक और एक महत्वपूर्ण पद है। यह विभाग सरकार की नीतियों को लागू करने, फीडबैक और सभ्य कार्यवाही करने में अहम भूमिका निभाता है।जिक्रयोग्य है कि राज्य सरकार ने इस साल केंद्रीय कैडर के लिए कुुल 10 नामों की सिफारिश की थी। चयन प्रक्रिया में व्यापक टेस्टिंग प्रक्रिया शामिल की गई थी और दिसंबर के आखिरी सप्ताह में नये दिल्ली में यू.पी.एस.सी. बोर्ड की तरफ से एक विस्तृत इंटरव्यू के आधार पर चयन किया गया।इससे पहले जारी हुए केंद्रीय नोटिफिकेशन में लिखा है- ‘भारत के राष्ट्रपति राज्य के गैर -प्रांतीय सिवल सर्विस कैडर के सदस्यों को भारत सरकार की तरफ से निर्धारित नियमों की धारा 3 के अंतर्गत और राज्य के साथ परामर्श करने के उपरांत सूची 2019 के मुताबिक भारत प्रशासनिक अधिकारी नियुक्त किये जाने‘ पर गर्व महसूस करते हैं।  

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.