Page Nav

Grid

GRID_STYLE

Grid

GRID_STYLE

Hover Effects

Classic Header

{fbt_classic_header}

 ਬੀਟੀਟੀ ਨਿਊਜ਼ 'ਤੇ ਤੁਹਾਡਾ ਹਾਰਦਿਕ ਸਵਾਗਤ ਹੈ, ਅਦਾਰਾ BTTNews ਹੈ ਤੁਹਾਡਾ ਆਪਣਾ, ਤੁਸੀ ਕੋਈ ਵੀ ਅਪਣੇ ਇਲਾਕੇ ਦੀਆਂ ਖਬਰਾਂ 'ਤੇ ਇਸ਼ਤਿਹਾਰ ਸਾਨੂੰ ਭੇਜ ਸਕਦੇ ਹੋ, ਵਧੇਰੀ ਜਾਣਕਾਰੀ ਲਈ ਸੰਪਰਕ ਕਰੋ Mobile No.7035100015, WhatsApp - 9582900013 ,ਈਮੇਲ contact-us@bttnews.online

ਤਾਜਾ ਖਬਰਾਂ

latest

 ਬੀਟੀਟੀ ਨਿਊਜ਼ 'ਤੇ ਤੁਹਾਡਾ ਹਾਰਦਿਕ ਸਵਾਗਤ ਹੈ, ਅਦਾਰਾ BTTNews ਹੈ ਤੁਹਾਡਾ ਆਪਣਾ, ਤੁਸੀ ਕੋਈ ਵੀ ਅਪਣੇ ਇਲਾਕੇ ਦੀਆਂ ਖਬਰਾਂ 'ਤੇ ਇਸ਼ਤਿਹਾਰ ਸਾਨੂੰ ਭੇਜ ਸਕਦੇ ਹੋ ਵਧੇਰੀ ਜਾਣਕਾਰੀ ਲਈ ਸੰਪਰਕ ਕਰੋ Mobile No. 7035100015, WhatsApp - 9582900013 ,ਈਮੇਲ contact-us@bttnews.online

मुख्यमंत्री चन्नी द्वारा श्री गुरु नानक देव जी के 552वें प्रकाश पर्व के मौके पर लोगों को बधाई

  चंडीगढ़, 18 नवम्बरः मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने आज श्री गुरु नानक देव जी के 552वें प्रकाश पर्व के पवित्र मौके पर लोगों को हार्दिक मुब...

मुख्यमंत्री चन्नी द्वारा श्री गुरु नानक देव जी के 552वें प्रकाश पर्व के मौके पर लोगों को बधाई

 चंडीगढ़, 18 नवम्बरः

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने आज श्री गुरु नानक देव जी के 552वें प्रकाश पर्व के पवित्र मौके पर लोगों को हार्दिक मुबारकबाद दी है।
     प्रकाश पर्व की पूर्व संध्या के मौके पर अपने संदेश में मुख्यमंत्री चन्नी ने कहा कि श्री गुरु नानक एक महान आध्यात्मिक दूत थे जिन्होंने परमात्मा के प्रति श्रद्धा और समर्पण के दर्शन और प्रसार के द्वारा मानवता को मुक्ति का मार्ग दिखाया। गुरू साहिब जी की ‘कीरत करो, नाम जपो और वंड छको’ की शाश्वत शिक्षाएं मौजूदा पदार्थवादी समाज में भी उसी तरह सार्थक हैं।
     मुख्यमंत्री चन्नी ने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी ने वहम-भ्रम से मुक्त जाति रहित समाज की परिकल्पना की जिससे वेदना से पीड़ित मानवता का कल्याण हुआ।
     मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी ने मानवता को नये विचारों, उद्देश्यों और लक्ष्यों के प्रति प्रेरित किया और इसको जाति आधारित वैर-विरोध, झूठ-फ़रेब, दिखावा और पाखंड की कुरीतियों से छुटकारा पाने का न्योता दिया।  
     मुख्यमंत्री ने लोगों को श्री गुरु नानक देव जी की तरफ से सेवा और नम्रता के दर्शाऐ मार्ग पर चलने और गुरू साहिब जी की महान विरासत के मुताबिक शांतमयी, ख़ुशहाल और सेहतमंद समाज की सृजन करने के लिए प्रयास करने की अपील की। उन्होंने गुरपर्व के पवित्र मौके को जाति, रंग, नसल और धर्म की संकुचित विचारों से ऊपर उठकर श्रद्धा और समर्पण भावना से मनाने की अपील की।

No comments

Ads Place