Page Nav

Grid

GRID_STYLE

Grid

GRID_STYLE

Hover Effects

Classic Header

{fbt_classic_header}

 ਬੀਟੀਟੀ ਨਿਊਜ਼ 'ਤੇ ਤੁਹਾਡਾ ਹਾਰਦਿਕ ਸਵਾਗਤ ਹੈ, ਅਦਾਰਾ BTTNews ਹੈ ਤੁਹਾਡਾ ਆਪਣਾ, ਤੁਸੀ ਕੋਈ ਵੀ ਅਪਣੇ ਇਲਾਕੇ ਦੀਆਂ ਖਬਰਾਂ 'ਤੇ ਇਸ਼ਤਿਹਾਰ ਸਾਨੂੰ ਭੇਜ ਸਕਦੇ ਹੋ, ਵਧੇਰੀ ਜਾਣਕਾਰੀ ਲਈ ਸੰਪਰਕ ਕਰੋ Mobile No.7035100015, WhatsApp - 9582900013 ,ਈਮੇਲ contact-us@bttnews.online

ਤਾਜਾ ਖਬਰਾਂ

latest

 ਬੀਟੀਟੀ ਨਿਊਜ਼ 'ਤੇ ਤੁਹਾਡਾ ਹਾਰਦਿਕ ਸਵਾਗਤ ਹੈ, ਅਦਾਰਾ BTTNews ਹੈ ਤੁਹਾਡਾ ਆਪਣਾ, ਤੁਸੀ ਕੋਈ ਵੀ ਅਪਣੇ ਇਲਾਕੇ ਦੀਆਂ ਖਬਰਾਂ 'ਤੇ ਇਸ਼ਤਿਹਾਰ ਸਾਨੂੰ ਭੇਜ ਸਕਦੇ ਹੋ ਵਧੇਰੀ ਜਾਣਕਾਰੀ ਲਈ ਸੰਪਰਕ ਕਰੋ Mobile No. 7035100015, WhatsApp - 9582900013 ,ਈਮੇਲ contact-us@bttnews.online

श्मधान घाट को ही बना रखा है धोबी घाट

 - गोनियाना रोड स्थित श्मशान भूमि में धोए जाते हैं टैंट हाउस के कपड़े  श्री मुक्तसर साहिब, 27 दिसंबर :  जिंदगी के सफर का आखरी स्टेशन समङो जा...

 - गोनियाना रोड स्थित श्मशान भूमि में धोए जाते हैं टैंट हाउस के कपड़े 

श्मधान घाट को ही बना रखा है धोबी घाट

श्री मुक्तसर साहिब, 27 दिसंबर :
 जिंदगी के सफर का आखरी स्टेशन समङो जाने वाले श्मशान घाट में जाकर हर कोई एक बार तो यह सोचने लगता है कि इंसान का अंत यदि यही है तो फिर यह भागदौड़ किस लिए?  लेकिन समाज में कुछ लोग इस तरह के भी हैं जो अपने लाभ कि लिए श्मशान भूमि का दुरुपयोग करने से भी नहीं चूकते। कुछ इसी तरह का नजारा देखा जा सकता है यहां के गोनियाना रोड़ स्थित श्मशान भुमि का जहां किसी टैंट वाले ने अपने कपड़े धोने के लिए श्मशान भूमि को ही धोबीघाट बना डाला है। 

श्मधान घाट को ही बना रखा है धोबी घाट

गौरतलब है कि शहर में तीन बड़े श्मशान हैं जिनमें बठिंडा रोड पर शिव धाम, जलालाबाद रोड पर शिवश्क्ति धाम व गोनियाना रोड पर राम बाग शामिल हैं। गोनियाना रोड स्थित श्मशान भूमि में अबेाहर रोड, गोनियाना रोड़ व छोटे तालाब के आस पास के क्षेत्र से लगभग सभी धर्मों के लोगों द्वारा परिवार में किसी के देहांत पर उसका अंतिम संस्कार किया जाता है। लेकिन उक्त श्मशान भूमि को एक टैंट हाउस मालिक द्वारा अपने फायदे के लिए इश्तेमाल किया जा रहा है। सोमवार को भी यह नजारा दिखाई दिया तथा उक्त टैंट हाउस के मैट पहले श्मशान घाट की ही पानी की मोटर व बिजली का इश्तेमाल कर तसल्ली पूर्वक घोए गए तथा बाद में अंतिम संस्कार करने के लिए बनाई गई जगह के आस पास लोगों के खड़े होने के लिए लगाए फर्श पर सुखा दिए गए। सूखने के बाद उन्हें तय करके लोगों के बैठने वाले बैंचों पर रख दिया गया। हालांकि आज उस समय कोई संस्कार के लिए नहीं आया, लेकिन पिछले दिनों भी कुछ इसी तरह देखा गया था तब अंतिम संस्कार करने के लिए आए लोगों का कहना था कि कम से कम इस जगह को तो अपने फायदे के लिए प्रयोग करने से लोगों को बाज आना चाहिए। 
इस संबंघ में श्मशान भूमि कमेटी के प्रधान वकील सिंह ने संपर्क करने पर कहा कि वह टैंट वाले को कपड़े धोने के लिए मना करके आए थे। उनके अनुसार वह अभी वहां देखरेख करने वाले काका नामक व्यक्ति से पूछ पड़ताल करते हैं तथा आगे से इस तरह नहीं होने दिया जाएगा।

No comments

Ads Place